DA Image
12 जुलाई, 2020|6:23|IST

अगली स्टोरी

बढ़ते तापमान से दुनिया के लिए खतरा बने कीट-पतंगे, जानें किस देश में किसने मचाया आतंक

flying ant

कई वैज्ञानिक पहले ही चेतावनी दे चुके हैं कि लॉकडाउन और बढ़ती गर्मी ने आक्रामक मच्छरों और कीट-पतंगों के झुंड के लिए एकदम सही प्रजनन की परिस्थितियां पैदा कर दी हैं। कीट-पतंगों के विशेषज्ञ हावार्ड कार्टर ने कहा, कोरोनावायरस के समय कीट-पतंगों को भगाने के लिए रिपेलेंट भी मिलना अब मुश्किल हो गया है क्योंकि यूके की सरकार ने कहा है कि सारे रिपेलेंट इस समय कोरोनावायरस से बचाव के लिए सेना को दे दिए गए हैं। 

हर गर्मियों में, कई खतरनाक और कभी-कभी घातक कीड़े और पतंगे बाहर आ जाते हैं और इंसानों को काफी नुकसान पहुंचाते हैं। गर्मी बढ़ने के कारण इन कीट-पतंगों की संख्या में इजाफा होता है। अब जब कई देशों में लॉकडाउन में ढील दी जा रही है और तापमान में भी बढ़ोतरी हो रही है तो लोगों को घरों से बाहर निकलते समय बेहद अलर्ट रहने की जरूरत। दुनियाभर के देशों में कई तरह के कीट-पतंगों में आतंक मचा रखा है। 

एशियन होर्नेट-
वैज्ञानिकों के अनुसार इस साल गर्मी में ब्रिटेन पर घातक एशियन होर्नेट नामक पतंगे कहर बरपा सकते हैं। इस जहर बहुत तेज होता है। अगर कोई व्यक्ति एलर्जी के प्रति बेहद संवेदनशील है तो इस पतंगे के काटने से उसकी मौत भी हो सकती है। वर्तमान समय का मौसम इन पतंगों के प्रजनन के लिए सही परिस्थिति पैदा कर रहा है। गर्मी के बढ़ने के कारण यह शहरों का रुख कर रहे हैं क्योंकि इन्हें जीने के लिए पानी की जरूरत होती है। एशियन होर्नेट जापान में बड़ी संख्या में पाए जाते हैं। लेकिन, अब यूरोप में इनका हमला आम होता जा रहा है। 

एशियन टाइगर मच्छर-
इस हफ्ते पड़ी भयानक गर्मी से एशियन टाइगर मच्छरों का आतंक बढ़ सकता है।  यह मच्छर ज्यादा दक्षिण पूर्वी एशिया में पाए जाते हैं, लेकिन धीरे-धीरे ये यूरोप की तरफ बढ़ रहे हैं। ये मच्छर हाल के कुछ सालों में इटली, फ्रांस और नीदरलैंड में भी काफी बढ़ गए हैं। इस मच्छरों को जीका वायरस का वाहक माना जाता है। 

जर्मन सुपर वाश्प (हड्डा)-
यह एक प्रकार का हड्डा होता है जो पीले और काले रंग का होता है, लेकिन सामान्य हड्डों से आकार में बड़ा और कहीं ज्यादा घातक होता है। यह ब्रिटेन में बड़ी मात्रा में पाए जाते हैं और खासकर गर्मियों में इनका आतंक काफी बढ़ जाता है। 

वैंम्पायर स्पाइडर-
2019 में यूके में वैंम्पायर स्पाइडर का आतंक काफी बढ़ गया था। आठ पैरों वाले इन मकड़ियों का जहर काफी खतरनाक होता है। इनके काटने से कुछ दिनों तक दर्द, सूजन और बुखार का सामना करना पड़ता है। यह भूमध्यसागरीय जलवायु में ज्यादा पाए जाते हैं। सामानों के आयात के कारण यह प्रजाति यूरोप में पहुंची है और अपने पैर पसार रही है। गर्मी बढ़ने से यह मकड़ियां कीट-पतंगों को खाने के लिए बड़ी संख्या में बाहर निकल आते हैं। 

ब्लैंडफोर्ड फ्लाई-
ब्लैंडफोर्ड फ्लाई यूके में ही पाए जाते हैं। इस पतंगों के काटने से त्वचा में सूजन और फोफले हो जाते हैं। यह मई और जून के माह में सामान्य तौर पर पनपते हैं। गर्मी में इनके पनपने का सही समय होता है।

फ्लाइंग एंट-
यह चीटियां घातक नहीं होतीं, लेकिन झुंड में इंसानों को काफी परेशान कर सकती हैं। गर्मियां में इनके पनपने का सबसे सही समय होता है। घरों में इन चीटियों के झुंड से काफी परेशानी होती है। यूरोप और एशिया में इन चीटियों को बहुत आतंक है।

अमेरिका में बढ़ा मर्डर होर्नेट पतंगे का आतंक-
महामारी के दौरान अमेरिका में मर्डर होर्नेट पतंगों का आतंक बढ़ गया है। दक्षिण पश्चिम वर्जिनिया, नॉर्थ कारोलिना और पश्चिम वर्जिनिया में 17 साल की उम्र वाले पतंगों का आतंक बढ़ सकता है। ये पतंगे ऐसे तो इंसानों को कोई शारीरिक हानि नहीं पहुंचाते लेकिन बड़ी संख्या में इनके झुंड से आने वाला आवाज सिरदर्द का कारण बन सकता है। हालांकि, ये पेड़-पौधों, फल-फूलों के पैधों को काफी नुकसान पहुंचा सकते हैं। यह अब भी रहस्य है की मर्डर होर्नेट 17 साल बाद ही क्यों बाहर आते हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि यह आपके बाग-बागीचे को काफी नुकसान पहुंचा सकते हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Moths and insects become a threat to the world due to rising temperatures know who created terror in which country