DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  National Dengue Day : महामारी के बीच डेंगू के इन लक्षणों को न करें अनदेखा

जीवन शैलीNational Dengue Day : महामारी के बीच डेंगू के इन लक्षणों को न करें अनदेखा

लाइव हिन्दुस्तान टीम ,नई दिल्ली Published By: Pratima Jaiswal
Sun, 16 May 2021 11:20 AM
National Dengue Day : महामारी के बीच डेंगू के इन लक्षणों को न करें अनदेखा

कहते हैं कि कई छोटी-छोटी चीजें और आदतों पर आपकी हेल्थ निर्भर करती हैं। उसी तरह कई छोटी चीजें आपको बीमार भी बना सकती है। जैसे मच्छर के काटने से आपको डेंगू और मलेरिया जैसी बीमारियां मिल सकती है। डेंगू के प्रति जागरुकता फैलाने के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की तरफ से 16 मई को राष्ट्रीय डेंगू दिवस मनाया जाता है। डेंगू के प्रति जागरूक रहकर हम इससे बच सकते हैं। आइए, जानते हैं इससे जुड़ीं कुछ जानकारी- 

 

क्या है डेंगू 
डेंगू बुखार एक ऐसा बुखार है, जो मच्छर (Mosquito) जनित वायरल बीमारी है जिसमें सिर में दर्द, तेज बुखार, शरीर में दर्द जैसी परेशानियां होती हैं। डेंगू एक मच्छर जनित वायरल इंफेक्शन या डिजीज है, जिसमें तेज बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों एवं जोड़ों में दर्द, त्वचा पर चकत्ते आदि निकल आते हैं। यह फीमेल एडीज मच्छर के काटने से होता है। डेंगू दरअसल फ्लेविविरिडे परिवार का वायरस है। हालांकि, ये वायरस 10 दिनों से अधिक समय तक जीवित नहीं रहते लेकिन लापरवाही की गई तो डेंगू रक्तस्रावी बुखार या डीएचएफ का रूप ले सकता है जिसमें भारी रक्तस्राव, ब्लड प्रेशर में अचानक गिरावट और अंत में मौत तक हो सकती है।

 

dengu

 

डेंगू के लक्षण क्या हैं
डेंगू हल्काम और गंभीर दोनों तरीके से हो सकता है। संक्रमित होने पर इसके लक्षण 4 से 5 दिनों में दिखने लगते हैं। हल्के  लक्षण में तेज बुखार होना, सिरदर्द, मांसपेशियों, हड्डियों और जोड़ों में दर्द, उल्टी, जी मिचलाना, आंखों में दर्द होना, त्वचा पर लाल चकत्ते होना, ग्लैंड्स में सूजन होना आदि हैं। जबकि गंभीर मामले होने पर गंभीर पेट दर्द, लगातार उल्टी होना, मसूड़ों या नाक से रक्तस्राव, मूत्र, मल या उल्टी में खून आना, त्वचा के नीचे रक्तस्राव होना, सांस लेने में कठिनाई, थकान महसूस करना, चिड़चिड़ापन या बेचैनी आदि हैं।

 

डेंगू के लक्षण दिखने पर शुरूआती कदम 

-कंप्लीमट ब्लड काउंट टेस्ट कराएं, जिससे जानकारी मिले कि शरीर में प्लेईटलेट्स की क्याे स्थिति है। इसी के आधार पर डॉक्टर आपका इलाज करते हैं।

-डेंगू एनएस1 एजी के लिए एलिसा टेस्ट कराएं। इस ब्लड टेस्ट से डेंगू वायरस एंटीजन का पता चलता है।

-पीसीआर टेस्ट कराएं। इसे आप शुरूआती चरण में करा सकते हैं।

-सीरम आईजीजी और आईजीएम टेस्ट कराएं। इससे शरीर में एंटीबॉडीज के निर्माण के स्त र की जानकारी मिलती है।

-खूब सारा पानी और ओआरएस पिएं।

-खाने पीने पर खास ध्यान रखें। सूप, काढ़ा, नारियल पानी, अनार आदि का अधिक सेवन करें, खिचड़ी व दलिया खाएं।

नोट : डेंगू के लक्षण अगर गंभीर दिख रहे हैं और मरीज को एक-साथ कई परेशानियां हो रही हैं, तो तुंरत डॉक्टर को दिखाएं। 

यह भी पढ़ें - डेंगू में अगर प्लेटलेट्स घटने लगें, तो इन घरेलू उपायों की लें मदद

 

 

संबंधित खबरें