DA Image
13 जुलाई, 2020|2:38|IST

अगली स्टोरी

Covid-19:मोटे बच्चों में ज्यादा गंभीर कोविड-19 का खतरा, ये है वजह

obese kids

मोटापे से पीड़ित बच्चों में कोरोनावायरस के गंभीर लक्षण पनपने का खतरा ज्यादा है। एक हालिया शोध में यह दावा किया गया है। न्यूयॉर्क सिटी अस्पताल में 50 कोविड-19 से पीड़ित बच्चों पर अध्ययन के आधार पर यह रिपोर्ट तैयार की गई है।  इन बच्चों में से 11 बच्चे मोटापे से ग्रस्त थे। इनमें से छह बच्चों को इलाज के दौरान वेंटिलेटर की जरूरत पड़ी। न्यूयॉर्क की कोलंबिया यूनिवर्सिटी के इरविंग मेडिकल सेंटर के शोधकर्ता डॉक्टर फिलिप जाचारिए ने कहा, कोरोनावायरस से पीड़ित वयस्कों के लिए मोटापे को जोखिम का कारण माना गया है। इस शोध को पत्रिका जामा पीडियाट्रिक्स में प्रकाशित किया गया है। 

शोधकर्ता डॉक्टर चार्ल्स क्लीयेन ने कहा, जो बच्चे गंभीर रूप से बीमार थे उनकी बीएमआई काफी ज्यादा थी। यह बिल्कुल वयस्क मरीजों की तरह ही था जो मोटापे से ग्रस्त होने के कारण कोरोनावायरस से ज्यादा बीमार थे। इन 50 बच्चों में से नौ बच्चे गंभीर रूप से बीमार थे। इन बच्चों को मार्च के अंत और अप्रैल के पहले सप्ताह में कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया था। शोध में पाया गया कि बड़े बच्चे जिनकी औसत उम्र 14 साल थी उनमें कोविड-19 के गंभीर लक्षण देखे गए। 

नवजातों में गंभीर लक्षण देखने को नहीं मिले। गंभीर मामलों में खांसी, सांस लेने में परेशानी, बुखार जैसे लक्षण थे और साथ ही 44 फीसदी बच्चों में जठरांत्र से संबंधित जटिलताएं भी पाई गईं। हालांकि शोध में यह भी देखा गया कि बच्चों में गंभीर लक्षण पैदा होने का जोखिम काफी कम था। शोधकर्ताओं ने कहा कि शोध में बच्चों की संख्या काफी कम थी और इसलिए इसपर और शोध करने की जरूरत है। 

बच्चों में कम नजर आते हैं लक्षण
विशेषज्ञों का मानना है कि बच्चों में कोविड-19 संक्रमण के ज्यादातर मामलों में या तो बहुत कम लक्षण थे या फिर वे लक्षण रहित थे। बाल विशेषज्ञ डॉक्टर माइकल ग्रोसो ने कहा, कोविड-19 से नवजातों और बच्चों के मरने का खतरा काफी कम है। हालांकि, बच्चों में मोटापे बीमारी के गंभीर लक्षणों का कारण बन सकता है और उन्हें वेंटिलेटर की जरूरत पड़ सकती है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Covid-19: Know why Obese kids are at higher risk of Coronavirus