DA Image
16 दिसंबर, 2020|11:18|IST

अगली स्टोरी

कोरोना ने हमें दादी-नानी की रेसिपीज को फिर से याद दिलाया : शेफ गगन आनंद

gagan anand

आपने ‘ओल्ड इज गोल्ड’ की कहावत तो सुनी ही होगी! कोरोना महामारी ने हमें पुरानी चीजों का महत्व एक बार फिर से बता दिया। कोरोना काल में लॉकडाउन के चलते कई चीजें आसानी से उपलब्ध नहीं हो पाई थी, जिससे लोग उस चीज के विकल्प तलाश करने को मजबूर हुए। इस तलाश ने उन्हें क्रिएटिविटी तक पहुंचाया। इस समय में खाने की दुनिया में भी कई क्रिएटिविटी देखने को मिली।

हिन्दुस्तान लीडरशिप समिट 2020 के पांचवे दिन मशहूर शेफ गगन आनंद ने दिलचस्प चर्चा में बताया कि कोरोना ने हमें बदलाव के साथ आगे बढ़ना सिखाया। इस समय ने हमें पुरानी रेसिपीज को फिर से याद दिलाते हुए दादी-नानी के नुस्खों के महत्व को भी सिखाया। जैसे,  हमारी दादी-नानी अचार, मुरब्बे बनाकर या छिलकों सुखाकर इन्हें प्रिजर्व करके सब्जियों का सही इस्तेमाल करती थीं। इसके अलावा हमने यह जाना कि खाने का काम सिर्फ हमारा पेट भरना नहीं बल्कि हमें खुश रखना भी है। भारत में इसे शेफ को टॉप प्रोफेशन में नहीं जोड़ा जाता, लेकिन कोविड ने लोगों को किचन में जाने और रोटी बनाने पर मजबूर किया। महामारी काल ने हमें खाने के और नजदीक ला दिया। 


 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:htls-2020-hindustan-times-leadership-summit-2020-famous-chefs-gagan-anand perspective about corona impacts on restaurant