DA Image
7 मई, 2021|10:40|IST

अगली स्टोरी

कहीं मास्क के इस्तेमाल में आप तो नहीं कर रहे ये बड़ी गलती? बढ़ सकता है कोरोना का खतरा

corona prevention

कोरोना वायरस पहले से भी विकराल रूप लेकर सामने आया है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि डबल म्यूटेंट वायरस काफी खतरनाक है। इस बीमारी का इलाज अभी तक नहीं खोजा गया है, ऐसे में खुद को सुरक्षित करने के लिए सतर्क रहना ही सबसे अच्छा तरीका है। कोरोना से बचने के लिए बीते साल से मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिग पर जोर दिया जा रहा है। हालांकि लोग इसमें बड़ी चूक कर रहे हैं जिनसे वायरस से संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है। यहां एक्सपर्ट्स के सुझाए कुछ तरीके हैं जिनसे आपको कोरोना से बचाव करने में काफी मदद मिल सकती है। 


मास्क लगाने में ना करें ये गलती

कोरोना से बचने के लिए लोग मास्क का इस्तेमाल कर रहे हैं। हालांकि इसमें बड़ी चूक लोगों की मुश्किलें बढ़ा रही है। किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी, लखनऊ के पल्मोनरी ऐंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन हेड डा. वेद प्रकाश ने बताया, मास्क की बाहरी सतह पर कोरोना वायरस के पाए जाने के चांसेज सबसे ज्यादा होते हैं। जब आप मास्क पहनकर बाहर निकलते हैं या किसी कोरोना संक्रमित से बात करते हैं तो आपके मास्क पर वायरस होने के संभावना होती है। ऐसे में अगर आप कुछ देर बाद मास्क को निकालकर जेब में, बैग में या हाथ में ले लेते हैं तो वहां वायरस पहुंच सकता है। लोग मास्क छूकर अक्सर हाथ धोना और सैनिटाइज करना भूल जाते हैं और इसको लेकर जरा भी सतर्कता नहीं बरतते। यह तरीका संक्रमण के खतरे को बढ़ा सकता है। बेहतर होगा आप मास्क को कॉमन जगह पर ना रखें। इसे पेपर बैग में रखें और हटाने के बाद हाथ धोएं। डॉ वेद प्रकाश सलाह देते हैं कि बाहर निकलें या घर पर कोविड पेशंट हो तो दो मास्क का इस्तेमाल करें। अंदर सर्जिकल मास्क और बाहर से टाइट फिटेड लिनेन मास्क लगाएं।

 

 


क्या कहते हैं एक्सपर्ट

हाल ही में खबरें थीं कि कोरोना वायरस हवा में फैल रहा है। इस पर मैरीलैंड यूनीवर्सिटी ऑफ मेडिसिन के डॉक्टर फहीम यूनुस का कहना है कि चिंता ना करें। दो N95 या K95 मास्क खरीदें। एक दिन में एक मास्क लगाएं। 1 दिन इस्तेमाल करने के बाद इसको पेपर बैग में रख दें। अगले दिन दूसरा मास्क इस्तेमाल करें। ऐसे 24 घंटे पर बदलकर मास्क इस्तेमाल करते रहें। अगर ये खराब ना हो तो इसे हफ्तों इस्तेमाल किया जा सकता है। कपड़े के मास्क हटा दें। उन्होंने बताया था कि हवा में कोरोना होने का मतलब यह नहीं कि हवा संक्रमित है। इसका मतलब है कि वायरस हवा में ज्यादा देर टिक रहा है। घर के अंदर वेंटिलेशन का ध्यान जरूर रखें।


सैनिटाइजर का इस्तेमाल

सैनिटाइजर का इस्तेमाल भी लोग जल्दबाजी में कर रहे हैं। बेस्ट तरीका है कि आप साबुन से हाथों को कम से कम 20 सेकेंड तक अच्छी तरह से धोएं। वहीं सैनिटाइजर इस्तेमाल कर रहे हैं तो ध्यान रखें कि हाथ का हर हिस्सा सैनिटाइज हो। वहीं सैनिटाइजर की बाहरी सतह में भी संक्रमण हो सकता है क्योंकि आप इसे गंदे हाथों से यूज करते हैं। पैर वाला सैनिटाइजर बेस्ट ऑप्शन है। अगर ऐसा नहीं है तो स्प्रे वाला सैनिटाइजर यूज करें।

 

 

नोट: ये जानकारी आपको सिर्फ अलर्ट करने के लिए है, डराने के लिए नहीं। एक्सपर्ट्स की मानें तो कोरोना के ज्यादातर मरीज 14 दिन के अंदर ठीक हो जाते हैं। 10 फीसदी से कम लोग होते हैं जिनकी हालत दूसरे हफ्ते में बिगड़नी शुरू होती है। डॉक्टर फहीम यूनुस के मुताबिक अगर 2 हफ्ते में आपकी हालत नहीं बिगड़ी तो मतलब है कि आप ठीक हो रहे हैं। 

 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:precautions while touching your mask and sanitizer to be safe from corona