DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   लाइफस्टाइल  ›  बजट 2020: जानें मोदी सरकार कहां-कहां लगा रही है पर्यटन पर पैसा

जीवन शैलीबजट 2020: जानें मोदी सरकार कहां-कहां लगा रही है पर्यटन पर पैसा

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Manju
Sat, 01 Feb 2020 03:56 PM
बजट 2020: जानें मोदी सरकार कहां-कहां लगा रही है पर्यटन पर पैसा

केन्‍द्रीय वित्‍त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज संसद में वित्‍त वर्ष 2020-21 का केन्‍द्रीय बजट पेश किया। बजट में भारत को अंतर्राष्‍ट्रीय और घरेलू दोनों ही तरह के पर्यटकों के लिए एक आकर्षक गंतव्‍य बनाने के लिए उन्‍होंने पर्यटन क्षेत्र के लिए 2020-21 में 2500 करोड़ रुपये के आवंटन का प्रस्‍ताव किया है। इसके अलावा वित्‍त और कॉरपोरेट कार्य मंत्री ने संस्‍कृति मंत्रालय के लिए 3150 करोड़ रुपये के आवंटन का भी प्रस्‍ताव किया है।  

संग्रहालय विज्ञान और पुरातत्‍व विज्ञान की विधाओं में अच्‍छी तरह प्रशिक्षित संसाधनों के लिए वित्‍त मंत्री ने देश के पहले भारतीय धरोहर और संरक्षण संस्‍थान स्‍थापित करने का प्रस्‍ताव किया है। इस संस्‍थान का दर्जा मानद विश्‍वविद्यालय का होगा और यह संस्‍कृति मंत्रालय के अधीन परिचालित होगा। उन्‍होंने कहा कि संग्रहालय विज्ञान और पुरातत्‍व विज्ञान जैसी विधाओं में ज्ञान अर्जित करना निष्‍कर्षों की वैज्ञानिक प्रमाणिता जुटाने, विश्‍लेषण करने और उच्‍च स्‍तरीय संग्रहालयों के माध्‍यम से उनका प्रचार और प्रसार के लिए आवश्‍यक है।

अच्‍छे रैंक के लिए बेहतर पर्यटन राजस्‍व के बारे में प्रकाश डालते हुए वित्‍तमंत्री ने कहा कि भारत का वर्ष 2014 में यात्रा और पर्यटन प्रतिस्‍पर्धी सूचकांक (विश्‍व आर्थिक मंच) में 65वां स्‍थान था जो 2019 में 34वें पायदान पर पहुंच गया है। इस कारण विदेशी मुद्रा आय जनवरी से नवम्‍बर 2019 अवधि के लिए 1.75 लाख करोड़ रुपये से बढ़कर 1.88 लाख करोड़ रुपये हो गई है। इस प्रकार 7.4 प्रतिशत बढ़ोत्‍तरी दर्ज हुई है।

पर्यटन को प्रोत्‍साहित करने के एक प्रमुख प्रयास के रूप में वित्‍तमंत्री ने 8 नये संग्रहालयों की स्‍थापना का प्रस्‍ताव किया है। इनमें 5  प्रमुख पर्यटन स्‍थलों के आस-पास भवन बुनियादी ढांचे का विकास भी शामिल है। इसके अलावा भारत के विभिन्‍न भागों में स्थित 5 प्रमुख संग्रहालयों की कायाकल्‍प का भी उन्‍होंने प्रस्‍ताव किया है।

केन्‍द्रीय वित्‍तमंत्री ने निम्‍नलिखित प्रस्‍ताव किये हैं :-

निम्‍नलिखित 5 पुरातत्‍व स्‍थलों को स्‍थानिक संग्रहालय वाले प्रतिमान स्‍थलों के रूप में स्‍थापित/विकसित किया जायेगा :-
राखीगढ़ी (हरियाणा)
हस्तिनापुर (उत्‍तर प्रदेश)
शिवसागर (असम)
धौलाविरा (गुजरात)
आदिचनल्‍लूर (‍तमिलनाडु)
पोत परिवहन मंत्रालय द्वारा लोथल, अहमदाबाद में हड़प्‍पा युग पर प्रकाश डालने के लिए एक पोत संग्रहालय स्‍थापित किया जायेगा।
कोलकाता

भारतीय संग्रहालय: प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी द्वारा जनवरी, 2020 में कोलकता में की गई घोषणा के अनुसार भारतीय संग्रहालय का पुररुद्धार। ऐतिहासिक पुराने टकसाल भवन में मुद्रा-विषयक और व्‍यापार पर एक संग्रहालय स्‍थापित किया जायेगा। रांची (झारखंड) में जनजातीय संग्रहालय की स्‍थापना में मदद। पूरे देश में 4 और संग्रहालयों का नवीकरण और री-क्‍यूरेशन किया जाएगा।

विकास और रोजगार सृजन के लिए इस प्रस्‍तावित योजना में राज्‍यों की भूमिका को मान्‍यता देते हुए श्रीमति सीतारमण ने कहा कि पर्यटन में वृद्धि का विकास और रोजगार से सीधा संबंध है। राज्‍यों को एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। मुझे उम्‍मीद है कि राज्‍य सरकारें कुछ चिन्‍हित स्‍थलों के लिए एक योजना तैयार करेंगी और 2020-21 के दौरान वित्‍तीय योजना भी तैयार करेंगी। जिसके तहत 2020-21 में राज्‍यों को विशिष्‍ट अनुदान उपलब्‍ध कराया जायेगा।        

इस आर्टिकल को शेयर करें
लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

सब्सक्राइब
अपडेट रहें हिंदुस्तान ऐप के साथ ऐप डाउनलोड करें

संबंधित खबरें