फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ लाइफस्टाइल Why Do Kids Bully : पेरेंट के ऐसे बिहेवियर की वजह से बच्चे बन सकते हैं बुली 

Why Do Kids Bully : पेरेंट के ऐसे बिहेवियर की वजह से बच्चे बन सकते हैं बुली 

बच्चों के अंदर गुस्सा, हीनभावना और नफरत जैसे भाव बचपन से ही होते हैं, जिसकी वजह से उन बच्चों को हर किसी पर गुस्सा आता है। कई बार ऐसा होता है कि इन बच्चों के बुली करने की वजह उनके पेरेंट का बिहेवियर हो

 Why Do Kids Bully : पेरेंट के ऐसे बिहेवियर की वजह से बच्चे बन सकते हैं बुली 
Pratima Jaiswalलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 24 Jun 2022 06:38 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

आपने कई बच्चों को देखा होगा कि वे दूसरे बच्चों को परेशान करते हैं या फिर बिना वजह उन्हें मारते हैं। शुरुआत में ऐसा लग सकता है कि बच्चे इसी तरह से खेलते हैं लेकिन आप ध्यान देंगे, तो पाएंगे कि कुछ बच्चों के अंदर गुस्सा, हीनभावना और नफरत जैसे भाव बचपन से ही होते हैं, जिसकी वजह से उन बच्चों को हर किसी पर गुस्सा आता है। कई बार ऐसा होता है कि इन बच्चों के बुली करने की वजह उनके पेरेंट का बिहेवियर होता है। आइए, जानते हैं कि आखिर कौन-सी हो सकते हैं वे कारण- 


बच्चे को दूसरे से कम्पेयर करना 
हर बच्चे की पर्सनैलिटी अलग होती है। ऐसे में आपको हमेशा अपने बच्चों की तुलना दूसरे बच्चों से नहीं करनी चाहिए। ऐसा करने से बच्चे के मन में हीनभावना आने के साथ गुस्सा भी भरता जाएगा। 


बच्चों को मारना-पीटना 
बच्चों को मारने से भी उनके अंदर गुस्सा भरता जाता है। आपके सामने कमजोर होने की वजह से वे आपका मुकाबला नहीं कर पाते लेकिन खुद को मजबूत दिखाने के लिए अपने से कमजोर बच्चों को बुली करके खुद का गुस्सा शांत करते हैं।  


बच्चों को सुपीरियर बताना 
अपने बच्चों को कम नहीं समझना चाहिए लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि आप अपने बच्चों को सुपीरियर समझने लगें। ऐसा करने से बच्चों को भी लगेगा कि वे सबसे आगे है और उसके सामने सभी लोग बहुत छोटे हैं। 

यह भी पढ़ें : वीकेंड को रखना है रिलैक्स और खुशनुमा, तो ये 5 टिप्स आ सकती हैं आपके काम


दूसरे बच्चों को बुली करने के लिए उकसाना 
कुछ पेरेंट अपने बच्चों को निडर बनाने के लिए उन्हें दूसरे बच्चों को मारना या परेशान करना सिखाते हैं लेकिन ऐसा करने से आपका बच्चा बहुत ही बुरा इंसान बनेगा। निडर और बुली बनने में बहुत फर्क है इसलिए अपने बच्चों को हमेशा दूसरे बच्चों के साथ मिल-जुलकर खेलना सिखाएं। 

ज्यादा लाड़-प्यार के चक्कर में आपकी इन आदतों की वजह से बिगड़ते हैं बच्चे

 

epaper