DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  AIIMS डायरेक्टर डॉ गुलेरिया ने चेताया- कोरोना में बेवजह ना कराएं सीटी स्कैन, कैंसर का है खतरा

जीवन शैलीAIIMS डायरेक्टर डॉ गुलेरिया ने चेताया- कोरोना में बेवजह ना कराएं सीटी स्कैन, कैंसर का है खतरा

टीम लाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Kajal Sharma
Mon, 03 May 2021 07:05 PM
AIIMS डायरेक्टर डॉ गुलेरिया ने चेताया- कोरोना में बेवजह ना कराएं सीटी स्कैन, कैंसर का है खतरा


कोरोना संक्रमित होने के बाद लोग कई तरह की जांचों के लिए भाग रहे हैं। ऐसे में AIIMS के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने सोमवार को सीटी स्कैन और बिना सोचे-समझे दवा लेने के खतरे बताए हैं। डॉक्टर गुलेरिया ने बताया कि सीटी स्कैन का ज्यादा इस्तेमाल आगे चलकर कैंसर काक खतरा बढ़ा सकता है। उन्होंने बताया कि सीटी स्कैन का रेडिएशन खतरनाक होता है। साथ ही कोरोना के माइल्ड केसेज में CRP और D-Dimer जैसे बायोमार्कर्स भी चेक करवाने की जरूरत नहीं है।

 

1 सीटी स्कैन में 300 X-Rays के बराबर रेडिएशन

डॉक्टर गुलेरिया ने बताया कि माइल्ड केसेज में सीटी स्कैन करवाने की जरूरत नहीं है। आपमें लक्षण ना हों फिर भी सीटी स्कैन में पैच दिख सकते हैं। उन्होंने बताया कि 1 सीटी स्कैन से 300-400 एक्स-रेज के बराबर रेडिएशन निकलता है। यंग एज में बार-बार सीटी स्कैन करवाने से आगे चलकर कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।
 

ना कराएं बेमतलब टेस्ट

डॉक्टर गुलेरिया ने कहा, कई लोग सीटी स्कैन के लिए भाग रहे हैं। सीटी स्कैन में 30 से 40 फीसदी पैच दिख सकते हैं जो कि अपने आप ही ठीक हो जाते हैं। उन्होंने यह भी बताया कि माइल्ड केसेज या नॉर्मल सैचुरेशन लेवेल पर CRP, D-Dimer, LDH, Ferritin जैसे बायोमार्कर्स चेक करवाने की जरूरत भी नहीं। इनसे सिर्फ पैनिक क्रिएट होगा। डॉक्टर ने बताया कि शरीर में कोई भी संक्रमण हो तो इनमें गड़बड़ दिख सकती है। आपको ऐक्ने या दांत में इन्फेक्शन हो तो भी ये बायोमार्कर्स बढ़े दिखेंगे क्योंकि ये शरीर का इन्फ्लेमेटरी रिस्पॉन्स होता है।

 

कोविड के बाद अचानक हार्ट अटैक से ना हो मौत, डॉक्टर ने बताया बचने का तरीका


डॉक्टर ने बताए 3 प्रमुख ट्रीटमेंट

डॉक्टर ने बताया दवाओं को लेकर भी आगाह किया। उन्होंने बताया कि जो लोग इम्यूनोसप्रेसिव ड्रग्स पर हैं, लंग्स की प्रॉब्लम है या क्रॉनिक किडनी की प्रॉब्लम है, उन्हें ज्यादा ध्यान रखना चाहिए। ऐसे लोगों को हेल्थकेयर वर्कर के टच में रहना चाहिए। अगर हल्के लक्षण हैं तो तीन ट्रीटमेंट इफेक्टिव हैं। पहला ट्रीटमेंट ऑक्सीजन थेरेपी है। डॉक्टर गुलेरिया ने बताया कि ऑक्सीजन भी ड्रग है। अगर आपका सैचुरेशन कम है तो मुख्य उपचार ऑक्सीजन है। हल्के लक्षण में अगर आपकी ऑक्सीजन कम हो रही है तो दूसरा इलाज है स्टेरॉयड्स हैं। तब स्टेरॉयड दिए जाने चाहिए। तीसरा ट्रीटमेंट ऐंटी-कोऑगुलेंट हैं। 


थक्का जमा रहा है कोरोना वायरस

डॉक्टर गुलेरिया ने बताया कि ऐसा सामने आया है कि ये दूसरे वायरल निमोनिया से अलग है। ये खून में थक्का जमाता है जिससे फेफड़े में जो रक्त वाहिकाएं हैं उनमें भी खून का थक्का जम जाता है। इस वजह से ऑक्सीजन कम हो जाती है और कई बार थक्के दिल या दिमाग में चले जाते हैं जिससे हार्ट अटैक या ब्रेन हैमरेज हो जाता है। डॉक्टर गुलेरिया ने बताया कि कुछ केसेज में ऐंटी-कोऑगुलेंट यानी थक्का ना जमने देने वाली दवाएं दी जाती हैं। इससे खून पतला रहता है। 

 

कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आए तो घबराएं नहीं, जानें क्या है होम क्वारंटाइन का सही तरीका और कैसा मास्क है कारगर


हर किसी के लिए नहीं है एक-सा इलाज

डॉक्टर ने बताया कि माइल्ड केसेज में हर किसी को भी ये ट्रीटमेंट नहीं दिए जा सकते। इससे नुकसान हो सकता है। मान लीजिए किसी को अल्सर की बीमारी है और बिना जरूरत के ये दवाएं दीं तो उसके पेट से ब्लीडिंग के चांसेज बढ़ सकते हैं। इसलिए कब, कौन सी दवाएं देनी है, ये ध्यान रखना बहुत जरूरी है। उन्होंने बताया कि रेमडिसिविर जैसी दवाएं इमरजेंसी में दी जाती हैं।

संबंधित खबरें