DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  चमक बिखेरने से ज्यादा बिगाड़ सकते हैं ये मेकअप प्रोडक्ट्स, सालों तक शरीर में रहते हैं केमिकल
लाइफस्टाइल

चमक बिखेरने से ज्यादा बिगाड़ सकते हैं ये मेकअप प्रोडक्ट्स, सालों तक शरीर में रहते हैं केमिकल

एजेंसी,कनाडाPublished By: Manju Mamgain
Wed, 16 Jun 2021 05:29 PM
चमक बिखेरने से ज्यादा बिगाड़ सकते हैं ये मेकअप प्रोडक्ट्स, सालों तक शरीर में रहते हैं केमिकल

रोजमर्रा के जीवन में सौंदर्य उत्पादों का इस्तेमाल जमकर किया जाता है। मगर एक हालिया अध्ययन की मानें तो शारीरिक खूबसूरती में इजाफा करने वाले सौंदर्य उत्पाद सेहत का हाल बिगाड़ सकते हैं। यहां तक कि पर्यावरण के लिए भी यह बहुत अधिक खतरनाक हैं। अमेरिका और कनाडा में हाल ही में हुए अध्ययन में सौंदर्य उत्पादों के बारे में एक बदसूरत सच्चाई का खुलासा हुआ है। इसमें पाया गया है कि इन उत्पादों में से अधिकांश में अत्यधिक हानिकारक और हमेशा रहने वाले रसायन पाए गए हैं, जिन्हें प्रति और पॉलीफ्लोरोआकाइल पदार्थ (पीएफएएस) कहा जाता है।

कोई भी पीएफएएस अच्छा नहीं होता
पीएफएएस में हजारों ऐसे रसायन शामिल होते हैं, जो इतने मजबूत हैं कि वे वर्षों तक शरीर में और सदियों तक पर्यावरण में रह सकते हैं। हैरानी की बात यह है कि केवल कुछ पीएफएएस के स्वास्थ्य प्रभाव ही जाने जाते हैं, लेकिन उन यौगिकों को उच्च कोलेस्ट्रॉल, थायरॉयड रोगों और अन्य समस्याओं से जोड़ा गया है। इंडियाना में नोट्रे डेम विश्वविद्यालय के रसायनज्ञ और भौतिक विज्ञानी ग्राहम पीसली के मुताबिक, 'कोई भी पीएफएएस अच्छा नहीं होता है'।

52 प्रतिशत उत्पादों में फ्लोरीन
संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में पीएफएएस के लिए सौंदर्य प्रसाधनों की पहली बड़ी स्क्रीनिंग में शोधकर्ता पीसली और उनके सहयोगियों ने पाया कि 200 से अधिक परीक्षण उत्पादों में से 52 प्रतिशत में उच्च फ्लोरीन सांद्रता थी, जो पीएफएएस की उपस्थिति की संभावना जताती है। यह अध्ययन एनवायरमेंट साइंस एंड टेक्नोलॉजी लेटर में प्रकाशित हुआ है। पीसली ने कहा कि हालांकि मेकअप में पीएफएएस के संभावित स्वास्थ्य जोखिम अभी तक स्पष्ट नहीं हैं। उन्होंने कहा कि मेकअप लगाते समय यह पीएफएएस भूलवश निगले जा सकते हैं या शरीर में अवशोषित हो सकते हैं। इसके अलावा यह सौंदर्य प्रसाधन नाली में बहकर पीने के पानी में भी मिल सकते हैं। इस तरह पर्यावरण के लिए यह खतरनाक स्थिति है।

231 उत्पादों में मापा पीएफएएस
शोधकर्ताओं की टीम ने 231 सौंदर्य प्रसाधनों में पीएफएएस के एक प्रमुख घटक फ्लोरीन की मात्रा को मापा। 63 प्रतिशत फाउंडेशन, 55 प्रतिशत लिपस्टिक 82 प्रतिशत वाटरप्रूफ मस्कारा में उच्च स्तर का फ्लोरीन होता है। कागज के एक टुकड़े पर फैले उत्पाद के प्रति वर्ग सेंटीमीटर में कम से कम 0.384 माइक्रोग्राम फ्लोरीन होता है। लंबे समय तक चलने वाले या जलरोधी उत्पादों में विशेष रूप से बहुत सारे फ्लोरीन होने की संभावना पाई गई। इससे पता चलता है कि पीएफएएस जल प्रतिरोधी हैं।


किन उत्पादों में कितने फीसदी रसायन मिला

मेकअप                                          उत्पाद         उत्पादों की संख्या    फ्लोरीन का प्रतिशत
लिपिस्टिक व होठों के अन्य उत्पाद       60               55 प्रतिशत
तरल लिपिस्टिक                                4                      2                     62 प्रतिशत
फाउंडेशन                                       43 प्रतिशत        63 प्रतिशत
कंसीलर                                           11                   36 प्रतिशत
ब्लश व अन्य उत्पाद                           30                  40 प्रतिशत
मस्कारा                                           32                   47 प्रतिशत 
वाटरप्रूफ मस्कारा                              11                   82 प्रतिशत 
अन्य उत्पाद                                       43                   58 प्रतिशत 

 

यह भी पढ़ें : स्किन केयर रूटीन में शामिल करें केवड़े का पानी, हम बता रहे हैं इसके बेहतरीन लाभ

 

संबंधित खबरें