DA Image
2 दिसंबर, 2020|9:14|IST

अगली स्टोरी

Covid-19:लार की जांच से मिलेगा छुपा संक्रमण, शुरूआती चरण में ही लगेगा बीमारी का पता

pesticides are effective in eliminating  coronavirus

झुंड की प्रतिरक्षा या हर्ड इम्युनिटी के जरिए कोरोना पर काबू पाने को लेकर वैज्ञानिक अब भी आशांवित हैं। उनका कहना है कि एंटीबॉडी जांच की जगह अगर लार या सलाइवा जांच करायी जाने लगे तो संक्रमण की सही स्थिति का पता लगेगा। जिससे आकलन किया जा सकेगा कि देश हर्ड इम्युनिटी के लिए कितना तैयार हुआ। 

हर्ड इम्युनिटी का मतलब है कि किसी इलाके में रहने वाली 60 फीसदी आबादी के अंदर वायरस से लड़ने की प्रतिरक्षा पैदा हो जाना है, जिससे वायरस उन लोगों पर असर न कर सके। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल के संपादकीय के सहलेखक दीपेंद्र गिल ने लिखा है कि अभी जो तरीका अपनाया जा रहा है, उसमें एंटीबॉडी के सभी रूपों की जांच नहीं की जा रही। जिससे बहुत कम अनुपात में लोग संक्रमित मिल रहे हैं जो कि असली स्थिति नहीं है।  

लार की जांच से मिलेगा छुपा संक्रमण- 
जर्नल से जुड़े वैज्ञानिकों का कहना है कि लार की जांच कराने पर हल्के लक्षण वाले और बिना लक्षणों वाले मामले सामने आएंगे।  वैज्ञानिकों का कहना है कि अभी एलजीए नामक एंटीबॉडी के बारे में रूटीन जांच नहीं की जा रही है जबकि इसमें एंटीबॉडी मौजूद होती हैं। एलजीए म्यूकस और सलाइवा यानी नाक के कणों व लार में पायी जाती है। ये वही मार्ग हैं जहां से वायरस शरीर में प्रवेश करता है। 

शुरूआती चरण में बीमारी की खोज-
जर्नल के मुताबिक, लार की जांच से एलजीए एंटीबॉडी का पता लगाकर शुरूआती चरण में ही वायरस का पता लगाया जा सकता है। जब एंटीबॉडी लार में मौजूद होती है तब वह फेफड़ों के जरिए पूरे रक्त में नहीं पहुंची होती। यही कारण है कि लार की जांच में संक्रमित लोगों की सटीक संख्या सामने आती है।   

‘ब्रिटेन हर्ड इम्युनिटी के करीब’-
ब्रिटेश के प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों का कहना है कि यह देश हर्ड इम्युनिटी के करीब हो सकता है। यहां अगर एंटीबॉडी जांच की जगह सलाइवा जांच की जाए तो बड़ी संख्या में लोग संक्रमित मिल सकते हैं। अभी तक हुए हर्ड इम्युनिटी से जुड़े अध्ययनों में सामने आया है कि ब्रिटेन में मात्र सात प्रतिशत हर्ड इम्युनिटी बनी जबकि लंदनवासियों में 17 प्रतिशत हर्ड इम्युनिटी विकसित हुई है। यह आकलन एंटीबॉडी जांच के जरिए किया गया है। 

-11% लग्जमबर्ग के लोगों में सलाइवा जांच के जरिए इम्युनिटी पायी गई
-2% लोगों के शरीर में ही इम्युनिटी मिली जब एंटीबॉडी जांच का प्रयोग हुआ।
-पारंपरिक जांच के द्वारा 7% ब्रिटेश के लोगों में ही हर्ड इम्युनिटी पायी गई ।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Covid-19: Detection of saliva will reveal hidden corona infection in early stage