DA Image
10 जुलाई, 2020|9:18|IST

अगली स्टोरी

Covid-19:घर से ज्यादा घंटे काम करना सेहत के लिए नुकसानदायक, बढ़ सकता है इस बीमारी का खतरा

stress

कोरोनावायरस के कारण ज्यादातर लोग घर से ही काम कर रहे हैं। घरों से लोगों को हर दिन औसतन तीन घंटे ज्यादा काम करना पड़ रहा है। जरूरत से ज्यादा काम करना लोगों की सेहत के लिए बेहद नुकसानदायक हो सकता है। एक नए अध्ययन में पता चला है कि जो लोग जरूरत से ज्यादा काम करते हैं, उनको अंडरएक्टिव थायरॉइड होने की संभावना दोगुनी होती है। इस स्थिति को हाइपोथायरायडिज्म के रूप में जाना जाता है।

कई बीमारियां पनप सकती हैं-
अध्ययन के मुताबिक, यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें थायरॉइड ग्रंथि (जो गर्दन में एक अंतःस्रावी ग्रंथि होती है) पर्याप्त हार्मोन का उत्पादन नहीं करती हैं। अपर्याप्त थायरॉइड हार्मोन उत्पादन के कारण मेटाबॉलिक ग्लैंड धीमा हो जाता है। इस वजह से कई स्वास्थ्य समस्याएं जैसे हृदय रोग और मधुमेह विकसित हो जाता है। थायरॉइड ग्रंथि कई हार्मोन पैदा करती है जिससे कई प्रकार के कार्य होते हैं।

थायरॉइड द्वारा उत्पादित हार्मोन हृदय की कार्यप्रणाली, पाचन मांसपेशियों के नियंत्रण, मस्तिष्क के विकास और हड्डियों के रखरखाव को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण हैं।

लंबे घंटों तक काम करना हाइपोथायरायडिज्म से संबंधित-
शोधकर्ताओं ने कहा, जो लोग एक सप्ताह में 53 घंटे से अधिक काम करते हैं, उनमें अंडरएक्टिव थायरॉइड विकसित होने की संभावना अधिक होती है। अध्ययन में देखा गया कि जिन लोगों ने सप्ताह में 53 घंटे से अधिक काम किया, उनमें 36 से 42 घंटे काम करने वाले लोगों की तुलना में हाइपोथायरायडिज्म होने की संभावना दोगुना थी।

दक्षिण कोरिया के गोयांग-सी में स्थित राष्ट्रीय कैंसर केंद्र में प्रमुख शोधकर्ता यंग की ली ने कहा, जरूरत से ज्यादा कार्य करना दुनियाभर के कामकाजी लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए एक गंभीर समस्या है। उन्होंने आगे कहा, हमारा अध्ययन यह दिखाता है कि लंबे घंटों तक काम करना हाइपोथायरायडिज्म से संबंधित है। 

महिलाओं को अधिक प्रभावित करता है-
शोधकर्ताओं ने उन लोगों में हाइपोथायरायडिज्म का अधिक खतरा देखा, जिन्होंने अपनी सामाजिक आर्थिक स्थिति और संबंधों की परवाह किए बिना लंबे समय तक काम किया। अध्ययन के मुताबिक, यह विकार पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक प्रभावित करता है।

इस अध्ययन के परिणाम एंडोक्राइन सोसाइटी नामक जर्नल में प्रकाशित हुए हैं। शोधकर्ता ली ने कहा, सप्ताह में 53 से 83 घंटे के बीच कार्य करना प्रतिदिन के 10.5 से 16.5 घंटे के बराबर होता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Covid-19:sitting late hours while working from home can increase the risk of Underactive thyroid diseases in women