फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News लाइफस्टाइल पेरेंट्स गाइडक्या दूसरे बच्चों को बुली करता है आपका बच्चा? आदत सुधारने के लिए अपनाएं ये टिप्स

क्या दूसरे बच्चों को बुली करता है आपका बच्चा? आदत सुधारने के लिए अपनाएं ये टिप्स

Tips to stops your child to bully other Kids: साथी बच्चों को बुली करने वाले बच्चों का स्‍वभाव बचपन से ही बेहद आक्रामक होता है। ऐसे बच्चे हर दूसरे बच्चे पर धौंस जमाने की कोशिश में लगे रहते हैं।

क्या दूसरे बच्चों को बुली करता है आपका बच्चा? आदत सुधारने के लिए अपनाएं ये टिप्स
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 17 Nov 2023 10:05 PM
ऐप पर पढ़ें

Tips to stops your child to bully other Kids: अक्सर पेरेंट्स यह शिकायत करते हैं कि उनके बच्चों को क्लास या स्कूल में साथी बच्चे बुली करके परेशान करते हैं। जिसकी वजह से बुली होने वाले बच्चों का मनोबल टूटने लगता है। साथी बच्चों को बुली करने वाले बच्चों का स्‍वभाव बचपन से ही बेहद आक्रामक होता है। ऐसे बच्चे हर दूसरे बच्चे पर धौंस जमाने की कोशिश में लगे रहते हैं। अगर आपका बच्चा भी दूसरे बच्चों को अक्सर बुली करके परेशान करता रहता है तो उसकी ये बुरी आदत सुधारने के लिए अपनाएं ये टिप्स।

साथी बच्चों को बुली करने के पीछे जिम्मेदार होते हैं ये कारण - 
-जिन बच्चों के घरों में हमेशा हिंसा का माहौल बना रहता है, वो बाहर दूसरे बच्चों को डराने के लिए हमेशा उन पर अपनी धौंस जमाने की कोशिश करते रहते हैं। 
-कई बार सोशल मीडिया में दिखाई जाने वाली चीजें भी बच्चों में हिंसा की प्रवृत्ति पैदा करने लगती है।
-कई बार बच्चों की बुरी संगति भी उनके ऐसे व्यवहार के पीछे जिम्मेदार कारणों में से एक हो सकती है।

बच्चे को दूसरे बच्चे को बुली करने से रोकने के लिए अपनाएं ये तरीके-
भावनात्मक रूप से करें तैयार-

बच्चों को कम उम्र से ही इमोशन्‍स के बारे में समझाना शुरू कर दें। उन्हें समझाएं कि आपका दूसरों के साथ किया गया गलत व्यवहार उनके दिल को आहत कर सकता है। ऐसा करके आप न सिर्फ अपने भीतर अपराध बोध पैदा करते हैं बल्कि खुद की नजरों में भी दोषी बन जाते हैं। उन्हें समझाएं कि उनकी किसी भी गलत शरारत से सामने वाले व्यक्ति को किस लेवल का नुकसान उठाना पड़ सकता है।  

पाबंदी लगाने में न रहें पीछे-
अगर आपके बच्चे की शरारत दूसरों के लिए परेशानी की वजह बन रही है तो उसे गंभीरता से लेना शुरू करें। अपने बच्चे की हर उस फेवरेट चीज जैसे फोन, कंप्‍यूटर पर पाबंदी लगाना शुरू करें, जिसके जरिए वो दूसरे बच्चों को परेशान करने के तरीके खोजता है। बच्चे के सामने शर्त रखें कि उसकी सभी फेवरेट चीजें उसे तभी वापस मिलेंगी, जब वो अपनी इस बुरी आदत को छोड़ देगा। 

बच्‍चे की सोशल लाइफ के बारे में पता करें-
स्‍कूल जाकर अपने बच्चे के टीचर, दोस्तों से उसके व्‍यवहार के बारे में पता करें। ऐसा करने पर अगर आपको पता चलता है कि बच्‍चा साथी बच्चों को बुली करता है, तो आप उसके टीचर से मिलकर इस बारे में बात करें। बच्‍चे का ध्यान बुरी आदतों से हटाने के लिए उसे स्‍कूल से अलग कोई नई एक्टिविटी जॉइन करा दें। ऐसा करने पर बच्चा अपनी एनर्जी को सही जगह लगाने के साथ नए दोस्‍त भी बनाने लगेगा। 

कारण पता करें-
कई बार बच्चे स्कूल के सीनियर बच्चों के दबाव में आकर भी दूसरे बच्चों को बुली करने लग जाते हैं। ऐसे में पेरेंट्स होने के नाते सबसे पहले बच्चे के ऐसा करने के पीछे का कारण जानने की कोशिश करें। अगर आप कारण नहीं समझ पा रहे हैं, तो इसके लिए आप स्‍कूल के काउंसलर की मदद भी ले सकते हैं।