DA Image
26 मई, 2020|9:45|IST

अगली स्टोरी

Corona Lockdown:लॉकडाउन के दौरान खाने-पीने पर रखें कंट्रोल, वरना बढ़ जाएगा वजन

diabetes junk food

घर में रहने के दौरान बहुत से लोग अपने ज्यादा खाने की आदत से परेशान होने लगे हैं। कई लोग लॉकडाउन से जुड़ी चिंताओं से बचने के लिए खुद को व्यस्त रखना चाहते हैं और इस वजह से हर वक्त कुछ न कुछ खाते रहते हैं। मनोवैज्ञानिक मानते हैं कि अकेलेपन या किसी डर से बचने के लिए लोग स्वादिष्ट भोजन में खुशी ढूंढने लगते हैं। डायटीशियन कहते हैं कि क्वारंटाइन के वक्त पैदा हो रही ऐसी आदतें लोगों का वजन अचानक से बढ़ा सकती हैं, जिससे उन्हें शारीरिक समस्याएं पैदा होंगी।

भोजन के बीच अंतराल रखें
अक्सर परिवारवाले अपने बच्चों को स्नेह में खाने-पीने से टोकते नहीं हैं, अगर आप वयस्क हैं तो अपनी खाने-पीने की आदतों पर खुद नजर रखें।  वहीं, अगर आप अभिभावक हैं तो अपने बच्चों के खाने के तरीकों पर ध्यान दें और उन्हें समझाएं। डायटीशियन सलाह देते हैं कि अपने और बच्चों के खाने का एक डायट चार्ट बनाएं। तय समय पर ही खाएं और दो समय के भोजन के बीच अंतराल रखें। बार-बार नमकीन, बिस्कुट न खाएं और इस डायट चार्ट का पूरा पालन करें।

कम संसाधन में जीना सिखाएं
लॉकडाउन के इस वक्त में देश और दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्हें जीने की जरूरी चीजों के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। अपने बच्चों को ऐसे लोगों के बारे में बताएं ताकि वे भोजन का महत्व समझ सके। उन्हें बताएं कि जब पूरी दुनिया को एक-दूसरे के साथ की जरूरत है तो हम ऐसे वक्त में कम से कम संसाधन में जिएंगे। हम खाने के लिए जीने की जगह जीने के लिए खाएंगे। आप जब घर में इस बात का पालन करेंगे तो आपके बच्चे भी खुद को जिम्मेदार महसूस करेंगे।
 
खेल-खेल में कसरत कराएं
अपने बच्चों को शारीरिक रूप से घर में सक्रिय रखने के लिए जरूरी है कि वे हर दिन उतना ही खेले जितने स्कूल और पार्क में खेलने जाते थे। इसके लिए अपने घर के सभी सदस्यों का सहयोग लें। सभी साथ में बैठकर ऐसे खेल खेले जिसमें सभी की कसरत भी हो जाए। इस तरह आपका भी समय कटेगा और बच्चे जो भी खाएंगे वो पचता रहेगा। बच्चों के खिलौनों को जरूर संक्रमण रहित करते रहे, जिसके लिए गर्म पानी का इस्तेमाल करें।

व्यवहार पर नजर जरूरी  
बच्चों और अपने व्यवहार पर नजर रखें ताकि चिंता के लक्षण नजरअंदाज न होने पाएं। साथ ही ऐसा न हो कि बच्चा टीवी देखते-देखते घंटों खाना खाता रहे या फिर खेल में खाना भूल जाए। उनके मीडिया टाइम पर भी नजर रखें। बच्चे चिड़चिड़े हो रहे हों या कम नींद लें तो सतर्क हो जाएं। बच्चों को बताएं कि स्कूल खुलने पर उनके ऊपर पढ़ाई का कोई बोझ नहीं बढ़ेगा। उन्हें यह समय अलग न लगे इसलिए उन्हें एक तय रूटीन में रखें और रुटीन पालन कराने में उनका रोलमॉडल बनें।

चिंता से बढ़ता है वजन
जब हम चिंता करते हैं तो शरीर में स्टेरॉयड हार्मोन ‘कॉर्टिसॉल’ की मात्रा बढ़ जाती है जो पेट में बसा को बढ़ा देती है । इस तरह शरीर का वजन अनियंत्रित ढंग से बढ़ने लगता है। ऐसे समय में अगर शरीर से ज्यादा काम न लिया जाए तो शरीर की कैलोरी भी बर्न नहीं होती जिससे वजन बढ़ता चला जाता है।  

इनका सेवन करें
गाजर: इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो पाचन शक्ति बढ़ाता है औ वजन नियंत्रित रखता है।
चुकंदर: इसमें भी वजन घटाने वाला फाइबर पाया जाता है। इसका सलाद या जूस लेने से भूख कम लगती है।
दालचीनी- न्यूट्रीशन साइंस और विटमिनोलॉजी की रिपोर्ट के अनुसार दालचीनी के नियमित सेवन से वजन कम होगा।
मेथी के बीज : यह शरीर के मेटाबॉलिज्म सिस्टम को दुरुस्त रखकर खाने की इच्छा को कम करता है।
अमरूद : फाइबरयुक्त अमरूद आपकी पाचन शक्ति को मजबूत करता है और वजन घटाने में सहायक होता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Tips to control over eating and drinking during lockdown otherwise it can cause obesity