DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  किडनी स्टोन से हैं परेशान तो आजमाएं ये 5 तरीके, झट से मिलेगा छुटकारा

जीवन शैलीकिडनी स्टोन से हैं परेशान तो आजमाएं ये 5 तरीके, झट से मिलेगा छुटकारा

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Manju
Sun, 23 Feb 2020 01:44 PM
किडनी स्टोन से हैं परेशान तो आजमाएं ये 5 तरीके, झट से मिलेगा छुटकारा

सभी बीमारियां आजकल आम होती जा रही हैं। उनमें से ही एक है, किडनी स्टोन। अमूमन स्टोन से छुटकारा पाने के लिए विशेषज्ञ ऑपरेशन की ही सलाह देते हैं, पर कुछ ऐसे प्राकृतिक तरीके भी हैं, जिनकी मदद से  किडनी स्टोन से छुटकारा पाया जा सकता है। क्या-क्या हैं ये तरीके, बता रही हैं पूर्णिमा तिवारी

किडनी हमारे शरीर के महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। शरीर से नुकसानदेह टॉक्सिन को हटाने के अलावा यह शरीर में पानी, अन्य तरल पदार्थ, केमिकल और मिनरल्स की मात्रा को भी संतुलित रखने में मदद करती है। सेहतमंद जिंदगी जीने के लिए यह जरूरी है कि किडनी सही तरीके से काम करे और किडनी के सही तरीके से काम करने के लिए जरूरी है कि हम प्रचुर मात्रा में पानी पिएं। कम पानी पीने से टॉक्सिन हमारे शरीर से बाहर नहीं निकल पाते हैं और धीरे-धीरे किडनी स्टोन का निर्माण होने लगता है। ये स्टोन मटर के दाने से लेकर गोल्फ के बॉल जितने बड़े हो सकते हैं।

पेशाब करने में परेशानी होना, वजन कम होना, बुखार, चक्कर आना और पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द होना किडनी स्टोन होने के लक्षण हैं। किडनी स्टोन से छुटकारा पाने के लिए अगर आप ऑपरेशन आदि के चक्कर में पड़ने से बचना चाहती हैं तो कुछ प्राकृतिक उपाय इसमें आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं। पर इन उपायों को आजमाने से पहले अपने यूरोलॉजिस्ट से सलाह लेना नहीं भूलें।

पानी पिएं खूब-
जल ही जीवन है। इस बात से तो आप भी वाकिफ होंगी, फिर उसे अपनी जिंदगी में क्यों नहीं अपनाती हैं? किडनी की सेहत दुरुस्त रखनी है और किडनी स्टोन से खुद को बचाकर रखना है तो हर दिन सात से आठ गिलास पानी जरूर पिएं। पानी मिनरल्स और पोषक तत्वों के घुलने की प्रक्रिया को तेज करने में किडनी की मदद करता है। 

पानी का सही मात्रा में सेवन पाचन तंत्र को मजबूत बनाकर पोषक तत्वों को सोखने की शरीर की क्षमता को भी बेहतर बनाता है। पानी का सेवन शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालने में भी मदद करता है, जिससे किडनी पर अतिरिक्त दबाव नहीं पड़ता है। जिन लोगों को किडनी स्टोन हो चुका है, विशेषज्ञ उन्हें ढेर सारा पानी पीने की सलाह देते हैं, ताकि पेशाब के माध्यम से स्टोन शरीर के बाहर निकल जाए।

नींबू का रस और ऑलिव ऑयल-
नीबू के रस और ऑलिव ऑयल की यह जुगलबंदी आपको थोड़ी अजीब लग सकती है, लेकिन शरीर से किडनी स्टोन को बाहर निकालने में यह काफी प्रभावी साबित हो सकती है। जो लोग प्राकृतिक तरीके से किडनी स्टोन को अपने शरीर से बाहर निकालना चाहते हैं, उन्हें नियमित रूप से यह मिश्रण तब तक पीते रहना चाहिए, जब तक कि स्टोन की समस्या खत्म नहीं हो जाए। 

नींबू का रस जहां किडनी स्टोन को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ने में मदद करता है, वहीं ऑलिव ऑयल स्टोन को शरीर से बाहर निकलने की प्रक्रिया को आसान बनाता है। इस नुस्खे को अपनाने के लिए एक गिलास पानी में दो चम्मच ऑलिव ऑयल और दो चम्मच नीबू का रस मिलाकर पिएं। स्वाद बढ़ाने के लिए आप इस मिश्रण में थोड़ा-सा शहद भी मिला सकती हैं।

असरदार विनिगर-
एप्पल साइडर विनिगर में साइट्रिक एसिड होता है, जो किडनी स्टोन को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ने में मददगार साबित होता है। स्टोन के छोटे-छोटे टुकड़े फिर पेशाब के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाते हैं। विनिगर के सेवन से शरीर से टॉक्सिन भी तेजी से बाहर निकल जाते हैं, जिससे किडनी और बेहतर तरीके से काम कर पाती है। एक गिलास गुनगुने पानी में दो चम्मच एप्पल साइडर विनिगर मिलाकर नियमित रूप से स्टोन के निकलने तक पिएं।

कमाल का अनार-
अनार कई सारे पोषक तत्वों से भरपूर होता है। नियमित रूप से इसके सेवन से शरीर में तरल पदार्थों की कमी नहीं होती है। नियमित रूप से अनार या उसके जूस का सेवन करने से किडनी स्टोन प्राकृतिक तरीके से शरीर से बाहर निकल जाता है। अनार में एंटीऑक्सिडेंट्स पाए जाते हैं, जो शरीर की रोग प्रतिरोधी क्षमता को मजबूत बनाने में असरदार साबित होते हैं।

भुट्टे के रेशे आएंगे काम-
भुट्टे के छिलके के भीतर रेशों की एक परत पाई जाती है। हम सब भुट्टा खाने से पहले इन रेशों को हटाकर फेंक देते हैं। पर क्या आप जानती हैं कि ये रेशे आपके शरीर से किडनी स्टोन को बाहर निकालने में उपयोगी साबित हो सकते हैं? इसके लिए दो कप पानी में एक भुट्टे का रेशा डालकर पानी को उबालें। जब पानी एक कप जितना रह जाए तो गैस बंद कर दें। अब इस पानी को छानकर पी लें। इस पानी को पीने से किडनी स्टोन के कारण होने वाले दर्द में भी राहत मिलती है।

(आयुर्वेद विशेषज्ञ डॉ. मंजरी गोयल से बातचीत पर आधारित)

संबंधित खबरें