DA Image
24 जनवरी, 2020|1:36|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गर्भनिरोधक गोली का सेवन करने से पहले हो जाएं सतर्क, पड़ सकता है दिमाग पर असर

contraceptive pills

दुनियाभर में बड़ी संख्या में महिलाएं अनचाही गर्भावस्था को रोकने के लिए गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करती हैं। वहीं, कई बार डॉक्टर भी मासिक धर्म से जुड़ी समस्याएं, सिस्ट से जुड़ी समस्या, मासिक धर्म में होने वाला दर्द और पीसीओडी में भी गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करने का सुझाव देते हैं।

 भले ही अनचाही गर्भावस्था को रोकने में ये गोलियां मददगार हों लेकिन इनके कई दुष्प्रभाव होते हैं। एक हालिया शोध के अनुसार गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन से न सिर्फ शरीर में हार्मोन का असंतुलन हो जाता है बल्कि दिमाग पर भी इसका असर होता है।  गर्भनिरोधक गोलियां सिर्फ शरीर पर ही नहीं बल्कि दिमाग पर भी दुष्प्रभाव डालती हैं। 

शरीर में असंतुलित हो जाते हैं हार्मोन
गर्भनिरोधक गोलियां, शरीर में हार्मोन रिलीज करती हैं जिससे शरीर में पहले से मौजूद हार्मोन असंतुलित हो जाते हैं। इस वजह से मासिक धर्म अनियमित हो जाता है। कुछ महिलाओं को तो गर्भनिरोधक गोलियां लेने के बाद उल्टी आना, चक्कर आना, सिर घूमना जैसी दिक्कतें भी अनुभव होती हैं। साथ ही वजन बढ़ना और मूड में परिवर्तन होने जैसी भी दिक्कत आ सकती है।

हाव-भाव समझने की क्षमता होती है प्रभावित
गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल करने वाली महिलाओं में चेहरे के हाव-भावों को पढ़ने की क्षमता प्रभावित हो सकती है। जर्मनी में ग्रीफ्सवाल्ड विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए शोध में पता चला कि गोलियों का इस्तेमाल नहीं करने वाली महिलाओं की तुलना में गोलियों का उपयोग करने वाली महिलाओं में तकरीबन 10 प्रतिशत बुरा असर दिखा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Does birth control pills mess with your hormones and brain