DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  टीका लगवाने के बाद भी होटल-रेस्तरां का रुख करने से बचें, जानें किन नियमों का सख्ती से करना होगा पालन

जीवन शैलीटीका लगवाने के बाद भी होटल-रेस्तरां का रुख करने से बचें, जानें किन नियमों का सख्ती से करना होगा पालन

एजेंसियां,नई दिल्लीPublished By: Manju Mamgain
Mon, 10 May 2021 08:48 AM
टीका लगवाने के बाद भी होटल-रेस्तरां का रुख करने से बचें, जानें किन नियमों का सख्ती से करना होगा पालन

ज्यादातर लोगों को लगता है कि कोविड-19 टीकाकरण करवाते ही वे एक बार फिर सामान्य जीवन जीने लगेंगे। उन्हें न तो मास्क लगाने की जरूरत पड़ेगी, न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। दोस्तों से मिलने-जुलने, होटल-रेस्तरां का खाना खाने और पार्टी करने पर लगी बंदिश भी हट जाएगी। हालांकि, हकीकत इससे परे है। अमेरिका के रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र (सीडीसी) ने अपने हालिया दिशा-निर्देशों में स्पष्ट किया है कि वैक्सीन लगवाने के बाद लोग क्या कर सकते हैं और क्या नहीं।

सार्वजनिक स्थलों पर सतर्कता जरूरी
सीडीसी के मुताबिक जब तक दुनिया ‘हर्ड कम्युनिटी’ हासिल करने के करीब नहीं पहुंच जाती, यानी आबादी का बड़ा हिस्सा वायरस के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता नहीं विकसित कर लेता, तब तक सार्वजनिक स्थलों पर मास्क पहनना, दो मीटर की सामाजिक दूरी बनाना, समय-समय पर साबुन से हाथ धोते रहना और भीड़ जुटाने से बचना बेहद जरूरी है।

टीका लगवा चुके लोगों से मिलने में दिक्कत नहीं
अमेरिकी सीडीसी के अनुसार लोग पूर्ण टीकाकरण के कम से कम दो हफ्ते बाद बंद जगहों पर उन लोगों से बेहिचक मिल-जुल सकते हैं, जिन्हें वैक्सीन की जरूरी खुराक हासिल हो चुकी है, वो भी मास्क पहनने या सोशल डिस्टेंसिंग पर अमल करने के दबाव के बगैर। 

बच्चों के मामले में सावधानी बरकरार रखें
जॉन हॉपकिंस ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के प्रोफेसर क्रिस ब्रेयर कहते हैं, 16 साल से उम्र के बच्चों के लिए फिलहाल कोई टीका उपलब्ध नहीं है। ऐसे में उनके अभिभावकों को टीकाकरण के बावजूद औरों से मिलते-जुलते और बाहर निकलते समय कोविड प्रोटोकॉल का पालना करना चाहिए। खासतौर पर तब, जब बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो।

टीकाकरण नहीं करवाने वालों से मिल सकते हैं या नहीं
सीडीसी के दिशा-निर्देशों में कहा गया है कि जिन लोगों को वैक्सीन नहीं लगी है, अगर वे एक ही घर से हों और कोविड-19 के प्रति ज्यादा संवेदनशील न हों तो उनसे बिना मास्क के मिलने में बुराई नहीं है। हालांकि, मेयो वैक्सीन रिसर्च ग्रुप ने इससे बचने की सलाह दी है, क्योंकि कई लोगों को खुद के संवेदनशील होने की जानकारी नहीं होती या वे इसे छिपाते हैं।

वैक्सीन लगवाने के बाद क्या प्राथमिकता होनी चाहिए
कोरोना के डर से बड़ी संख्या में लोगों के इलाज और सर्जरी टालने की खबरें सामने आई हैं। हालांकि, विशेषज्ञ कहते हैं कि टीकाकरण के बाद स्वास्थ्य समस्याओं को लेकर चिकित्सकीय सलाह लेना, जरूरी जांच से गुजरना और ऑपरेशन करवाना पहली प्राथमिकता होना चाहिए, ताकि बीमारी विकराल रूप न ले।

यात्रा कर सकते हैं या नहीं, क्या सावधानियां जरूरी
-जॉर्ज वाशिंगटन यूनिवर्सिटी की आपात चिकिस्तक डॉ. लियाना वेन कहती हैं, टीकाकरण के बाद यात्रा करना, होटल में ठहरना या रेस्तरां का खाना खाना ज्यादा असुरक्षित नहीं होता, बशर्ते व्यक्ति कोविड प्रोटोकॉल को अमल में लाए और साफ-सफाई पर ध्यान दे। हालांकि, उच्च संक्रमण दर वाले इलाकों में जाने से बचना चाहिए। इसके अलावा उन लोगों से मेल-मिलाप में सावधानी बरतनी चाहिए, जिनका टीकाकरण नहीं हुआ है।

बुजुर्गों के लिए आवाजाही कितनी सुरक्षित
डॉ. वेन स्पष्ट करती हैं कि बुजुर्ग अगर मास्क पहनें, सैनेटाइजर का इस्तेमाल करें और सामाजिक दूरी बनाकर चलें तो पूर्ण टीकाकरण के बाद उनके सफर में संक्रमित होने या दूसरों में वायरस का वाहक बनने का खतरा काफी कम हो जाता है। हालांकि, घर में अगर बच्चे, किशोर या कमजोर प्रतिरोधक तंत्र वाले लोग हों तो बुजुर्गों का यात्रा न करना ही बेहतर है।

कहां जाना सुरक्षित, कहां खतरनाक
टीका लगवा चुके लोग म्यूजियम सहित उन जगहों पर जा सकते हैं, जहां मास्क पहनना और शांति बनाए रखना अनिवार्य है। हालांकि, उनका होटल-रेस्तरां, बार, जिम, इबादतगाह का रुख करना खतरनाक साबित हो सकता है, क्योंकि इन जगहों पर बड़ी संख्या में लोग एक-दूसरे से बातें करते हैं या गाने गाते हैं। दोनों ही प्रक्रिया में हवा में संक्रमित एयरोसोल (नाक-मुंह से निकलने वाली पानी की सूक्ष्म बूंदें) फैलने का जोखिम काफी बढ़ जाता है।

संबंधित खबरें