Saturday, January 29, 2022
हमें फॉलो करें :

गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ लाइफस्टाइलभारत के 100 साल पुराने रेस्टोरेंट्स, जहां खाने का मजा लेने के साथ इतिहास जानने भी आते हैं टूरिस्ट

भारत के 100 साल पुराने रेस्टोरेंट्स, जहां खाने का मजा लेने के साथ इतिहास जानने भी आते हैं टूरिस्ट

लाइव हिन्दुस्तान टीम ,नई दिल्ली Pratima Jaiswal
Sun, 03 Oct 2021 04:49 PM
भारत के 100 साल पुराने रेस्टोरेंट्स, जहां खाने का मजा लेने के साथ इतिहास जानने भी आते हैं टूरिस्ट

इस खबर को सुनें

हर जगह का अपना इतिहास होता है, जिसकी वजह से ये जगहें और भी खास हो जाती हैं। इसी तरह रेस्टोरेंट से जुड़ीं भी कई बातें होती है, जो किसी फूड लवर को यहां आने के लिए मजबूर कर देती हैं। जैसे, कहीं का खाना बहुत अच्छा होता है, तो कहीं किसी स्पेशल आइटम, इंटीरियर की वजह से टूरिस्ट रेस्टोरेंट में आते हैं। भारत के कुछ रेस्टोरेंट्स ऐसे हैं, जो अपने खाने के लिए ही नहीं बल्कि अपने इतिहास की वजह से भी काफी मशहूर हैं। ये रेस्टोरेंट 100 साल से भी ज्यादा पुराने हैं। आप अगर फूड लवर हैं या यूनिक एक्सपीरियन्स का मजा लेना चाहते हैं, तो एक बार यहां जरूर घूमें- 


ग्लेनरीस, दार्जिलिंग
दार्जिलिंग के पहाड़ी शहर में सबसे पुराने रेस्टोरेंट में से एक, ग्लेनरी 130 साल से अधिक पुराना है। शानदार लंच और डिनर के लिए सिर्फ एक जगह ही नहीं, ग्लेनरी की एक बेकरी भी है, जो जहां की टेस्टी डिशेज आपको दीवाना बना देगी। यह रेस्टोरेंट नेहरू रोड पर है । सबसे खास बात यह है कि यहां बैठकर पहाड़ भी नजर आते हैं।


लियोपोल्ड कैफे, मुंबई
मुंबई का यह मशहूर रेस्टोरेंट और बार 150 साल पुराना है। 2008 मुंबई हमलों में इस रेस्टोरेंट को भी निशाना बनाया गया था। यहां आज भी भयानक हमलों से सुरक्षित गोलियों के निशान देख सकते हैं। यह जगह टूरिस्ट ही नहीं, बल्कि लोकल लोगों के बीच भी काफी पॉप्युलर है।

 

इंडियन कॉफी हाउस, कोलकाता
देश में भारतीय कॉफी हाउस की सबसे पॉप्युलर ब्रांच । इसका नाम पहले अल्बर्ट हाउस था लेकिन 1947 के बाद इसका नाम बदलकर कॉफी हाउस कर दिया गया। 1876 में शुरू हुए  इस कॉफी हाउस के कुछ प्रसिद्ध संरक्षक सत्यजीत रे, मृणाल सेन, अमेरिकी कवि एलन गिन्सबर्ग के नाम शामिल हैं।


टुंडे कबाब 
115 साल पुरानी यह जगह भारत में कबाब लवर्स के लिए काफी मशहूर है। आप अगर कबाब खाने के शौकीन हैं, तो आपको एक बार यहां जरूर आना चाहिए । इसे 1905 में लॉन्च किया गया था और इसके बारे में कहा जाता है कि इस कबाब को बनाने के लिए लगभग 125 सामग्री का इस्तेमाल किया जाता है। 


 

epaper

संबंधित खबरें