DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बच्चा नहीं बनेगा इस अपराध का शिकार

cyber bullying

अपराधों की दुनिया भी नित नए बदलावों से गुजर रही है। अपराधों की सूची में नए-नए अपराध शामिल हो रहे हैं। साइबर बुलिइंग भी इनमें से ही एक है। कैसे अपने बच्चे को इस अपराध से दें सुरक्षा कवच, बता रही हैं स्पर्धा रानी

क्या आपने कभी साइबर बुलिइंग का अनुभव किया है? क्या आप इस बात को लेकर सुनिश्चित हैं कि आपका बच्चा साइबर दादागिरी से सुरक्षित है? आप भले ही हां कहें, लेकिन कुछ आंकड़े आपको चौंका देंगे। आठ से 17 साल के बच्चों पर किए गए एक सर्वेक्षण के मुताबिक, ऑनलाइन उत्पीड़न के मामले में पूरी दुनिया में भारत तीसरे स्थान पर है। भारत में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले करीब 66 फीसदी बच्चों ने किसी न किसी तौर पर साइबर बुलिइंग का सामना किया है। यही नहीं, लगभग 53 फीसदी किशोरों ने यह माना कि अपने ऑनलाइन संपर्क से वे असल जिंदगी में मिले भी हैं। जाहिर-सी बात है कि यह मिलना-जुलना बिना माता-पिता की जानकारी के किया गया। 

ये सभी आंकड़े इस बात का खुलासा करते हैं कि बच्चे अकसर अनजान लोगों की गिरफ्त में आ जाते हैं और ऑनलाइन मीडिया के संपर्क में आने वाले खतरों को लेकर अनभिज्ञ होते हैं। हम सब जानते हैं कि तकनीक के अपने लाभ भी हैं और खतरे भी। कई बच्चे ऑनलाइन उत्पीड़न के दबाव में आत्महत्या जैसे कठोर कदम भी उठा लेते हैं। इसलिए जरूरी है कि अपने बच्चे की सुरक्षा के लिए माता-पिता को इस ऑनलाइन खतरे के बारे में जानकारी होने के साथ यह भी पता हो कि साइबर बुलिइंग क्या है। जब आपको इस अपराध के बारे में सही जानकारी होगी, तभी आप अपने बच्चे को इससे बचा पाएंगी।

ऑफलाइन दादागिरी से अलग
हमारा देश उन कुछ देशों में से एक है, जहां बच्चों में ऑनलाइन और ऑफलाइन बुलिइंग की संख्या एक समान है। ऑफलाइन बुलिइंग लोगों के सामने की जाती है और ऑनलाइन बुलिइंग सोशल मीडिया पर की जाती है। चूंकि यहां पीड़ित दिखता नहीं है तो यह बुलिइंग को और अधिक खराब बनाता है।

ऐसे बचाएं साइबर बुलिइंग से बच्चों को
यह सच बात है कि हम अपने बच्चों को पूरी तरह से कंप्यूटर, टैब या मोबाइल से दूर रख पाने में असमर्थ हैं, लेकिन यह जरूर सुनिश्चित किया जा सकता है कि माता-पिता इस दौरान उनकी निगरानी करें। बच्चों से साइबर बुलिइंग के बारे में बात करनी चाहिए, ताकि उसे भी इसके बारे में सब कुछ पता चले। इस तरह से वे साइबर बुलिइंग के शिकार बनने से खुद को रोक पाएंगे। इस तरह से बच्चों को कंप्यूटर या मोबाइल कम देखने से कुछ हद तक परहेज किया जा सकता है। यदि आपको कभी भी यह लगे कि आपका बच्चा इंटरनेट पर ज्यादा समय बिता रहा है या कुछ ज्यादा ही गुमसुम हो गया है, तो उससे इस बारे में बात करें। यदि आपको लगता है कि आपका बच्चा साइबर बुलिइंग का शिकार हो रहा है तो बेहतर होगा कि आप ही आगे बढ़कर उससे इस बारे में बात करें। इससे आप उसकी मदद कर पाएंगी।

ऐसे करें शिकायत
यदि आपको लगता है कि आपके बच्चे की बुलिइंग करने वाला कोई और नहीं, आपके बच्चे के स्कूल से ही है तो उसके माता-पिता से बात करें। आप उनको समझाएं कि बुलिइंग किस तरह से आपके बच्चे पर प्रभाव डालकर उसे नुकसान पहुंचा रही है। जिस साइट पर बुलिइंग हो रही है, उस साइट को अलर्ट भी किया जा सकता है। बुलिइंग करने वाले को ब्लॉक करने से भी मदद मिलेगी। यदि यह सब काम नहीं करता है तो स्कूल अथॉरिटी को सतर्क करना चाहिए। यदि बुलिइंग करने वाला कोई अनजान व्यक्ति है तो इसके खिलाफ कानून भी है। धारा 66ए के तहत साइबर बुलिइंग एक जमानती अपराध है, जिसमें तीन साल की कैद और जुर्माना दोनों शामिल हैं। अपने शहर के साइबर अपराध सेल से संपर्क करके साइबर बुलिइंग की शिकायत की जा सकती है। 

अगर आपका बच्चा ही हो दोषी
यदि आपको यह पता चले कि आपका बच्चा ही एक ऑनलाइन बुली है तो आपको उससे बात करके उसके परिणाम के बारे में बताना चाहिए। संभव है कि वह यह सोच रहा हो कि उसके द्वारा किया जा रहा काम किसी को नुकसान नहीं पहुंचा रहा है। उसे इस बात का तनिक भी भान न हो कि पीड़ित किस दौर से गुजर रहा है। यदि आपको उसका व्यवहार चरम पर लगे तो बेहतर होगा कि आप बाल मनोवैज्ञानिक से संपर्क करें। 

क्या है साइबर बुलिइंग
साइबर बुलिइंग का मतलब किसी को जान-बूझकर परेशान करना है। सोशल मीडिया पर निजी या सार्वजनिक संदेश के जरिए यह हो सकता है। साइबर बुलिइंग में अमूमन लोग दूसरे का नाम लेकर उसे परेशान करते हैं। सामने वाले को यह कहना कि तुम दिखने में बहुत गंदे हो, तुम्हें कोई प्यार नहीं करता, तुममें कोई खूबी ही नहीं है, तुम्हारे कोई दोस्त नहीं, तुम्हारे नहीं रहने से किसी को कुछ फर्क नहीं पड़ेगा...ये सब और इस तरह की अन्य बातें साइबर बुलिइंग की श्रेणी में आती हैं।  

इसे भी पढ़ें ः Celebrity Fitness Tips : मलाइका की खूबसूरती का राज हैं नारियल पानी और टमाटर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:know what is cyber bullying and how to protect your child from it