DA Image
17 अक्तूबर, 2020|12:34|IST

अगली स्टोरी

Covid-19:कोरोनाकाल में 'फील गुड' के लिए पहनें पीले कपड़े, जानें किस रंग का क्या है मतलब

yellow dress

कोरोनाकाल में मन का अशांत होना लाजिमी है। कभी संक्रमण की जद में आने तो कभी नौकरी गंवाने की चिंता में लोगों के दिन का सुकून और रातों की नींद छिन गई है। हालांकि, जर्मनी स्थित जोहानिस गुटेनबर्ग यूनिवर्सिटी के हालिया अध्ययन की मानें तो रंग फील गुड हार्मोन का स्त्राव बढ़ाने और स्ट्रेस हार्मोन के उत्पादन में कमी लाने में खासे मददगार साबित हो सकते हैं। पीले रंग के कपड़े पहनने से नकारात्मक विचारों पर काबू पाने में सबसे ज्यादा मदद मिलती है।

हर रंग कुछ कहता है...
1.पीला

-पीले रंग को देखते ही फील गुड हार्मोन ‘सेरोटोनिन’ का स्त्राव बढ़ा देता है मस्तिष्क
-मन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है, भविष्य को लेकर नई उम्मीद जगती है
-चयापचय क्रिया में सुधार लाने में कारगर, एकाग्रता में वृद्धि से सुख-समृद्धि भी बढ़ती है

2.गुलाबी
-आंखों को सुकून पहुंचाता है गुलाबी रंग, ‘डोपामाइन’ नाम के फील गुड हार्मोन का स्त्राव भी बढ़ाता है
-मूड सुधारने, एकाग्रता बढ़ाने और यौन उत्तेजना में कमी की शिकायत दूर करने में कारगर है डोपामाइन
-‘ऑक्सीटोसिन’ का उत्पादन भी तेज होता है, रक्तप्रवाह को सुचारु बनाकर मन शांत रखता है यह हार्मोन

3.लाल
-लाल रंग प्यार और गुस्सा, दोनों का ही प्रतीक माना जाता है, ऐसे में तनावग्रस्त हैं तो इस रंग के कपड़े न पहनें
-हालांकि, पार्टनर के साथ रूमानी पल बिताने की सोच रहे तो लाल रंग से सामने वाले को आकर्षित करने में मदद मिल सकती है

4.हरा
-हरा रंग सुख, समृद्धि, शांति, स्वास्थ्य सुरक्षा और नई शुरुआत का प्रतीक माना जाता है
-तन-मन में सकारात्मक ऊर्जा के संचार के अलावा ताजगी का एहसास कराने में कारगर
-स्ट्रेस हार्मोन कॉर्टिसोल का उत्पादन घटाकर रक्तचाप, हृदयगति और ब्लड शुगर नियंत्रित रखता है

5.नीला
-नीले रंग को सुख, शांति, सुरक्षा और स्थायित्व का भाव जगाने में खासा कारगर पाया गया है
-यही कारण है कि फेसबुक-ट्विटर जैसी सोशल साइट के लोगो नीले रंग से तैयार किए गए हैं
-फील गुड हार्मोन का उत्पादन बढ़ाकर न सिर्फ एकाग्रता, बल्कि एक साथ कई काम निपटाने की क्षमता में भी इजाफा करता है

6.काला और सफेद
-काला रंग डर, गम, गुस्सा और नफरत का भाव दर्शाता है, इसे पहनने से आत्मविश्वास में कमी की शिकायत सता सकती है
-वहीं, सफेद रंग शांति-सुकून का प्रतीक है, मन से नकारात्मक विचार निकालने में सहायक, जीवन को सुव्यवस्थित ढंग से जीने के विचार भी पैदा करता है

सर्वे का सच
-इस अध्ययन में 40 देशों के 4598 वयस्क शामिल हुए
-12 रंगों को देख मन में पनपने वाले भाव जाहिर किए
-90 फीसदी से ज्यादा प्रतिभागियों ने पीले रंग को खुशी-उत्साह का रंग बताया
-85 प्रतिशत से अधिक ने कहा, गुलाब रंग को देख प्यार-खुशी का एहसास जगता है

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Covid-19: Wear yellow clothes to have feel good feeling in this corona time know What each color represents