DA Image
12 अगस्त, 2020|3:56|IST

अगली स्टोरी

पसीने से विटामिन- सी के स्तर का पता लगाएगा यह सेंसर, जानें कैसे करता है काम

वैज्ञानिकों ने एक ऐसा बायोसेंसर बनाया है जो न सिर्फ विटामिन सी, बल्कि शरीर में अन्य पोषक तत्वों को ट्रैक कर सकता है। कैलिफोर्निया विश्वविद्यलय (यूसी) सैन डिएगो की एक टीम ने एक पहनने योग्य, विटामिन सी सेंसर विकसित किया है। यह उपयोगकर्ताओं को उनके दैनिक पोषण और आहार को ट्रैक करने के लिए एक नया विकल्प प्रदान कर सकता है। 

मधुमेह की भी करेगा निगरानी-
यूसी सैन डिएगो के जूलियन सेम्पियोनाट्टो ने कहा पहनने योग्य सेंसर पारंपरिक रूप से शारीरिक गतिविधि पर नजर रखने, मधुमेह में रोग विकारों की निगरानी के लिए बनाया गया है। यह आवश्यक विटामिन के स्तर में परिवर्तन को ट्रैक करने के लिए एंजाइम-आधारित दृष्टिकोण का उपयोग करने वाला पहला सेंसर है।  नैनो सेनियरिंग के प्रोफेसर और यूसी सैन डिएगो में पहनने योग्य सेंसर के निदेशक जोसेफ वांग ने कहा पहनने योग्य सेंसर को शायद ही पहले कभी पोषण के लिए सटीक माना गया हो। यह अध्ययन एसीएस सेंसर पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।

शरीर के लिए जरूरी है विटामिन सी-
विटामिन सी का हमारे आहार में एक अहम स्थान होता है, क्योंकि यह मानव शरीर द्वारा उत्पन्न नहीं किया जा सकता है, भोजन के माध्यम से या विटामिन की खुराक के माध्यम से प्राप्त किया जाता है। विटामिन प्रतिरक्षा स्वास्थ्य और मज्जा (कोलेजन) उत्पादन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह घावों को भरता है, साथ ही पौधे आधारित खाद्य पदार्थों से लोहे की मात्रा को अवशोषित करता है। 

कोविड से उबरने में मदद-
कोविड-19, सार्स-सीओवी-2 वायरस के कारण होने वाली बीमारी से उबरने के लिए कई नैदानिक परीक्षणों में विटामिन का अध्ययन किया जा रहा है। पिछले अध्ययनों में बताया गया है कि विटामिन सी की खुराक बीमारी से उबरने में मदद करता है। अन्य उपचारों के साथ, सेप्सिस के रोगियों में मृत्यु दर कम करने के लिए और, तीव्र श्वसन संकट सिंड्रोम (एआरडीएस), कोविड-19 जैसे गंभीर बीमारियों में इसका अधिकतर उपयोग बताया जा रहा है।

कैसे काम करता है उपकरण- 
नए पहनने योग्य उपकरण में एक चिपकने वाला पैच होता है जिसे उपयोगकर्ता की त्वचा पर लगाया जा सकता है। जिसमें पसीना निकालने वाली एक प्रणाली होती है, पसीने में विटामिन सी के स्तर का जल्दी पता लगाने के लिए एक इलेक्ट्रोड सेंसर को डिजाइन किया गया है। ऐसा करने के लिए, डिवाइस में एंजाइम एस्कॉर्बेट ऑक्सीडेज वाले लचीले इलेक्ट्रोड लगे होते हैं। जब विटामिन सी मौजूद होता है, तो एंजाइम इसे डीहाइड्रोस्केरोबिक एसिड में परिवर्तित कर देता है और ऑक्सीजन की खपत के कारण एक करंट उत्पन्न होता है जिसे उपकरण द्वारा मापा जाता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:This newly invented sensor will detect vitamin C level in the body by the sweat of a person