फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ लाइफस्टाइलभारती सिंह ने इंटरमिटेंट फास्टिंग से घटाया था वजन, जानिए क्या प्रेग्नेंसी में ऐसा करना सही या गलत?

भारती सिंह ने इंटरमिटेंट फास्टिंग से घटाया था वजन, जानिए क्या प्रेग्नेंसी में ऐसा करना सही या गलत?

कॉमेडियन भारती सिंह ने बीते साल अपने वेट लॉस ट्रांसफॉर्मेशन से सभी को चौंका दिया था। अपने वेट लॉस तरीके के बारे में बताते हुए भारती ने इंटरमिटेंट फास्टिंग के बारे में बताया। बीते साल  उन्होंने...

भारती सिंह ने इंटरमिटेंट फास्टिंग से घटाया था वजन, जानिए क्या प्रेग्नेंसी में ऐसा करना सही या गलत?
Avantika Jainटीम लाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीTue, 01 Mar 2022 07:52 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

कॉमेडियन भारती सिंह ने बीते साल अपने वेट लॉस ट्रांसफॉर्मेशन से सभी को चौंका दिया था। अपने वेट लॉस तरीके के बारे में बताते हुए भारती ने इंटरमिटेंट फास्टिंग के बारे में बताया। बीते साल  उन्होंने अपना वजन 91 किलो से 76 किलो किया था। इस फास्टिंग की इंट्रेस्टिंग बात ये है कि इसके लिए भारती ने खाना-पीना भी नहीं छोड़ा बल्कि वह जी भरकर खाती रहीं। भारती ने बताया कि वह शाम 7 बजे से दोपहर 12 बजे तक कुछ नहीं खातीं थी, हालांकि इसके बाद वह जो मन करता था वो खाती थीं।

 

क्या है इंटरमिटेंट फास्टिंग

इंटरमिटेंट फास्टिंग में कुछ घंटों के लिए अपने डाइजेस्टिव सिस्टम को आराम देना होता है। इसे कई तरह से कर सकते हैं। 5:2 डायट इसमें हफ्ते के दो दिन आपको कम कैलरी खानी होती है बाकी के 5 दिन आप जी भरकर खा-पी सकते हैं। अध्यन की मानें तो 1 दिन छोड़कर फास्ट करने से वजन तेजी से घटता है। इसमें आपको खाना नहीं छोड़ना होता बल्कि एक दिन छोड़कर कम कैलोरी का खाना खाया जा सकता है। ऐसे में आज हम बता रहे हैं प्रेग्नेंसी के दौरान क्या इसे करना सही या गलत-

रिपोर्ट्स की मानें तो प्रेग्नेंसी के दौरान ऐसा करना मां और बच्चे के लिए खतरनाक साबित हो सकता है।

1) विटामिन और पोषक तत्वों की कमी हो सकती है। 

इंटरमिटेंट फास्टिंग के दौरान आप लिमिटिड समय के लिए खाते हैं। सही शब्दों में कहें तो आप बहुत कम देर के लिए खाते हैं। ऐसे में शरीर को पूरे दिन जो न्यूट्रिशियन मिलने चाहिए वो मिलने में कमी हो सकती है। खासकर प्रेगनेंट महिलाओं के लिए। रिपोर्ट्स की मानें तो प्रेगनेंट महिला को  पूरे दिन में 300 कैलोरी खानी चाहिए।


2) ब्लड शुगर हो सकता है कम

जैसे हाई ब्लड शुगर गर्भवती महिलाओं के लिए खतरा है, ठीक उसी तरह कम शुगर लेवल भी चिंता का एक कारण है। बिना कुछ खाए-पिए लंबे समय तक इंटरमिटेंट फास्टिंग में रहने से से ब्लड शुगर कम हो सकता है। इससे आपको हल्कापन या बेहोशी महसूस हो सकती है। 


3) दूध क्वलिटी पर पड़ता है असर 

बच्चे को जन्म देने के बाद भी शरीर को पोषण की जरूरत होती है। स्तनपान करना वाली मां में दूध की आपूर्ति में सहायता के लिए विशेष पोषण संबंधी जरूरत होती हैं। बहुत लंबे समय तक फास्ट करना, कैलोरी को बहुत अधिक सीमित करना या तेजी से वजन कम करना आपके दूध की आपूर्ति को प्रभावित कर सकता है।

 

4) समय से पहले जन्म का खतरा 

अध्ययन की मानें तो प्रेगनेंट महिला के लिए फास्ट करना जोखिम भरा हो सकता है। दूसरी तिमाही में फास्ट रखने वाली महिलाओं में समय से पहले बच्चे के जन्म होने के 35% अधिक चांस होते हैं। हालांकि अध्ययन विशेष रूप से पूरे दिन खाना न खाने से जुड़ा था। इंटरमिटेंट फास्ट इसके जैसा हो सकता है, लेकिन आईएफ के कुछ रूप थोड़े कम चरम हो सकते हैं।

 

इस बात का रखें ख्याल 

आपको किसी भी तरह के प्लान को चुनने से पहले अपने डॉक्टर से कंसल्ट करना चाहिए। प्रेग्नेंसी के दौरान हर महिला के शरीर की अलग जरूरत होती है। ऐसे में यह जरूरी है कि आप अपने हेल्दी और बेलेंस डाइट पर फोकस करें।