DA Image
2 जून, 2020|3:08|IST

अगली स्टोरी

Lockdown:घर से काम नौकरी के प्रति संतोष बढ़ाएगा

कोरोनावायरस के फैलाव के कारण दुनियाभर में बड़े पैमाने पर लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में ज्यादातर कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को घर से काम करने की सुविधा उपलब्ध कराई है। सोशल नेटवर्क साइट जैसे फैसबुक लॉकडाउन के दौरान कर्मचारियों के बीच रिश्ते को मजबूत करने का काम कर रहा है, इससे कर्मचारियों में नौकरी को लेकर संतोष में बढ़ोतरी हो रही है। एक नए शोध में यह खुलासा किया गया है।

कई पक्षों का पता चला

चीनी वैज्ञानिकों ने सह कर्मचारियों के बीच होने वाली सोशल नेटवर्क गतिविधियों और नौकरी के प्रति बढ़ रहे संतोष के बीच एक कड़ी स्थापित की है। वैज्ञानिकों की टीम ने 253 हॉस्पिटैलिटी के क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारियों के बीच सर्वेक्षण किया। फेसबुक पर इन कर्मचारियों के बीच ऑनलाइन दोस्ती और नौकरी के प्रति इनके रुख का वैज्ञानिकों ने विश्लेषण किया।

मजबूत कर रहा संबंध : वैज्ञानिकों ने पाया कि सोशल नेटवर्किंग साइट सहकर्मियों के बीच संबंधों को मजबूत करने का काम कर रहे हैं क्योंकि ये कार्यस्थल की औपचारिकताएं को खत्म कर देते हैं और कामकाज व सामाजिक जीवन के बीच मौजूद दीवारों को धुंधला कर देते हैं।

जो कर्मचारी फिलहाल घर से काम कर रहे हैं वे अपने सहकर्मियों के साथ सामाजिक गतिविधियों में ज्यादा संलिप्त हो रहे हैं। इससे उनकी दोस्ती मजबूत होगी और जब वो लॉकडाउन के बाद ऑफिस पहुंचेंगे तो उनके बीच अच्छे संबंध बने रहेंगे।

लॉकडाउन के दौरान घर से काम करना अब धीरे-धीरे सामान्य बात होती जा रही है। दुनियाभर के कई क्षेत्र इस बदलाव को महसूस कर रहे हैं। कई कंपनियों के प्रमुख ये आंकने की कोशिश कर रहे हैं कि कार्यस्थल में बदलाव होने से कामकाज पर कैसा प्रभाव पड़ता है।

ऐसे किया अध्ययन

ये शोध अपने तरह का पहला शोध है जिसमें सहकर्मियों के बीच ऑनलाइन दोस्ती और उसकी वजह से बढ़ते वर्क-लाइफ बैलेंस का बिजनेस पर पड़ने वाले प्रभाव को देखा गया है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट ने शोधकर्ताओं ने लिखा, सोशल नेटवर्किंग साइट ने उस तरीके को बदल दिया है जिससे सहकर्मी एक-दूसरे से जुड़ते हैं। कर्मचारी जिन्होंने कार्यस्थल पर काम करने के दौरान एक तरह का संबंध बनाया है उसमें सोशल नेटवर्किंग साइट के कारण बदलाव आ रहा है। इनके कारण सहकर्मियों के बीच घनिष्ठता बढ़ रही है और फायदा हो सकता है।

ऐसे किया अध्ययन

ये शोध अपने तरह का पहला शोध है जिसमें सहकर्मियों के बीच ऑनलाइन दोस्ती और उसकी वजह से बढ़ते वर्क-लाइफ बैलेंस का बिजनेस पर पड़ने वाले प्रभाव को देखा गया है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ हॉस्पिटैलिटी मैनेजमेंट ने शोधकर्ताओं ने लिखा, सोशल नेटवर्किंग साइट ने उस तरीके को बदल दिया है जिससे सहकर्मी एक-दूसरे से जुड़ते हैं। कर्मचारी जिन्होंने कार्यस्थल पर काम करने के दौरान एक तरह का संबंध बनाया है उसमें सोशल नेटवर्किंग साइट के कारण बदलाव आ रहा है। इनके कारण सहकर्मियों के बीच घनिष्ठता बढ़ रही है और फायदा हो सकता है।

जब घर से काम करने वाले लोगों ने अपने सहकर्मियों से ऑनलाइन ज्यादा सक्रिय तरीके से बातचीत की तब उनके कई और पक्ष भी उभर कर सामने आया। इससे सहकर्मियों के बीच कामकाज और भावनात्मक दोनों तरह के संबंध मजबूत हुए। सहकर्मी कामकाज से लेकर निजी जीवन में एक-दूसरे का समर्थन करने को लेकर ज्यादा सक्रिय दिखाई दिए।

50 टीम से हुआ चयन चीन की यूनिवर्सिटी ऑफ मकाउ के शोधकर्ताओं की टीम ने 50 टीमों से 253 लोगों का चयन किया। जिन प्रतिभागियों ने फेसबुक पर अपने सहकर्मियों को दोस्त बनाया था, उन्हें कुछ सवालों के जवाब देने को कहा गया। उनके पांच क्षेत्रों के बारे में सवाल पूछा गया। प्रतिभागियों के जवाबों का विश्लेषण करने के बाद पता चला कि सोशल नेटवर्क पर सहकर्मियों से दोस्ती का सहकर्मियों द्वारा प्राप्त समर्थन, नौकरी के प्रति संतोष और काम पर केंद्रित होने वाले ध्यान पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा।

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lockdown: Work from home will increase job satisfaction