Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ लाइफस्टाइलइन दो ब्लड ग्रुप वाले लोगों को कोरोना वायरस का ज्यादा खतरा

इन दो ब्लड ग्रुप वाले लोगों को कोरोना वायरस का ज्यादा खतरा

वरिष्ठ संवाददाता,नई दिल्लीPratima Jaiswal
Wed, 01 Dec 2021 08:36 AM
इन दो ब्लड ग्रुप वाले लोगों को कोरोना वायरस का ज्यादा खतरा

इस खबर को सुनें

कोरोना वायरस पर हुए एक अध्ययन में नई जानकारी सामने आई है। एक हालिया रिसर्च में पता चला है कि व्यक्ति के रक्त समूह के हिसाब से शरीर पर कोरोना वायरस का असर होता है। कुछ रक्त समूह वाले लोगों के संक्रमित होने का खतरा ज्यादा रहता है। साथ ही इस हिसाब से मरीज जल्दी या देर से स्वस्थ होता है। खासकर, ए और बी रक्त समूह वालों को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है।

यह अध्ययन सर गंगाराम अस्पताल के डिपार्टमेंट ऑफ ब्लड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन ने किया है। यह अध्ययन फ्रंटियर्स इन सेल्युलर एंड इंफेक्शन माइक्रोबायोलॉजी में प्रकाशित हुई है। इसमें बताया गया है कि रक्त समूह ए और बी वाले लोगों में कोरोना से संक्रमित होने की आशंका ज्यादा रहती है। इन रक्त समूह के लोग कोविड के प्रति अति संवेदनशील होते हैं, जबकि ओ और एबी रक्त समूह वाले लोग संक्रमण से कम प्रभावित हुए हैं। रिसर्च में यह भी बताया गया है कि रक्त समूह का रोग की गंभीरता और मृत्यु दर से कोई संबंध नहीं है।

पुरुषों को अधिक खतरा
ब्लड ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग के डॉक्टर विवेक रंजन ने बताया कि इस अध्ययन के माध्यम से यह भी पता चला है कि बी+ रक्त समूह के पुरुष रोगियों में महिलाओं की तुलना में कोविड-19 का खतरा अधिक है। वहीं 60 साल के जिन लोगों का रक्त समूह बी और एबी है, उनमें संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है। रक्त समूह ए और आरएच+ के मरीजों को कोरोना से स्वस्थ होने में अधिक समय लगा, जबकि रक्त समूह (ओ) वाले लोग जल्दी स्वस्थ हो गए थे। इन लोगों में संक्रमण के लक्षण ज्यादा दिनों तक नहीं दिखाई दिए।

 2586 कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों पर शोध
अस्पताल के डिपार्टमेंट ऑफ रिसर्च की कंसल्टेंट डॉक्टर रश्मि राणा ने बताया कि रक्त समूह और कोरोना वायरस के बीच संबंध पता लगाने के लिए यह अध्ययन किया गया। इसमें रक्त समूह के साथ कोविड-19 की संवेदनशीलता, बीमारी का इलाज, स्वस्थ होने में लगने वाला समय और मृत्यु दर की जांच की गई है। इस अध्ययन में 2586 कोरोना पीड़ितों को शामिल किया गया। इन्हें 8 अप्रैल 2020 से 4 अक्तूबर 2020 के बीच गंगाराम में भर्ती कराया गया था।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें