DA Image
हिंदी न्यूज़ › लाइफस्टाइल › वजन बढ़ना हो या आंखों की रोशनी, बच्चों के लिए बेहद फायदेमंद है मक्का, जानें कई फायदे
लाइफस्टाइल

वजन बढ़ना हो या आंखों की रोशनी, बच्चों के लिए बेहद फायदेमंद है मक्का, जानें कई फायदे

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Manju Mamgain
Thu, 29 Jul 2021 05:18 PM
वजन बढ़ना हो या आंखों की रोशनी, बच्चों के लिए बेहद फायदेमंद है मक्का, जानें कई फायदे

Corn Benefits For Babies: बच्चों के विकास के लिए भुट्टा बेहद फायदेमंद माना गया है। यह फाइबर, विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सिडेंट से समृद्ध अनाज है, जो सेहत से जुड़ी कई समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है। शोध के मुताबिक, मक्के में पर्याप्त मात्रा में मौजूद प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट बच्चों के लिए बेहतरीन आहार माना जा सकता है। हालांकि 6 माह से बड़े बच्चे के आहार में पीसकर पका हुआ मक्का शामिल करना चाहिए। आइए जानते हैंबच्चों के विकास के लिए भुट्टा कैसे है बेहद फायदेमंद।

भुट्टे के फायदे-
-जिन बच्चों का वजन कम होता है, उनके आहार में कैलोरी की मात्रा बढ़ाने के लिए मकई का इस्तेमाल कर सकते हैं। एक शोद्य के अनुसार, मकई में कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट अधिक मात्रा में पाए जाते हैं, जो शिशु का वजन बढ़ाने में कारगर हो सकते हैं।
-मक्के में कई प्रकार के मिनरल और विटामिन होते हैं, जो शिशु के विकास में सहायक होते हैं।
-बच्चे को पाचन या कब्ज की शिकायत है, तो मकई उसके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। इसमें फाइबर होता है, जो कब्ज से राहत दिला सकता है।
- आंखों और त्वचा के लिए मक्का फायदेमंद हो सकता है। इस बात की जानकारी एनसीबी (National Center For Biotechnology Information) की वेबसाइट पर पब्लिश एक रिसर्च पेपर से मिलती है। शोध के मुताबिक, पीले मक्के के दानों में कैरोटीनोइड नामक पदार्थ मौजूद होता है, जो आंखों की रोशनी के लिए लाभकारी हो सकता है। 
-बड़ों के साथ-साथ बच्चों को भी भुट्टे जरूर खाना चाहिए। इससे उनके दांत मजबूत होते हैं।
-भुट्टे खाने के बाद जो भुट्टे का भाग बचता है उसे फेंकें नहीं बल्कि उसे बीच से तोड़कर सूंघें। ऐसा करने से जुकाम में बड़ा फायदा मिलता है। 
-कॉर्न विटामिन बी 12, फोलिक एसिड और आयरन से भरपूर होता है। इसे खाने से शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद मिलती है। जिससे एनीमिया का खतरा कम होता है। ऐसा करने से बच्चे की दूध पर निर्भरता कम हो जाती है।

नोट-ध्यान रखें, बच्चों के आहार में मक्का सीमित मात्रा ही शामिल करें, कुछ शोध में इस बात की जानकारी मिलती है कि मक्का बच्चों में फ्यूमोनिसिन (fumonisin) नामक विषाक्त बीमारी का कारण भी बन सकता है।

 

यह भी पढ़ें : मां बनना चाहती हैं, तो फर्टिलिटी मसाज बढ़ा सकती है आपकी प्रजनन क्षमता

संबंधित खबरें