DA Image
28 फरवरी, 2021|7:13|IST

अगली स्टोरी

हड्डियों के 8 दोस्त घटाएंगे फ्रैक्चर का खतरा, हड्डियों की मजबूती के लिए जानें डाइट में शामिल करें कौन सी चीजें

potato health benefits for bones

शाकाहार के शौकीन फ्रैक्चर के प्रति ज्यादा संवेदनशील होते हैं। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के हालिया अध्ययन की मानें तो सिर्फ बुजुर्ग ही नहीं, युवा भी मांसाहार से दूरी के चलते अपनी हड्डियां-मांसपेशियां कमजोर कर बैठ रहे हैं। कैल्शियम समेत कई अन्य तत्वों की कमी इसके लिए मुख्य रूप से जिम्मेदार है। तो आइए जानें, हड्डियों की मजबूती के लिए कौन-कौन से तत्व जरूरी हैं और इन्हें कैसे रोजमर्रा की डाइट में शामिल किया जा सकता है-

चिंताजनक
-55 हजार से अधिक वयस्कों पर अध्ययन में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने शाकाहारियों की हड्डी ज्यादा कमजोर पाई थी
-43 फीसदी अधिक दर्ज की गई थी उनके फ्रैक्चर का शिकार होने की आशंका, कूल्हे की हड्डी टूटने का खतरा 25 प्रतिशत ज्यादा मिला था

1.कैल्शियम
-मानव शरीर कैल्शियम पैदा करने में सक्षम नहीं है, ऐसे में बाहरी स्रोतों के जरिये ही पूरी की जा सकती है इसकी जरूरत
-क्या खाएं : डेयरी उत्पाद, सालमन मछली, ब्रोकोली, बादाम, शलजम और चीज ऑमलेट
-आसान उपाय : नाश्ते में दही में अंजीर और बादाम मिलाकर खा सकते हैं, दूध का सेवन बढ़ाने के लिए कॉर्न फ्लेक्स और ओट्स भी ले सकते हैं

2.विटामिन-डी
-कैल्शियम को हड्डियों तक पहुंचाने का जिम्मा विटामिन-डी पर होता है, आंत और किडनी से इस मिनरल को सोखने में करता है मदद
क्या खाएं : समुद्री आहार, अंडे का पीला भाग, दूध-दही व अन्य डेयरी उत्पाद, संतरे का जूस, अंकुरित अनाज
-आसान उपाय : धूप विटामिन-डी का सबसे बड़ा प्राकृतिक स्रोत है,  इसलिए रोजाना थोड़ी देर धूप जरूर सेंकें

3.पोटैशियम
-कैल्शियम के स्तर में कमी लाने वाले एसिड को निष्क्रिय करता है पोटैशियम, हड्डियों में क्षरण की समस्या रहती है दूर
-क्या खाएं : पालक, आलू, नारियल पानी, केला, मशरूम और मौसमी-संतरा जैसे खट्टे फल
-आसान उपाय : सुबह के नाश्ते के लिए ओट्स लें, उसमें ठंडा दूध, बारीक कटा केला और काजू-बादाम मिलाकर खाएं, पोटैशियम की जरूरत होगी पूरी

4.प्रोटीन
-हड्डियों का एक-तिहाई हिस्सा कोलाजेन होता है, इसके उत्पादन के लिए प्रोटीन युक्त खाद्य सामग्री का सेवन जरूरी है
-क्या खाएं : दाल, अंडा, डेयरी उत्पाद, अंकुरित अनाज, कलेजी, पालक, सी-वीड (समुद्री शैवाल)
-आसान उपाय : समुद्री शैवाल खाने की आदत डाल लें, सलाद और सूप में छिड़क कर खा सकते हैं, सब्जी के तौर पर भी कर सकते हैं इस्तेमाल

5.मैग्नीशियम
-कैल्शियम ग्रहण करने की हड्डियों की क्षमता बढ़ाता है मैग्नीशियम, कमी से हो सकती है हड्डियों में क्षरण की समस्या
-क्या खाएं : साग, हरी सब्जियां, अंकुरित अनाज, डेयरी उत्पाद, बादाम, दाल,  नाशपाती
-आसान उपाय : साग वाली दाल बनाएं, सुबह के नाश्ते में उबला अंडा या हाफ फ्राई खाएं

6.विटामिन-सी
-कोलाजेन को मजबूती देने वाले कनेक्टिव ऊतकों को विकास में अहम भूमिका निभाता है विटामिन-सी
-क्या खाएं : टमाटर, संतरा, नींबू, आंवला, मौसमी, अमरूद, कीवी फल और ब्रोकोली
-आसान उपाय : चटनी, सूप और सलाद में टमाटर का इस्तेमाल बढ़ाएं, सॉस का सेवन भी फायदेमंद

7.ओमेगा-3 फैटी एसिड
-बोन मैरो के विकास में मददगार है ओमेगा-3 फैटी एसिड, मिनरल सोखने की हड्डियों की क्षमता में भी इजाफा करता है
-क्या खाएं : रोहू और सालमन जैसी तैलीय मछलियां, सोया उत्पाद, अलसी और अखरोट
-आसान उपाय : शाकाहारी हैं तो अलसी के बीज के लड्डू खा सकते हैं, सोया दूध और सोया पनीर का भी इस्तेमाल कर सकते हैं

8.विटामिन-के
-ऑस्टियोकैलसिन नाम के प्रोटीन के उत्पादन की क्षमता बढ़ाता है, हड्डियों के विकास में सहायक है यह प्रोटीन
-क्या खाएं : पालक व अन्य साग, पत्तागोभी, ब्रोकोली, भिंडी, परवल, अंडा
-आसान उपाय : सब्जी के साथ-साथ सलाद में भी पत्तागोभी का कर सकते हैं इस्तेमाल, पालक मिलाकर दाल को बना सकते हैं स्वादिष्ट

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:8 friends of bones will reduce the risk of fracture know what things to include in the diet for strengthening bones