फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News लाइफस्टाइल पेरेंट्स गाइडपढ़ने से दूर भागता है आपका बच्चा तो अपनाएं ये टिप्स, खुद से बैठकर पढ़ने लगेगा

पढ़ने से दूर भागता है आपका बच्चा तो अपनाएं ये टिप्स, खुद से बैठकर पढ़ने लगेगा

Ways to Develop Interest in Studies: अगर आपकी अपने बच्चों को लेकर यह शिकायत है कि वो मन लगाकर बिल्कुल नहीं पढ़ना चाहते और बार-बार पढ़ाई के लिए टोकने पर वो चिढ़ने लगते हैं तो ये पेरेंटिंग टिप्स आपकी मद

पढ़ने से दूर भागता है आपका बच्चा तो अपनाएं ये टिप्स, खुद से बैठकर पढ़ने लगेगा
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 02 Oct 2023 11:06 AM
ऐप पर पढ़ें

Ways to Develop Interest in Studies: अगर आप भी ऐसे पेरेंट्स में से हैं जिनकी अपने बच्चों को लेकर यह शिकायत रहती है कि उनके बच्चे मन लगाकर बिल्कुल नहीं पढ़ना चाहते हैं। बार-बार बोलने या पढ़ाई करने के लिए टोकने पर बच्चे जल्दी चिढ़ने लगते हैं तो ये पेरेंटिंग टिप्स आपकी मदद कर सकते हैं। इन पेरेंटिंग टिप्स को अपनाकर आप बड़ी आसानी से अपने बच्चे के मन में पढ़ाई के लिए उत्साह पैदा कर सकते हैं। आइए जानते हैं आखिर कैसे। 

बच्चे का मन पढ़ाई में लगाने के लिए कुछ आसान टिप्स-
मोटिवेशन भी है जरूरी-

अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा खूब मन लगाकर पढ़े तो सबसे पहले उसकी बाकी बच्चों से तुलना करना छोड़ दें। दूसरा, उसके भीतर कमियां निकालने की जगह उसे उसके अच्छे कामों के लिए मोटिवेट करना शुरू करें। सिर्फ कमियां निकालने से बच्चे का मन उदास रहने लगता है, जिससे उसका मन पढ़ाई में नहीं लगता है। इसलिए बच्चे की छोटी छोटी सफलताओं या प्रयासों को लेकर अपना उत्‍साह दिखाते हुए उसकी सराहना जरूर करें। 

पढ़ाई का प्रेशर न बनाएं-
बच्‍चों पर पढ़ाई के प्रेशर से ज्यादा इंकरेजमेंट की जरूरत होती है। अपने बच्‍चे को हर समय पढ़ाई का प्रेशर देने से उसके ऊपर इसका नकारात्‍मक प्रभाव पड़ने लगेगा और वो पढ़ाई को बोझ समझने लगेगा। बच्चे का पढ़ाई में मन लगाने के लिए सबसे पहले उसके टीचर से बात करें। इसके अलावा बच्चे को पढ़ाते समय उदाहरण का सहारा लें, हंसते- खेलते बच्‍चों को कठिन चीजें समझाने की कोशिश करें। ऐसाकरने से बच्चों का इंट्रेस्‍ट खुद ही बोरिंग लगने वाले विषय में बढ़ने लगेगा।

पढ़ाई का रूटीन बनाएं-
इस बात का खास ख्याल रखें कि पढ़ाई के लिए एक बेहतर योजना का होना बेहद जरूरी होता है। बच्चा एकाग्र होकर पढ़ाई करें, इसके लिए एक अच्छी योजना बनाएं-जैसे हर दिन पढ़ाई करने के लिए टाइम टेबल चार्ट,  बच्चे को समझाएं कि पढ़ाई उसके दैनिक कार्य से अलग नहीं है, पढ़ने के लिए बच्चे के मन में उत्साह भरें,  45 मिनट से ज्यादा लगातार पढ़ाई न करें।

पूरी नींद भी है जरूरी-
कई बार बच्‍चे पूरा दिन खेलते-कूदते रहते हैं और पढ़ने के समय थकान की वजह से उन्हें नींद आने लगती है। इस समय अगर आप उन्हें कुछ पढ़ाने की कोशिश भी करते हैं तो उन्हें कुछ समझ नहीं आता है और वो चिढ़ने लगते हैं। ऐसे में कोशिश करें कि बच्‍चा कम से कम 8 घंटे की नींद जरूर पूरी करें। ऐसा करने से उसका दिमाग एक्टिव रहेगा और वो पढ़ाई भी मन लगाकर कर पाएंगे। 

योग का लें सहारा-
डब्‍ल्‍यूएचओ के अनुसार, योग करने से बच्‍चे की पढ़ाई पर सकारात्‍मक असर पड़ता है। उनका मन एकाग्रचित होने से उन्हें बेहतर तरीके से पाठ याद होता है। योग के अलावा अच्छी पढ़ाई के लिए उनकी डाइट का भी खास ख्‍याल रखें। बच्‍चों को जंक फूड की जगह खाने के लिए हेल्दी फूड दें। 

बच्चों से दूर रखें ध्यान भटकाने वाली चीजें-
अगर आप चाहते हैं कि आपका बच्चा बिना अपना ध्यान भटकाए कुछ घंटे लगातार बैठकर पढ़ें तो आपको सबसे पहले उसकी पढ़ने वाली जगह के आसपास से ऐसी चीजों को दूर करना होगा जो उसका ध्यान भटका सकती हैं। इन चीजों की वजह से बच्चा अपना कीमती समय बर्बाद कर देता है और पढ़ाई में उसका मन नहीं लगता है।