DA Image
6 जून, 2020|10:15|IST

अगली स्टोरी

अब झट से हो सकेगी खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता और पौष्टिकता की पहचान,स्पेक्ट्रोस्कोपी पर आधारित है नई तकनीक

700 trucks filled with medicines sanitizers groceries food stuck in the way know the reason in the n

हम जो आहार ले रहे हैं वह हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना फायदेमंद है यह जानना बेहद जरूरी है। खाद्य पदार्थों को गुणवत्ता व पौष्टिकता की कसौटी पर कसने के लिए इविवि की छात्राओं ने स्पेक्ट्रोस्कोपी पर आधारित एक नई तकनीक ईजाद की है। इसकी लागत मूल्य कम, निर्माण विधि सरल, जांच समय अत्यंत अल्प व खनिज तत्वों की जांच में बेहद कारगर है।

इविवि के भौतिकी विभाग के प्रो. केएन उत्तम के निर्देशन में शोध छात्रा श्वेता शर्मा, अभिसारिका, आराधना त्रिपाठी, छवि बरन और आरती जायसवाल इस नई तकनीक पर काम किया है। इनका शोध पत्र नरोशा पब्लिशिंग हाउस प्राइवेट लिमिटेड द्वारा प्रकाशित, 'अल्ट्रासोनिक्स एंड मैटेरियल्स साइंस फॉर एडवांस्ड टेक्नोलॉजीज' नामक अंतर्राष्ट्रीय पुस्तक में एक अध्याय के रूप में प्रकाशित हुआ है तथा जनरल ऑफ एप्लाइड स्पेक्ट्रोस्कोपी में प्रकाशन के ड्टोजा गया है।

शोध टीम ने प्रयोगशाला में डायरेक्ट करंट आर्क ऑप्टिकल एमिशन स्पेक्ट्रोस्कोपी से खाद्य-पदार्थ सत्तू में उपस्थित खनिज तत्वों की जांच की। सत्तू पाउडर की थोड़ी मात्रा कार्बन इलेक्ट्रोड के अंदर रखी गई। इलेक्ट्रोड एकदिश विद्युत धारा की आपूर्ति के साथ जुड़े थे। विद्युत धारा प्रवाहित होने के साथ सत्तू के नमूनों के लाक्षणिक विकिरण उत्सर्जित होती है। उत्सर्जित विकिरण फाइबर ऑप्टिक युग्मित फोटॉन मल्टी चैनल स्पेक्ट्रोमीटर की सहायता से विश्लेषित कर विभिन्न तत्वों की पहचान की गई। प्रयोगशाला में निर्मित यह तकनीक सत्तू जैसे खाद्य पदार्थों में उपस्थित खनिज तत्वों की जांच के लिए उपयोगी है। यह तकनीक खाद्य पदार्थों की जांच एवं गुणवत्ता नियंत्रण में भी सहायक और उपयोगी है।

सत्तू नहीं, स्वास्थ्य का एटीएम कहिए जनाब !
सत्तू में मौजूद तत्वों तक पहुंचने के लिए डायरेक्ट करंट आर्क ऑप्टिकल एमिशन स्पेक्ट्रोस्कोपी तकनीक का उपयोग किया गया। इस दौरान यह पाया गया कि सत्तू में विड्टिान्न प्रकार के खनिज तत्व जैसे पोटेशियम, मैग्नेशियम, मैगनीज, सोडियम, कैल्शियम, आयरन और क्रोमियम इत्यादि प्रचुर मात्रा में विद्यमान होते हैं। 

इन तत्वों की उपस्थिति के कारण सत्तू खाने में स्वादिष्ट एवं मानव स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाड्टादायक है। सत्तू शरीर के तापमान को नीचे लाता है। सत्तू में अघुलनशील फाइबर उच्च मात्रा में मौजूद होता है। यह कोलन की सफाई, डिटॉक्सिफाइंग, चिकना भोजन, पाचन क्रिया, पेट फूलना, कब्ज और एसिडिटी में मदद करता है। सत्तू मधुमेह रोगियों के लिए एक बढ़िया विकल्प है क्योंकि यह शुगर लेवल को बनाए रखने में मदद करता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Now the quality and nutritional value of food items can be identified quickly new technology is based on spectroscopy