DA Image
19 सितम्बर, 2020|4:53|IST

अगली स्टोरी

दोस्ती को मजबूत करती है जलन की भावना,शोधकर्ताओं का दावा

relationship

दोस्ती में जलन बुरी नहीं होती। दोस्त होने से लोग स्वस्थ रहते हैं। जो लोग दोस्त नहीं बनाते उनमें  दिल की बीमारियों से मौत का खतरा और वायरस से बीमार पड़ने का खतरा ज्यादा होता है। अरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी, ओकलाहोमा स्टेट यूनिवर्सिटी और हैमिल्टन कॉलेज  के नए शोध से पता चलता है कि दोस्तों के बीच में जलन की भावना होने से दोस्ती मजबूत होती है। 

जलन की भावनाएं दोस्ती के मूल्य से संबंधित थीं और मित्रता को बनाए रखने वाले व्यवहार से भी प्रेरित थीं। इस शोध को जर्नल ऑफ पर्सनैलिटी एंड सोशल साइकोलॉजी में प्रकाशित किया गया है। शोधकर्ता जेमी ऐरोने क्रेम्स ने कहा, दोस्त सिर्फ मजे के लिए नहीं होते। वे एक महत्वपूर्ण संसाधन हैं, विशेषकर हमारी वर्तमान स्थिति में चल रहे कोविड -19 के प्रकोप के साथ। 

मित्र संघर्ष के दौरान समर्थन देते हैं, अकेलेपन से जूझने में मदद करते हैं और यहां तक कि जब हमें उनकी आवश्यकता होती है तो जीवन निर्वाह के संसाधन भी प्रदान कर सकते हैं। हम जानना चाहते थे कि दोस्तियां कैसे काम करती हैं और हमें पता चला कि जलन दोस्ती को बरकरार रखने में मदद करती है। 

कब आती है जलन की भावना-
दोस्ती के लिए सभी खतरे जलन पैदा नहीं करते हैं। अगर एक सबसे अच्छा दोस्त चला गया, तो लोगों को ईर्ष्या की तुलना में उदासी और क्रोध ज्यादा महसूस होता। लेकिन, जब किसी दूसरे व्यक्ति द्वारा दोस्ती में खतरा पैदा होता है, जैसे एक नया रोमांटिक साथी या नया दोस्त, इसमें जलन की भावना प्रमुख हो जाती है। 

सबसे अच्छे दोस्त को रोमांटिक पार्टनर मिल जाने से जलन की भावना तब पैदा होती है जब तीसरा व्यक्ति दोनों के बीच  दरार डालने की कोशिश करता है। ऐसे में दोस्तों के बीच संबंध और मजबूत होते हैं और एक दोस्त अपने दोस्त की बेहतरी के लिए उसका बचाव करता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:researchers claim Feeling of jealousy strengthen the bond of friendship