DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  कोरोना को मात दे चुके लोगों में बढ़ रहा है हार्ट अटैक का खतरा, बचाव के लिए काम आएंगे ये टिप्स

जीवन शैलीकोरोना को मात दे चुके लोगों में बढ़ रहा है हार्ट अटैक का खतरा, बचाव के लिए काम आएंगे ये टिप्स

हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Manju Mamgain
Thu, 13 May 2021 11:30 AM
कोरोना को मात दे चुके लोगों में बढ़ रहा है हार्ट अटैक का खतरा, बचाव के लिए काम आएंगे ये टिप्स

कोरोना संक्रमण को हरा चुके लोग अब हार्ट अटैक की जद में आ रहे हैं। अगर आपका कोई अपना अभी-अभी कोरोना को मात देकर लौटा है तो बेहद जरूरी है कि आप विशेष ख्याल रखें ताकि हार्ट अटैक का जोखिम घट सके। हाल में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के किए एक शोध से पता लगा है कि ठीक होने के एक महीने के अंदर ही 50% मरीजों को हृदयाघात का सामना करना पड़ रहा है। आइए जानते हैं क्या हैं इसके बचाव के उपाय।

क्या है कारण-
विशेषज्ञों का मानना है कि यदि कोरोना संक्रमित हो चुके व्यक्ति के हृदय पर भी असर पड़ा है तो उसको हृदयाघात की आशंका रहती है। कई बार रिकवर मरीजों में रक्तचाप की समस्या उभरती है जिसमें ब्लड प्रेशर के अचानक बढ़ने या घटने जैसी दिक्कतें हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक कोविड-19 का संक्रमण शरीर में इंफ्लेमेशन को ट्रिगर करता है, जिससे दिल की मांसपेशियां कमजोर होने लगती हैं। साथ ही धड़कन की गति भी प्रभावित होती है। इससे खून का थक्का जमने आदि की समस्या हो जाती है। उन्होंने कहा कि दरअसल कोरोना से हृदय की मांसपेशियां कमजोर पड़ जाती हैं। हार्ट में इंफ्लेमेशन बढ़ने से ऐसा होता है। इससे हार्ट फेलियर, ब्लड प्रेशर की दिक्कत और धड़कन की गति तेज या धीमी होने लगती है। इसके अलावा फेफड़ों में खून के थक्के जमने की वजह से हार्ट पर बुरा असर पड़ता है। युवाओं में ये परेशानी ज्यादा देखने को मिल रही है।

कब करवाएं जांच-
विशेषज्ञों का कहना है कि कोविड-19 के बाद अगर आपकी छाती में दर्द की शिकायत है या फिर आपको पहले से कोई हृदय रोग है तो आपको इसकी इमेजिंग जरूर करवानी चाहिए। इससे पता चल जाएगा कि वायरस ने हार्ट की मांसपेशियों को कितना नुकसान पहुंचाया है। हल्के लक्षण वाले मरीज भी ये करवा सकते हैं। 

लक्षण-
इसमें मरीज को सांस लेनें में तकलीफ होती है। दिल की धड़कन तेज और अनियमित हो जाती है। बहुत ज्यादा कमजोरी महसूस होने लगती है। इसके साथ ही पंजे, एड़ी या पैर में सूजन भी आ जाती है। इसके अलावा लगातार खांसी, भूख न लगना और बार-बार पेशाब आना भी इसके मुख्य लक्षण हैं। अगर किसी को ये सारे लक्षण महसूस हो रहे हैं तो उसे तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। 

बचाव एवं उपाय-
प्रसिद्ध कार्डियोलॉजिस्ट हेलेन ग्लासबर्ग ने कोविड-19 के दौरान हृदय को स्वस्थ्य रखने के कुछ तरीके सुझाएं हैं जो इस प्रकार हैं-
-सामाजिक दूरी बनाए रखें।
-मास्क जरूर लगाएं। 
-स्वस्थ जीवन शैली की आदतें बनाए रखें।
-नियमित दिनचर्या का पालन करें। 
-टेलीमेडिसिन का लाभ उठाएं।
-अपनी दवाएं लेना जारी रखें।
-योग, प्राणायाम और व्यायाम करें।
-सतर्क और चौकन्ने रहें।
-समय समय पर जांच कराते रहें।
-मिर्च या मसालों से रहित सादा भोजन करें।
-तरल पदार्थों का अधिक सेवन करें।
-सिगरेट और शराब से दूर रहें।
-नींद पर्याप्त लें।

 

यह भी पढ़ें : कोविड का सामना कर रही हैं, तो प्रोटीन इनटेक बढ़ाने के लिए इन शाकाहारी फूड्स को करें आहार में शामिल

 

संबंधित खबरें