DA Image
18 नवंबर, 2020|7:20|IST

अगली स्टोरी

'वर्क फ्रॉम होम' ने बढ़ाया तनाव तो 'फील गुड' के लिए दिन में खुले रखें खिड़की-दरवाजे

emotional-stress

कोरोनाकाल में नकारात्मक भावनाओं को मन में आने से रोकना मुश्किल है, खासकर तब जब आप ‘वर्क फ्रॉम होम’ में काम के अतिरिक्त बोझ तले दबे हुए हों। हालांकि, अमेरिकी कंपनी ‘क्लीन माई स्पेस’ के हालिया अध्ययन की मानें तो दिन में घर के खिड़की-दरवाजे खुले रखना या फिर उन पर हल्के रंग-कपड़े के पर्दे डालना ‘फील गुड’ का एहसास जगाने में खासा मददगार साबित हो सकता है। कर्मचारियों का खिड़की के पास ऑफिस टेबल लगाना भी तनाव घटाने में कम असरदार नहीं।

मुख्य शोधकर्ता एनी संतुली के मुताबिक प्राकृतिक प्रकाश स्ट्रेस हार्मोन ‘कॉर्टिसोल’ के स्त्राव में कमी लाता है। इसके संपर्क में रहने से तन-मन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है, जो चिड़चिड़ापन घटाने और उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए लिहाज से अहम है।

संतुली ने ऑफिस टेबल पर सामान का ढेर लगाने से भी बचने की नसीहत दी। उन्होंने स्पष्ट किया कि टेबल जितनी साफ-सुथरी और व्यवस्थित रहेगी, दिमाग उतना ही शांत व स्थिर महसूस करेगा। इससे काम में मन लगाने के साथ ही रचनात्मक विचार सुझाने में मदद मिलना लाजिमी है।

ये उपाय भी आएंगे काम- 
1.पसंदीदा सामान पहुंच में रखें
-मन को सुकून पहुंचाने वाली चीजें अपनी पहुंच में रखें। मिसाल के तौर पर आपको लैवेंडर या गुलाब की खुशबू पसंद है तो उसे ऑफिस टेबल के पास रखें। रंग और रोशनी को देखकर अच्छा महसूस होता है तो मोमबत्ती जलाने या पेंटिंग बनाने में देरी न करें।

2.पेड़-पौधों से दोस्ती
-विभिन्न अध्ययनों में पेड़-पौधों की हरियाली को सेरोटोनिन और डोपामाइन जैसे ‘फील गुड’ हार्मोन का उत्पादन बढ़ाने में कारगर करार दिया जा चुका है। ऐसे में घर के जिस कोने में सबसे ज्यादा समय गुजारते हैं, वहां पसंदीदा पौधे रखना न भूलें।

3.टीवी के असर को पहचानें
-टीवी के शोर से चिड़चिड़ापन महसूस हो तो ऑफिस टेबल उससे दूर लगाएं। न्यूज देखते समय मन में बेचैनी का भाव पैदा हो तो चैनल फौरन बदल दें। फोन पर कोई कॉमेडी शो या रोमांटिक फिल्म देखें। दिमाग को सुकून पहुंचाने वाला संगीत सुनना भी फायदेमंद रहेगा।

4.तकिये-कुशन की संख्या बढ़ाएं
-मन में मखमली एहसास जगाने वाली वस्तुओं को आसपास रखना भी तनावमुक्त रहने में खासा मददगार साबित हो सकता है। इसलिए घर में कुशन और तकिये की संख्या बढ़ाएं। पेंटिंग, फर्नीचर सहित अन्य असेसरीज के जरिये अलग-अलग कोनों की भूमिका तय करें।

'वर्क फ्रॉम होम' ने बढ़ाया तनाव-
-59% कर्मचारियों ने ‘वर्क फ्रॉम होम’ में ऑफिस से कहीं ज्यादा काम करने की बात कही
-91% ने अतिरिक्त काम के बदले कोई भत्ता या छुट्टी न दिए जाने पर नाखुशी जाहिर की
-87% का मानना है कि नियोक्ताओं को ‘वर्क फ्रॉम होम’ के लिए पारदर्शी नीति बनानी चाहिए

शारीरिक-मानसिक स्वास्थ्य पर असर
-56% में पीठ-कमर-कंधे में दर्द, 52% में अनिद्रा और 38% में सिरदर्द की समस्या पनपी
-54% घर में रहते हुए भी बीवी-बच्चों, अभिभावकों के साथ अच्छे पल बिताने को तरसे
-33% को लॉकडाउन के शुरुआती महीनों में छुट्टी नहीं मिलने से बेचैनी की शिकायत हुई
(स्रोत : योर एमिगोज फाउंडेशन का सर्वे)

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Simple Ways to Relieve Stress and Anxiety: Work from home increased stress so keep window doors open during the day to feel good