DA Image
10 जुलाई, 2020|5:21|IST

अगली स्टोरी

लॉकडाउन का असर : दिल्ली में साफ हुई हवा, पीएम 2.5, पीएम 10 और नाइट्रोजन ऑक्साइड में हुई 50 प्रतिशत की कमी

delhi air

कोरोना वायरस का मुकाबला करने के लिए लगाये गये लॉकडाउन के फलस्वरूप गाड़ियों के सड़कों से गायब हो जाने एवं कल-कारखानों के बंद हो जाने के कारण दिल्ली में बड़े प्रदूषकों-पीएम 2.5, पीएम 10 और नाइट्रोजन ऑक्साइड में कम से कम 50 फीसद गिरावट आयी है। ये तीनों ही प्रदूषक सबसे खतरनाक प्रदूषकों में से कुछ हैं और लंबे समय तक इनसे घिरे रहने से सांस की गंभीर परेशानी हो सकती है। पीएम 2.5 ऐसे कण होते हैं जिनका व्यास ढाई माइक्रोमीटर से कम होता है। पीएम 10 ऐसे कण होते हैं जिनका व्यास 10 माइक्रोमीटर से भी कम होता है। नाइट्रोजन ऑक्साइड वाहनों से निकलती है।
     
केंद्र सरकार के सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एडं वेदर फोरकास्टिंग एडं रिसर्च (सफर) के विश्लेषण के अनुसार दिल्ली में इन तीनों प्रदूषकों में सबसे अधिक कमी नजर आयी है। सफर ने मुम्बई, पुणे और अहमदाबाद के लिए भी ऐसा ही विश्लेषण किया। भारत कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर फिलहाल सबसे बड़े लॉकडाउन के अंतर्गत है, ऐसे में करीब एक अरब 30 करोड़ लोगों को घरों में रहने को कहा गया है। इस महामारी के चलते भारत में 100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और 4000 से अधिक लोग इसकी गिरफ्त में आए हैं।
     
इस लॉकडाउन के हत उद्योगो को बंद कर दिया गया है और लोगों से अनावश्यक यात्रा से बचने की अपील की गयी है। फलस्वरूप देश में यातायात काफी घट गया है।  पीटीआई भाषा के पास उपलब्ध सफर के आंकडे के अनुसार लॉकडाउन से पहले मार्च के दूसरे सप्ताह एवं अप्रैल के पहले सप्ताह (छह अप्रैल) की तुलना की गयी और पाया गया कि पीएम 2.5 में 62 फीसद, पीएम 10 में 57 फीसद एवं नाइट्रोजन ऑक्साइड में 50 फीसद कमी आयी। 
     
मुम्बई में पीएम 2.5 में 45 फीसद, पीएम 10 में 51 फीसद एवं नाइट्रोजन ऑक्साइड में 60 फीसद कमी आयी। इसी तरह पुणे में पीएम 2.5 में 31फीसद, पीएम 10 में 32 फीसद एवं नाइट्रोजन ऑक्साइड में 50 फीसद कमी आयी। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lockdown positive effect: Delhi Air Cleared Due To Lockdown which results Pm 25 Pm10 And nitrogenoxide reduced by 50 percent