DA Image
30 अक्तूबर, 2020|1:02|IST

अगली स्टोरी

Covid-19:भारत में हो सकता है कोरोना टीके के बड़े हिस्से का मेन्यूफेक्चरिंग

coronavirus vaccine  file pic

निजी क्षेत्र के मजबूत भागीदारों के दम पर कोविड-19 के टीके के एक बड़े हिस्से का विनिर्माण भारत में होने की संभावना है। बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) मार्क सुजमैन ने यह टिप्पणी की है।

सुजमैन ने एक साक्षात्कार में कहा कि भारत उपलब्ध संसाधनों के साथ हर वह कदम उठा रहा है, जो वह कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिए उठा सकता है। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि भारत उपलब्ध संसाधनों के साथ अभी हर वह उपाय कर रहा है, जो किए जाने की जरूरत है। हम सभी उम्मीद कर रहे हैं कि अगले साल तक कुछ टीके तैयार हो जाने चाहिए।

हमारी उम्मीद यह भी है कि मजबूत निजी साझेदारों के दम पर इन टीकों के बड़े हिस्से का विनिर्माण भारत में हो सकता है।' उन्होंने कोविड-19 टीकों के समान वैश्विक वितरण की आवश्यकता को रेखांकित किया।

उन्होंने कहा, 'हम यह मानते हैं कि टीकों के समान वैश्विक वितरण की आवश्यकता है। इसलिए हम जो कुछ भी कर रहे हैं, वह यह सुनिश्चित करने के लिए है कि विकासशील देशों को अमीर देशों के साथ ही और समान मात्रा में टीके उपलब्ध हो सकें, क्योंकि यह एक वैश्विक महामारी के लिए आवश्यक है।' उन्होंने कहा कि बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन कोविड-19 का मुकाबला करने के लिए कई स्तरों पर काम कर रहा है।

सुजमैन ने कहा, 'हम शोध व विकास के लिए समर्थन मुहैया करा रहे हैं। हम कोलिशन फोर एपिडेमिक प्रीपेयर्डनेस इनोवेशन (सीईपीआई) के साथ मिलकर काम कर रहे हैं, जो संभावित टीके में निवेश करने की दिशा में अग्रणी भागीदार है। हमने थेराप्यूटिक एक्सेलेरेटर विकसित किया है, जिसने कोविड-19 के खिलाफ प्रभावी हो सकने वाले उपचारों की खोज में मदद करने के लिए 12.5 करोड़ डॉलर की पूंजी जमा की है।'

फाउंडेशन कोविड-19 के संक्रमण की जांच की दिशा में भी काफी काम कर रहा है। हम कोवैक्स नाम की उस बहुपक्षीय मुहिम का हिस्सा भी हैं, जिसमें भारत भी शामिल है और जिसे वृहद स्तर पर टीके के विकास व वितरण के लिए मिलकर बनाया गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Covid-19 good news: Large parts of corona vaccine may be manufactured in India