फोटो गैलरी

Hindi News लाइफस्टाइल पेरेंट्स गाइडStress Management: बोर्ड एक्जाम की तैयारियों में बच्चे को ऐसे रखें स्ट्रेस से दूर

Stress Management: बोर्ड एक्जाम की तैयारियों में बच्चे को ऐसे रखें स्ट्रेस से दूर

Stress Management: बोर्ड एक्जाम शुरू हो रहे हैं। ऐसे में बच्चों के अंदर खासतौर पर जो पहली बार बोर्ड की परीक्षाएं देने वाले हैं उनमे डर ज्यादा होता है। इसलिए बच्चे को स्ट्रेस मैनेजमेंट जरूर सिखाएं।

Stress Management: बोर्ड एक्जाम की तैयारियों में बच्चे को ऐसे रखें स्ट्रेस से दूर
Aparajitaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 17 Feb 2024 12:43 PM
ऐप पर पढ़ें

बोर्ड एक्जाम शुरू हो रहे हैं। ऐसे में बच्चे खासतौर पर जो पहली बार बोर्ड की परीक्षाएं देने वाले हैं। वो बहुत ज्यादा स्ट्रेस में आ जाते हैं। ऐसे में जरूरी है कि पैरेंट्स उनके खानपान और रूटीन का पूरा ध्यान रखें। जिससे उन्हें ना केवल पढ़ने का पूरा टाइम मिल सके बल्कि ठीक तरीके से आराम करें और ज्यादा स्ट्रेस ना लें। जिससे उन्हें पढ़ा हुआ याद रहे और एक्जाम में लिख सके। अगर आपका बच्चा एक्जाम की वजह से टेंशन में दिन-रात पढ़ाई कर रहा है तो उसे स्ट्रेस से ऐसे दूर रखें।

एक बेहतरीन स्टडी शेड्यूल बनाएं
वैसे तो बच्चे पैरेंट्स की बजाय खुद से शेड्यूल बनाते हैं लेकिन बच्चों के स्टडी शेड्यूल को चेक करें। ऐसा टाइम टेबल हो रियल हो और फॉलो करने में आसान। जिसमे पढ़ने के साथ ही खाने, सोने और रिलैक्स करने का टाइम फिक्स हो। जिससे बच्चे के ऊपर बोझ ना बढ़े और जरूरी ब्रेक मिलता रहे। 

माइंड रिलैक्स करना सिखाएं
बच्चे को कुछ ब्रीदिंग एक्सरसाइज सिखाएं। जिससे वो खुद को रिलैक्स कर सके। मेडिटेशन, ब्रीदिंग एक्सरसाइज, स्ट्रेचिंग करने से स्ट्रेस दूर होगा। बॉडी को रिलैक्स करने से माइंड रिलैक्स होता है जिससे पढ़ाई में मन आसानी से लगता है।

बच्चे को दें शांत स्टडी एनवॉयरमेंट
बच्चे का पढ़ने में मन लगा रहे इसके लिए घर के माहौल को शांत और सुकून वाला बनाएं। शोर-शराबा, आवाजें उसे डिस्टर्ब करेंगी। साथ ही स्टडी मैटेरियल, नोट्स सारी चीजों को स्टडी टेबल पर रखवाएं। जिससे इन छोटे-छोटे कामों को करने में बच्चे का समय ना बर्बाद हो। 

बच्चे को कहें सेल्फ केयर के लिए
बच्चे को समझाएं कि पढ़ाई के साथ ही सेल्फ केयर भी जरूरी है। जिससे हेल्थ बनी रहे। रेगुलर एक्सरसाइज, हेल्दी फूड, पर्याप्त नींद और खुद की साफ-सफाई पर पूरा ध्यान दें। जिससे लास्ट टाइम पर बीमार होने का खतरा कम हो।

बच्चे को सपोर्ट करें
बच्चे को एक्जाम की तैयारियां करवा रही हैं तो उसे साथ में मेंटल सपोर्ट भी दें। जिससे उसके अंदर एक्जाम में मार्क्स कम आने का डर ना बैठ जाए। अक्सर बच्चे डरकर गलतियां करते हैं। बच्चे को सपोर्ट दें कि कम एक्जाम मार्क्स उसकी योग्यता को कम नहीं होने देंगे। पढ़ाई ज्यादा जरूरी है। जिससे बच्चे रिजल्ट की ज्यादा चिंता किए बगैर एक्जाम की तैयारी करें। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें