फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ लाइफस्टाइलSwine Flu Natural Treatment : स्वाइन फ्लू का शुरुआती तौर पर इलाज करने में कारगर हैं ये घरेलू उपाय

Swine Flu Natural Treatment : स्वाइन फ्लू का शुरुआती तौर पर इलाज करने में कारगर हैं ये घरेलू उपाय

स्वाइन फ्लू के मरीजों में बुखार, सिरदर्द, खांसी, कमजोरी, बदन दर्द, सांस लेने में दिक्कत, ठंड लगना और गले में खराश जैसे लक्षण पाए जाते हैं। आइए, जानते हैं इसका घरेलू इलाज कितना कारगर है।

Swine Flu Natural Treatment : स्वाइन फ्लू का शुरुआती तौर पर इलाज करने में कारगर हैं ये घरेलू उपाय
Pratima Jaiswalलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSun, 07 Aug 2022 12:42 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

स्वाइन फ्लू एक श्वसन संक्रमण है। हर साल यह बीमारी दुनिया भर में कई जिंदगियों के लिए घातक साबित होती है। यह सूअरों में पाए जाने वाले इन्फ्लूएंजा स्ट्रेन के कारण होता है, इस बीमारी का पता 1919 में लगा और इसने पूरी दुनिया को एक भयानक महामारी के रूप में अपनी चपेट में ले लिया था। एचआईवी या एड्स से पीड़ित रोगियों में यह बीमारी गंभीर रूप ले सकती है।
स्वाइन फ्लू के मरीजों में बुखार, सिरदर्द, खांसी, कमजोरी, बदन दर्द, सांस लेने में दिक्कत, ठंड लगना और गले में खराश जैसे लक्षण पाए जाते हैं। हालांकि इस बीमारी के संकेत आम सर्दी के लक्षणों की तरह होते हैं, लेकिन स्वाइन फ्लू का इलाज काफी कठिन होता है। ऐसे में शुरुआती इलाज के तौर पर कुछ घरेलू उपचार मददगार हो सकते हैं।

लहसुन
लहसुन कई स्वास्थ्य समस्याओं और बीमारियों से निपटने में प्रभावी है, इसलिए यह स्वाइन फ्लू के इलाज में भी फायदेमंद साबित हो सकता है। लहसुन में मौजूद एलिसिन शरीर के एंटीऑक्सीडेंट गुणों को बढ़ाता है। यह स्वाइन फ्लू से जुड़े विदेशी रोगाणुओं को खोजने की कोशिश करता है। लहसुन इम्युनिटी बढ़ाने में भी मदद करता है, बेहतर परिणाम के लिए सुबह गुनगुने पानी में 2 लहसुन की कली मिलाकर निगल लें।

तुलसी
तुलसी में प्रचुर मात्रा में चिकित्सा गुण हैं। तुलसी के पत्तों का सेवन आपके गले और फेफड़ों में मौजूद संक्रामक कारक को स्पष्ट करने में मदद कर सकता है, यह स्वाइन फ्लू के संक्रमण के खिलाफ आपकी इम्यूनिटी बढ़ाता है। इससे आपको नींद भी बेहतर आती है।

पानी
उल्टी, दस्त, अधिक पेशाब और पसीना कुछ ऐसे सामान्य लक्षण हैं, जिनसे स्वाइन फ्लू प्रभावित लोगों को गुजरना पड़ता है। इसलिए, आप इस बीमारी का सामना करते हुए डिहाइड्रेट हो सकते हैं। हानिकारक टॉक्सिन्स को निकालने और अपने शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए।

हल्दी वाला दूध
हल्दी में प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं और इसका उपयोग सर्दी, फ्लू, संक्रमण और चोटों को ठीक करने के लिए एक पुराने उपाय के रूप में किया जा रहा है। अपने गिलास गुनगुने दूध में थोड़ी मात्रा में हल्दी पाउडर मिलाएं।

Disclaimer : यह लेख सामान्य जानकारी के लिए लिखा गया है। सेहत से जुड़ी कोई भी परेशानी होने पर तुंरत डॉक्टर से परामर्श लें और मेडिकल ट्रीटमेंट कराएं। 

सिरदर्द में बार-बार गोली लेने वाले लोगों को खाने चाहिए ये नेचुरल पेनकिलर फूड्स

 

epaper