DA Image
24 सितम्बर, 2020|9:21|IST

अगली स्टोरी

Happy Independence Day 2020: स्वतंत्रता दिवस पर इन 5 बुरी आदतों से पाएं आजादी

how to link aadhaar card with mobile number online

बुरी आदतें भला किसमें नहीं होतीं। नए साल पर हम इन बुरी आदतों से तौबा करने का संकल्प भी लेते हैं। हालांकि, आधे से ज्यादा लोगों का संकल्प साल के पहले महीने भी नहीं टिक पाता। अगर आप भी ऐसे ही लोगों में शुमार हैं तो एक बार फिर नया साल आने का इंतजार क्यों करना। क्यों न 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस पर ही बुरी आदतों से आजादी पाने की शुरुआत कर दी जाए।

1.पानी कम पीना
-रोजाना दस से 12 गिलास पानी पीने से न सिर्फ याददाश्त और तार्किक क्षमता दुरुस्त रहती है, बल्कि स्ट्रेस हार्मोन ‘कॉर्टिसोल’ के उत्पादन पर लगाम लगने से तनाव, बेचैनी, अनिद्रा की शिकायत से निजात पाने में मदद भी मिलती है। पानी त्वचा और बालों की चमक बढ़ाने के साथ ही कील-मुंहासों व झुर्रियों की समस्या को दूर रखने में भी कारगर है।

खतरा-
-2018 में बीएमसी कार्डियोवास्कुलर डिसॉर्डर्स में छपे शोध में कम पानी पीने वालों में हार्ट अटैक, स्ट्रोक से मौत का खतरा अधिक मिला था
-दरअसल, पर्याप्त मात्रा में पानी न पीने से खून गाढ़ा होने का जोखिम रहता है, रक्तप्रवाह के दौरान अतिरिक्त दबाव पड़ने से नसें फंट सकती है

2.रात में देर से खाना
-मोटापे, टाइप-2 डायबिटीज और हृदयरोगों को दूर रखने के लिए फास्टफूड व मीठे पकवानों से परहेज करने के अलावा डिनर रात आठ बजे तक निपटा लेना बेहद जरूरी है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के मुताबिक सोने से दो से तीन घंटे पहने डिनर करने से हाजमा तो दुरुस्त रहता ही है, साथ में ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल बढ़ने का जोखिम भी घट जाता है।

खतरा
-2017 में पेन मेडिसिन न्यूज में छपे अध्ययन में दावा, ग्लूकोज को ऊर्जा में बदलने की इंसुलिन की क्षमता कमजोर पड़ती है डिनर देर से करने पर
-अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन के हालिया शोध में दिन में देर से खाने की आदत भी डायबिटीज, हृदयरोग का खतरा बढ़ाने के लिए जिम्मेदार मिली थी

3.कसरत से जी चुराना
-नियमित रूप से व्यायाम करने से न सिर्फ वजन नियंत्रित रहता है, बल्कि डायबिटीज, हृदयरोग, कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियों का जोखिम घटने के साथ ही ऊर्जा का स्तर बनाए रखने में मदद मिलती है। विभिन्न अध्ययनों में कसरत मस्तिष्क में खून का प्रवाह सुचारु बनाए रखने और तंत्रिका तंत्र की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचने से रोकने में असरदार मिली है।

खतरा
-30 फीसदी तक घट जाता है असामयिक मौत का खतरा रोज सुबह 20 मिनट तक तेज गति से टहलने पर, एक अमेरिकी शोध के मुताबिक
-नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ ने 35 दीर्घकालिक (क्रॉनिक) बीमारियों से बचाव में एक्सरसाइज को संतुहित आहार जितना जरूरी बताया है

4.कम सोना
-रोग-प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाए रखने के लिए रोज रात को सात से आठ घंटे की गहरी नींद लेना जरूरी है। यही नहीं, कम सोने से याददाश्त, तर्क शक्ति, एकाग्रता, त्वरित फैसले की क्षमता में भी गिरावट आती है। इसके अलावा स्ट्रेस हार्मोन कॉर्टिसोल का स्त्राव बढ़ने और फील गुड हार्मोन का उत्पादन घटने से डिप्रेशन का शिकार होने की आशंका भी बनी रहती है।

खतरा
-2016 में हुए एक ब्रिटिश अध्ययन में देर रात तक जगने वाले 80 फीसदी से अधिक प्रतिभागी ‘नाइट ईटिंग सिंड्रोम’ के शिकार मिले थे
-50 फीसदी ज्यादा कैलोरी वाले खाने की तलब भी अधिक पाई गई थी, डायबिटीज, हृदयरोग, कैंसर से असामयिक मौत का बढ़ता है खतरा

5.स्क्रीन की लत
-दिन-रात स्मार्टफोन, टीवी या लैपटॉप की स्क्रीन से चिपके रहने वाले लोगों में मोटापे, डायबिटीज, हृदयरोग का खतरा तो ज्यादा होता ही है। साथ ही स्क्रीन से निकलने वाली नीली रोशनी मेलाटोनिन हार्मोन का उत्पादन बाधित करती है। इससे व्यक्ति को नींद के आगोश में जाने में परेशानी होती है। यही नहीं, कोशिकाओं के विभाजन की प्रक्रिया तेज होने से कैंसर का जोखिम बढ़ जाता है।

खतरा
-एक ब्रिटिश अध्ययन की मानें तो वयस्कों की औसत जीवन प्रत्याशा हर एक घंटे अतिरिक्त टीवी देखने पर 21.8 मिनट तक घट जाती है।
-ग्लासगो यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने तीन लाख लोगों पर अध्ययन के दौरान स्क्रीन की लत को कैंसर, हृदयरोग के लिए जिम्मेदार पाया था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Happy Independence Day 2020: get rid of these 5 bad habits on this Independence Day