DA Image
हिंदी न्यूज़ › लाइफस्टाइल › कोरोना के बाद अब नोरोवायरस ने बढ़ाई चिंता, जानें क्या है नोरोवायरस, लक्षण और बचाव के उपाय
लाइफस्टाइल

कोरोना के बाद अब नोरोवायरस ने बढ़ाई चिंता, जानें क्या है नोरोवायरस, लक्षण और बचाव के उपाय

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Manju Mamgain
Wed, 21 Jul 2021 11:31 AM
कोरोना के बाद अब नोरोवायरस ने बढ़ाई चिंता, जानें क्या है नोरोवायरस, लक्षण और बचाव के उपाय

दुनियाभर के लोगों के लिए कोरोनावायरस आज भी परेशानी का सबब बना हुआ है। लोग अभी इस वायरस के खौफ से पूरी तरह उभर भी नहीं पाएं हैं कि एक और वायरस ने उनकी चिंता बढ़ाकर रख दी है। माना जा रहा है कि यह वायरस कोरोनावायरस से भी ज्यादा खतरनाक है। सबसे ज्‍यादा डराने वाली बात है कि इस वायरस के केस नर्सरी और चाइल्‍ड केयर सेंटर्स जैसी उन जगहों पर ज्‍यादा पाए गए हैं जहां पर बच्‍चों की संख्‍या ज्‍यादा होती है। डॉक्टरों और वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ाने वाले इस वायरस का नाम है नोरोवायरस, जिसे उल्टी बग (vomiting Bug) के रूप में भी जाना जाता है। आइए जानते हैं आखिर क्या है यह नोरोवायरस, इसके लक्षण और बचाव के उपाय। 

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) की तरफ से कहा गया है कि नोरोवायरस कोरोना वायरस की तुलना में कहीं ज्‍यादा खतरनाक है और इसकी वजह से संक्रमण तेजी से फैलता है। जो भी व्‍यक्ति इस वायरस से संक्रमित है उसमें उल्‍टी और डायरिया जैसे लक्षण दिखााई देते हैं।

क्या है नोरोवायरस 
सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसार, नोरोवायरस एक बहुत ही संक्रामक वायरस है जो उल्टी और दस्त का कारण बनता है। इससे पीड़ित व्यक्ति काफी संख्या में दूसरों को भी बीमार कर सकता है। क्योंकि यह कम्युनिकेबल डिजीज (संक्रामक बीमारी) यानि एक से दूसरे को फैलने वाली बीमारी की श्रेणी में आती है। नोरोवायरस को ‘वोमेटिंग बग’ के रूप में भी जाना जाता है।

नोरोवायरस के लक्षण 
- डायरिया, उल्‍टी, सिर चकराना और पेट में तेज दर्द होना सबसे अहम लक्षण हैं।
- इसके अलावा बुखार, सिरदर्द और बदन दर्द भी कई मरीजों में देखा गया है।
- वायरस के शरीर में दाखिल होने के अंदर 12 से 48 घंटे में ही संक्रमण फैल जाता है।
- वायरस से संक्रमित व्‍यक्ति को 2 से 3 हफ्ते तक उल्‍टी होती है।

कोरोना की तरह फैलता है यह वायरस
सीडीसी का कहना है कि नोरोवायरस में कई अरब वायरस हैं। कोई भी व्‍यक्ति अगर इस वायरस से संक्रमित व्‍यक्ति के संपर्क में आता है, संक्रमित खाना खाता है, वायरस से प्रभावित सतह को छूता है या बिना हाथ धोएं मुंह में डाल लेता है, उसे इस वायरस से संक्रमित होने का खतरा ज्यादा है। ये वायरस दूसरे वायरस की ही तरह शरीर में दाखिल होकर उसे संक्रमित करता है। 

नोरोवायरस से बचाव
साफ-सफाई रखकर काफी हद तक नोरोवायरस से सुरक्षित रहा जा सकता है। नोरावायरस का संक्रमण खाने-पीने की चीजों से भी फैल सकता है। सीडीसी के मुताबिक इस बीमारी से बचने के लिए यह बहुत जरूरी है कि कुछ भी छूने के बाद, बाहर से आने पर और कुछ खाने से पहले हमेशा अपने हाथों को ठीक से धोएं। इसके अलावा जिस तरह से कोविड-19 से बचने के लिए सैनिटाइजर का प्रयोग लोग कर रहे हैं, उसी तरह से इसके लिए भी एल्‍कोहल बेस्‍ड सैनिटाइजर का प्रयोग करना बेहतर रहेगा।

 

यह भी पढ़ें : आपकी प्रतिरक्षा कोशिकाएं करती हैं गर्भ में शिशु की रक्षा, जानिए क्या कहता है यह अमेरिकी अध्ययन

संबंधित खबरें