DA Image
29 मार्च, 2020|5:53|IST

अगली स्टोरी

सही पॉश्चर में बैठने से शरीर को होते हैं ये 7 फायदे, जान लेंगे तो कभी नहीं बेठेंगे गलत

spinal curvature

घंटों कम्प्यूटर, लैपटॉप और मोबाइल में लगे रहना और उस पर भी गलत पॉश्चर में बैठना सबसे ज्यादा बुरा असर रीढ़ की हड्डी पर डालता है। गलत पॉश्चर में कुर्सी पर बैठने, उठने या झुककर गाड़ी चलाने के कारण पीठ में दर्द की समस्या हो जाती है। यह स्थिति रीढ़ की हड्डी को ज्यादा देर तक सीधा न रखने के कारण पैदा होती है। इसलिए हमेशा कहा जाता है कि झुककर नहीं, अपनी पीठ सीधे रखकर बैठो। 

एम्स के डॉ. केएम नाधीर का कहना है रीढ़ की हड्डी का दर्द शरीर के दूसरे अंगों तक भी फैला सकता है, जैसे कंधे, बाजू, पीठ का निचला हिस्सा, कूल्हे, टांग और पैर भी। बैठने के सही पॉश्चर से शरीर को कई तरह से फायदा होता है।

पीठ दर्द नहीं-
ऑफिस में लंबे समय तक बैठकर काम करने वाले पीठ सीधी न रखकर अगर आगे झुककर बैठते हैं तो रीढ़ की हड्डी में अपनी डिस्क और लिगामेंट्स पर अनुचित दबाव डालते हैं। इसीलिए अगर आप लंबे समय से बैठे हैं तो अक्सर कमर दर्द का अनुभव हो सकता है। अगर ऐसे पॉश्चर जारी रहता है, तो पीठ का दर्द गंभीर हो सकता है। इसे ठीक करने के लिए, आपको सीधे बैठने की जरूरत है, ताकि आपकी मांसपेशियां और लिगामेंट्स आपकी रीढ़ को सपोर्ट करें और रीढ़ पर एक समान भार पड़े।

सिर दर्द से छुटकारा-
बार-बार सिरदर्द होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे माइग्रेन, सामान्य सर्दी या अच्छी नींद न होना। लेकिन सिरदर्द का एक सबसे आम कारण है गलत पॉश्चर में बैठना। कंधे झुकाकर बैठने से गर्दन के पीछे खिंचाव होता है। बैठने का पॉश्चर सही करने से सिरदर्द की शिकायत कम करने में मदद मिलती है।

अधिक ऊर्जा-
जब बैठते समय रीढ़ सीधी होती है तो पीठ की मांसपेशियां अधिक अलाइन्ड होती हैं। यह भी उन्हें अधिक गतिशीलता देता है। बैठने का खराब पॉश्चर मांसपेशियों की गति को बाधित करता है। इसका मतलब है कि रीढ़ को गतिशील रखने के लिए मांसपेशियों को अतिरिक्त मेहनत करनी होगी। इसलिए बहुत सारी ऊर्जा इन मांसपेशियों द्वारा उपयोग की जाएगी और यह थका हुआ महसूस करा सकता है।

स्वस्थ रहेंगे जॉइन्ट्स-
 बैठने का सही पॉश्चर यह सुनिश्चित करता है कि रीढ़ की हड्डी स्वस्थ रहे। स्पाइनल डिस्क एक जेली जैसी संरचनाएं हैं जो रीढ़ को झटके से बचाती हैं और इसे गतिशीलता प्रदान करती हैं। जब ये डिस्क स्वस्थ होती हैं, तो जोड़ों यानी जॉइन्ट्स में दिक्कत नहीं होती है जो कि गंभीर पीठ दर्द का एक आम कारण होता है।

सांस लेना आसान-
यदि व्यक्ति आगे की तरफ झुककर बैठता है तो उसके दोनों फेफड़े संकुचित होते हैं और उथली सांस लेते हैं। लेकिन एक सही मुद्रा में बैठना फेफड़ों को पूर्ण रूप से फैलने देता है। इससे फेफड़ों की क्षमता बढ़ती है। सीधे बैठना ब्रोन्कियल समस्याओं वाले लोगों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

बेहतर ब्लड सर्कुलेशन-
जब कंधे झुकाकर बैठते हैं, तो आपका पूरा शरीर ऊपर की ओर झुका होता है। शरीर में ब्लड सर्कुलेशन प्रभावित होता है। अच्छा पॉश्चर रक्त वाहिकाओं को खुला व मुक्त रखता है और रक्त को सहजता से बहने देता है। यह आपके शरीर के अंगों को पोषण देता है।

ज्यादा स्ट्रेंथ-
अच्छा पॉश्चर ऊपरी शरीर की ताकत को बढ़ाता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि यह आसन ऊपरी पीठ की मांसपेशियों और कंधे की मांसपेशियों को मजबूत और सक्रिय रखता है। जब व्यक्ति बैठता है, तो उसे अपने पॉश्चर के प्रति सचेत होना चाहिए। फिर सीधे बैठने के लिए प्रयास की जरूरत नहीं होगी, यह स्वाभाविक रूप से होगा।

अधिक जानकारी के लिए देखें: https://www.myupchar.com/disease/spinal-curvature-scoliosis

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Know about 7 amazing unknown health benefits of sitting in the right posture