DA Image
7 अप्रैल, 2020|5:40|IST

अगली स्टोरी

Google Doodle : जानें कब मनाया गया था पहला लीप ईयर,इसे मनाने के पीछे क्या है खास वजह

google doodle

Google Doodle: गूगल हर खास दिन को अपना डूडल बनाकर सेलिब्रेट करता है। आज भी गूगल अपने डूडल के जरिए 29 फरवरी को लीप ईयर के रूप में सेलिब्रेट करता नजर आ रहा है। ऐसे में क्या आप जानते हैं आखिर क्यों मनाया जाता है लीप ईयर और सबसे पहले कब और कहां शुरू हुआ लीप ईयर मनाने का चलन। 

क्या होता है लीप ईयर-
हर चार साल बाद फरवरी महीने में एक अतिरिक्त दिन जुड़ जाता है। यही वजह है कि हर चाल साल में फरवरी माह में 28 नहीं 29 दिन होते हैं। जिसे लीप ईयर कहा जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि पृथ्वी सूर्य की एक परिक्रमा 365 दिन और 6 घंटे में पूरी करती है। इस तरह हर 4 वर्ष में एक दिन बढ़ जाता है। जो 4 साल बाद पड़ने वाले साल में जुड़ जाता है।

कब से मनाया जाता है लीप ईयर-
माना जाता है कि Gregorian calendar की शुरूआत से ही लोग लीप ईयर मनाते आ रहे हैं। खास बात यह है कि प्रभु यीशु के जन्म वर्ष से ही Gregorian calendar को अपनाया गया है।

लीप वर्ष मनाने के पीछे ये है वजह-
यदि लीप वर्ष नहीं मनाया गया तो हर साल सौर मंडल के समय चक्र से दुनिया 6 घंटे आगे निकल जाएगी। इस तरह 100 वर्ष बाद 25 दिन आगे होगी। जिसकी वजह से मौसम वैज्ञानिक मौसम परिवर्तन का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं लगा पाएंगे। यही वजह है कि हर चार साल बाद लीप ईयर मनाया जाता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:A Google makes its doodle to celebrate leap year history reason to celebrate leap year