खाली पेट न लें कोई फैसला, पड़ सकता है पछताना - khaali pet na len koi phaisala pad sakata hai pachhataana DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

खाली पेट न लें कोई फैसला, पड़ सकता है पछताना

hunger

जब आपको भूख लगी हो, तब कोई भी फैसला न लें। एक हालिया शोध के अनुसार जब आप भूखे होते हैं तब आपका व्यक्तित्व बदल जाता है। यूनिवर्सिटी ऑफ डनडी के शोधकर्ताओं ने खुलासा किया है कि भूख आपके फैसले लेने की क्षमता को बाधित करती है। इससे आप अधीर हो जाते हैं और दूर की न सोचकर पास नजर आने वाले छोटे इनाम के बारे में सोचने लगते हैं और उसी के अनुसार फैसला कर लेते हैं।

50 प्रतिभागियों पर किया गया अध्ययन- इस शोध में शोधकर्ताओं ने 50 प्रतिभागियों पर अध्ययन किया। इन प्रतिभागियों से भूख, पैसे और अन्य इनामों के बारे में दो बार पूछा, एक बार खाना खाने के बाद और दूसरी बार खाना खाने से पहले।

परिणामों से पता चलता है कि जब प्रतिभागी भूखे थे तब उन्होंने ऐसे फैसले किए जिससे उन्हें कम समय में ज्यादा इनाम मिल सके और उन्होंने लंबे समय के बाद मिलने वाले इनाम के बारे में कोई चिंता नहीं की। यह फैसले खाना, पैसे और अन्य तरह के इनामों के मामले में किए गए।

शोधकर्ताओं ने पाया कि जब लोगों को कोई इनाम अभी या दोगुना करके भविष्य में देने का वादा किया गया, तो ज्यादातर लोगों ने 35 दिन इंतजार करने को ठीक समझा ताकि ज्यादा इनाम पा सकें। लेकिन, जब लोग भूखे थे तब उन्होंने तीन दिन से ज्यादा फैसला लेना सही नहीं समझा।

फैसले लेने की क्षमता प्रभावित- प्रमुख शोधकर्ता डॉक्टर बेंजामिन विनसेंट ने कहा, लोग सामान्तय: ये जानते हैं कि जब वे भूखे हों तब उन्हें खाने की खरीदारी करने के लिए नहीं जाना चाहिए क्योंकि इस दौरान वे गलत फैसला लेंगे और अस्वस्थकारी खाद्य पदार्थों को ही खाना पसंद करेंगे। हमारे शोध के अनुसार भूख अन्य सभी तरह के फैसलों पर भी प्रभाव डाल सकती है।

मान लीजिए आप किसी पेंशन या अन्य आर्थिक सलाहकार से बात करने जा रहे हों और ऐसे में अगर आप भूखे होंगे तो आप जल्दी मिलने वाले लाभों पर ज्यादा ध्यान देंगे और भविष्य के बारे में ज्यादा चिंता नहीं करेंगे।

ये परिणाम मनोविज्ञान और व्यावहारिक अर्थशास्त्र के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं। इस शोध के परिणाम लोगों को भूख के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूक कर सकते हैं। वे जान सकेंगे कि भूख से फैसले लेने की क्षमता में गिरावट आती है।

लोगों की पसंद बदल जाती है-
 शोध के परिणाम के अनुसार भूख लोगों की पसंद को भी बदल देती है। लोगों को स्वयं भी पता नहीं चल पाता कि भूख कैसे उनके फैसलों और पसंद में दखल दे रही है। शोधकर्ताओं के अनुसार जब आप भूखे हो तो महत्वपूर्ण फैसले लेने से बचना चाहिए, क्योंकि यह फैसले ज्यादातर लंबे समय के लिए सही नहीं होते। भूख लगने पर लोगों का व्यक्तित्व बदल जाता है। भूखे लोग कम समय में मिलने वाले रिटर्न के बारे में ज्यादा सोचते हैं। ऐसे लोग ज्यादातर भूखे रहने पर गलत फैसले ले लेते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:khaali pet na len koi phaisala pad sakata hai pachhataana