DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  लॉकडाउन से महिलाओं पर नौकरी छोड़ने का दबाव बढ़ा
जीवन शैली

लॉकडाउन से महिलाओं पर नौकरी छोड़ने का दबाव बढ़ा

एजेंसी,वाशिंगटनPublished By: Manju
Sun, 26 Apr 2020 07:57 AM
लॉकडाउन से महिलाओं पर नौकरी छोड़ने का दबाव बढ़ा

एक सर्वे में यह बात सामने आई है कि लॉकडाउन के कारण दुनियाभर में लगभग 14 फीसदी महिलाएं नौकरी छोड़ने को मजबूर हो गई हैं। घर पर रहने के दौरान बच्चों का ध्यान रखना  और ऑफिस का काम करना बेहद कठिन है। ऐसी स्थिति में न तो अच्छे से बच्चों का ध्यान रख पाती हैं न ही काम में ध्यान लगा पाती हैं, इसलिए नौकरी छोड़ने का फैसला किया है।

यह सर्वे रोजगार और बेरोजगारी दर पर डाटा उपलब्ध करने वाली फर्म सिंडियो ने 30 से 31 मार्च के बीच किया। इसमें 1500 महिलाओं को शामिल किया गया। इसमें भाग लेने वाली एंजेला नाम की महिला ने बताया कि ऑफिस का काम घर से करने में काफी परेशानी होती थी। इस बारे में अपने पति से बात की और नौकरी छोड़ने का फैसला किया।

पुरुष भी बना रहे मन : 
सर्वे के अनुसार पुरुष भी ऐसा मन बना रहे हैं। 11 प्रतिशत पुरुषों ने भी पे-इक्विटी सॉफ्टवेयर कंपनी को बताया कि उन्होंने नौकरी छोड़ने पर विचार किया है।

पुरुषों की तुलना में महिलाएं ज्यादा परेशान
आंकड़ों से पता चलता है कि संकट के दौरान रोजगार में असमानताएं देखने को मिल सकती हैं। महिलाएं न्यूनतम मजदूरी का दो-तिहाई ही काम करती हैं, जिससे उनके बेरोजगारी और बीमारी के जोखिम में वृद्धि हो सकती है। थोड़े समय के लिए ही सही लेकिन नौकरी छोड़ने वालों में पुरुषों की तुलना में महिलाएं अधिक हैं। सर्वेक्षण में भाग लेने वाली 26 प्रतिशत हिस्पैनिक महिलाओं ने कहा कि वे अपनी नौकरी छोड़ने पर विचार कर रही हैं, जबकि 15% एशियाई महिलाएं और 12 फीसदी अमेरिकी और यूरोपीय महिलाएं इसपर विचार कर रही हैं।

करियर पर लग सकता है लंबे वक्त का ब्रेक
सर्वे के अनुसार वैश्विक संकट के दबाव में काम छोड़ने वाली महिलाओं पर इसके दीर्घकालिक परिणाम दिख सकते हैं। जो महिलाएं काम की चुनौतियों का सामना करना बंद कर देती हैं, उन्हें अपने करियर की सफलता प्राप्त करने में अधिक समय लगता है। एंजेला के लिए नौकरी छोड़ने पर विचार मुख्य रूप से उनके और पति के वित्तीय स्थिति पर आधारित था। उन्होंने बताया कि उनकी तनख्वाह पति की तुलना में कम थी। इसलिए उन्होंने पति के बजाए खुद नौकरी छोड़ने का फैसला किया।

संबंधित खबरें