फोटो गैलरी

Hindi News लाइफस्टाइल रेसिपीDesi Food Recipe: सर्दियों में बनाएं अवध की ये देसी रेसिपी, स्वाद होता है लाजवाब

Desi Food Recipe: सर्दियों में बनाएं अवध की ये देसी रेसिपी, स्वाद होता है लाजवाब

पारंपरिक खानपान हमारी संस्कृति का वो हिस्सा हैं, जिसे हम सब धीरे-धीरे भूलते जा रहे हैं। साथ ही भूलते जा रहे हैं, अपनी लोक संस्कृति। अवध के कुछ ऐसे भी लोक व्यंजनों की रेसिपी बता रही हैं, उर्मिला सिंह

Desi Food Recipe: सर्दियों में बनाएं अवध की ये देसी रेसिपी, स्वाद होता है लाजवाब
Aparajitaहिंदुस्तान,नई दिल्लीSat, 25 Nov 2023 01:14 PM
ऐप पर पढ़ें

पारंपरिक खाने को लोग धीरे-धीरे भूलते जा रहे हैं। यूपी के अवध यानी लखनऊ में खाने की काफी सारी लजीज रेसिपी है। खासतौर पर सर्दियों के मौसम में मिलने वाली मौसमी सब्जियों से कई व्यंजन बनाए जाते हैं। जिसे आजकल की मॉडर्न जनरेशन भूलती जा रही है। अवध के उसी देसी स्वाद को वापस से रसोई में पकाने की विधि बता रही हैं उर्मिला सिंह। तो चलिए जानें हरी मटर की घुघुरी से लेकर अलसी के लड्डू और अवध की डिश पकाने का तरीका।

मटर की घुघुरी बनाने की सामग्री
• हरे मटर का दाना: 250 ग्राम • आलू: 2 • सरसों का तेल: 2 चम्मच • बारीक कटी लहसुन की पत्ती: 4 चम्मच • बारीक कटी हरी मिर्च: 2 • बारीक कटी धनिया पत्ती: 4 चम्मच • नमक: स्वादानुसार

मटर की घुघुरी बनाने की विधि:
आलू को धोकर पतला और लंबा काट लें। मटर के दानों को धो लें। कड़ाही गर्म करें और उसमें तेल डालें। जब तेल गर्म हो जाए तो उसमें हरा लहसुन और हरी मिर्च डालें। अब उसमें कटे हुए आलू डालकर मिलाएं। कड़ाही को ढंक दें और आंच धीमी करके आलू को पकाएं। कुछ देर बाद कड़ाही का ढक्कन हटा दें और आंच तेज करके आलू को दो मिनट पकाएं। कड़ाही में मटर और नमक डालें और ढककर मटर के मुलायम होने तक पकाएं। धनिया की पत्ती डालकर मिलाएं। आंच तेज करके मटर को भूनें ताकि पानी पूरी तरह से सूख जाए। गैस ऑफ करें और मटर की घुघुरी को धनिया की चटनी के साथ परोसें।

अलसी का लड्डू
सामग्री: • अलसी: 500 ग्राम • मेथी: 50 ग्राम • गुड़: 500 ग्राम • घी: 150 ग्राम • हल्दी: 100 ग्राम • तरह-तरह का मेवा: 1 कप

अलसी का लड्डू बनाने की विधि
अलसी को बिना तेल के सूखा भून लें। जब उसमें से सोंधी खुशबू आने लगे तो गैस पर से उतार लें। मेथी को भी लाल होने तक भून लें। सभी मेवों को बारीक काट लें। अलसी और मेथी को ठंडा होने पर मिक्सी में अलग-अलग पीस लें। कड़ाही में घी गर्म करें और उसमें कटे हुए मेवों को भुनें। जब मेवा हल्का भुन जाए तब उसमें हल्दी डालकर भुनें। ध्यान रहे, हल्दी का रंग काला ना पड़ जाए। गैस ऑफ करें और मेवे वाले मिश्रण को ठंडा होने दें। एक बड़े बर्तन में अलसी पाउडर, मेथी पाउडर, गुड़ और मेवा डालकर अच्छी तरह से मिलाएं । ध्यान रहे कि मिश्रण में गांठें ना रह जाएं। अब मिश्रण से लड्डू बनाएं और एयर टाइट डिब्बे में स्टोर करें। यह लड्डू बहुत पौष्टिक होता है और अधिकांशत: ठंड के मौसम में खाया जाता है।

शकरकंदी की पूरी की सामग्री
• शकरकंदी: 250 ग्राम • गेहूं का आटा: 200 ग्राम • पिसी हुई चीनी: 50 ग्राम • घी या रिफाइन: तलने के लिए

शकरकंदी की पूरी बनाने की विधि
शकरकंदी को उबाल लें और पानी से निकाल लें। जब शकरकंदी ठंडी हो जाए तो उसका छिलका छीलकर उसे अच्छी तरह से मैश कर लें या फिर कद्दूकस करें। शकरकंदी में आटा और चीनी मिलाकर उसे अच्छी तरह से गूंद लें। गूंदे हुए आटे को थोड़ी देर के लिए ढककर छोड़ दें। कड़ाही में तेल गर्म करें। गूंदे हुए आटे से पूरियां बेलें और तल लें। गर्मागर्म सर्व करें।

• इत्र, चंदन, केवड़ा और गुलाब। अवधी खाने में इन चीजों का इस्तेमाल खूब होता है। 
• अवधी व्यंजन मुगल खानपान से काफी प्रभावित है। अवध के खानसामों ने धीमी आंच पर खाना पकाने की शैली का आविष्कार किया जो कि आज भी लखनऊ में देखा जा सकता है। 
• अवधी व्यंजनों को बनाने के लिए अलग-अलग तरह के मसालों का उपयोग नहीं किया है। उनके लिए कम मसालों वाला मिश्रण ही काफी होता है। ’ अवधी भोजन को बहुत ही धीमी आंच पर पकाया जाता है। इस कारण भोजन में सभी पोषक तत्व बरकरार रहते हैं। खासतौर पर तब, जब उसे मिट्टी के बर्तनों में पकाया जाता है।
• प्रेशर कुकर के आविष्कार से बहुत पहले, अवध की पाक प्रतिभा ने दम-स्टाइल ऑफ र्कुंकग का आविष्कार किया था, जो कि अपने आप में खास था। यह न केवल खाने के स्वाद और सुगंध को बरकरार रख सकता था, बल्कि पोषक तत्वों की भी रक्षा करता था। यह भाप को बाहर निकलने से रोकता है। आज के दौर में भले ही दम स्टाइल से खाना पकाने का प्रचलन कम हो गया है। मगर यह खाना बनाने की एक विशिष्ट अवधी शैली है, जो इसे मुगलई, कश्मीरी भोजन से एकदम अलग बनाती है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें