DA Image
हिंदी न्यूज़ › लाइफस्टाइल › प्राणायाम करने का सही समय क्या है? इससे करने से पहले जान लें ये नियम 
लाइफस्टाइल

प्राणायाम करने का सही समय क्या है? इससे करने से पहले जान लें ये नियम 

लाइव हिन्दुस्तान टीम ,नई दिल्ली Published By: Pratima Jaiswal
Sun, 01 Aug 2021 02:32 PM
प्राणायाम करने का सही समय क्या है? इससे करने से पहले जान लें ये नियम 

जिंदगी में अक्सर उथल-पुथल मची रहती है। जिसके चलते मन बहुत अशांत हो जाता है। ऐसे में आप किसी अपने से बात करने के अलावा योग और प्राणायाम का सहारा भी ले सकते हैं। अक्सर सभी के मन में सवाल उठता है कि प्राणायाम करने का सही समय क्या है? इससे पहले यह जान लेना बहुत जरूरी है कि प्राणायाम आखिर क्या है- 


प्राणायाम क्या है? 
योग के आठ अंगों में से चौथा अंग है प्राणायाम। प्राण+आयाम से प्राणायाम शब्द बनता है। प्राण का अर्थ जीवात्मा माना जाता है, लेकिन इसका संबंध शरीरांतर्गत वायु से है जिसका मुख्य स्थान हृदय में है। व्यक्ति जब जन्म लेता है तो गहरी श्वास लेता है और जब मरता है तो पूर्णत: श्वास छोड़ देता है। तब सिद्ध हुआ कि वायु ही प्राण है। आयाम के दो अर्थ है- प्रथम नियंत्रण या रोकना, द्वितीय विस्तार।
हम जब साँस लेते हैं तो भीतर जा रही हवा या वायु पाँच भागों में विभक्त हो जाती है या कहें कि वह शरीर के भीतर पाँच जगह स्थिर हो जाता हैं। ये पंचक निम्न हैं- (1)व्यान, (2)समान, (3)अपान, (4)उदान और (5)प्राण।
 

प्राणायाम करने का आदर्श समय 
प्राणायाम करने का सबसे सही समय सुबह है। सुबह खाली ही प्राणायाम करना चाहिए। व्यायाम करते समय भोजन पर भार न डालें क्योंकि यह आपके कसरत की प्रभावशीलता को कम कर देगा। आपको इसे हमेशा सुबह जल्दी करने की जरूरत नहीं है। बस आपका पेट खाली होना चाहिए और अपशिष्ट उत्पादों से मुक्त होना चाहिए। अगर आप इसे दिन के दौरान करते हैं, तो भोजन के बाद कम से कम 3 से 4 घंटे का ब्रेक लें। चाय और फलों के मामले में, पानी पीने के बाद 45 मिनट 15 मिनट तक इंतजार करें।

एक्सरसाइज से कम महत्वपूर्ण नहीं है प्राणायाम 
साफ और शांत जगह पर बैठें। अपने मन को शांत, व्यवस्थित रखें और सही मुद्रा में बैठें।
दोहराव के एक खास नंबर का अभ्यास करें ।विभिन्न प्रकार के प्राणायाम के साथ प्रयोग करके देखें कि कौन सा आपके लिए सबसे अच्छा काम करता है।
प्राणायाम केवल सांस लेने और छोड़ने के बारे में नहीं है। 
इसे करते समय अपनी श्वास को नियंत्रित करने का प्रयास करें।आप 'm' मंत्र का जाप भी कर सकते हैं। 
इससे ध्यान केंद्रित करने में आसानी होती है।जल्दबाजी में प्राणायाम न करें। शांत रहें और अपना समय लें।
 

संबंधित खबरें