Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ लाइफस्टाइलएक फीसदी कोरोना मरीजों को हो सकती है मस्तिष्क से जुड़ी समस्याएं

एक फीसदी कोरोना मरीजों को हो सकती है मस्तिष्क से जुड़ी समस्याएं

हिन्दुस्तान ब्यूरो ,नई दिल्लीManju Mamgain
Tue, 30 Nov 2021 04:42 PM
एक फीसदी कोरोना मरीजों को हो सकती है मस्तिष्क से जुड़ी समस्याएं

इस खबर को सुनें

अस्पताल में भर्ती एक फीसदी कोरोना मरीजों को मस्तिष्क से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। एक अंतरराष्ट्रीय अध्ययन में पाया गया है कि 100 में से एक मरीज में कोरोना के चलते केंद्रीय तंत्रिका तंत्र से जुड़ी दिक्कतें हो सकती हैं, जो मस्तिष्काघात, रक्तस्राव व अन्य घातक जटिलताओं का कारण बन सकती है।

यह अध्ययन रेडियोलॉजी सोसायटी ऑफ नॉर्थ अमेरिका (आरएसएनए) की वार्षिक बैठक में प्रस्तुत किया गया है। शोधकर्ताओं ने अमेरिका के सात और वेस्टर्न यूरोपियन यूनिवर्सिटी के चार अस्पतालों में भर्ती करीब 40 हजार कोरोना मरीजों पर अध्ययन किया। ये मरीज सितंबर 2019 और जून 2020 के बीच अस्पताल में भर्ती हुए थे, जिनकी औसत उम्र 66 वर्ष थी। इनमें पुरुषों की संख्या में महिलाओं की संख्या दोगुनी थी। 

अध्ययन में पाया गया कि अस्पताल में भर्ती होने की मुख्य वजह बुखार के बाद भ्रम और बदली हुई मानसिक स्थिति थी। इनमें से कई मरीजों को उच्च रक्तचाप, दिल संबंधी व मधुमेह जैसी अन्य बीमारियां भी थीं।  

फिलाडेलफिया की थॉमस जैफरसन यूनिवर्सिटी रेडियोलॉजी और न्यूरोलॉजी के प्रोफेसर स्कॉट एच फारो ने बताया, अध्ययन के दौरान 442 मरीजों के एमआरआई और सीटी स्कैन के निष्कर्षों से मस्तिष्क की जटिलताएं पता चलीं, जो वायरल संक्रमण से जुड़ी थी। यानी कुल मरीजों में से 1.2 फीसदी में केंद्रीय तंत्रिका तंत्र से जुड़ी जटिलताएं मिलीं।  

1.2 फीसदी का अर्थ है कि अस्पताल में भर्ती कोरोना के 100 मरीजों मे से एक को आने वाले कुछ समय में मस्तिष्क से जुड़ीं समस्या होने वाली है। इनमें से सबसे आम जटिलता इस्केमिक स्ट्रोक है, जिसकी 6.2 फीसदी की आशंका होती है। इसके बाद रक्तस्राव (3.72 फीसदी) और इंसेफेलाइिटस (0.47 फीसदी) होने की आशंका है।

शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि मरीजों को एन्सेफेलोमाइलाइिटस, मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में सूजन की भी समस्या हो सकती है। डॉ. फारो ने कहा कि कोरोना मरीजों में केंद्रीय तंत्रिका तंत्र से जुड़ी सभी जटिलताओं की सटीक घटनाओं को जानना बेहद अहम है। 

epaper

संबंधित खबरें