फोटो गैलरी

Hindi News लाइफस्टाइल पेरेंट्स गाइडइकलौते बच्चे की परवरिश करते समय ना करें ये गलतियां, पछताना पड़ेगा

इकलौते बच्चे की परवरिश करते समय ना करें ये गलतियां, पछताना पड़ेगा

Effective Tips For Raising An Only Child: अगर आप भी इस बात से परेशान हैं कि आप अपने इकलौते बच्चे की परवरिश किस तरह करें ताकि वो भविष्य में गलत संगति में पड़कर बिगड़ ना जाए और ना ही अपने से बड़ों के सा

इकलौते बच्चे की परवरिश करते समय ना करें ये गलतियां, पछताना पड़ेगा
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 17 Apr 2024 12:41 PM
ऐप पर पढ़ें

Effective Tips For Raising An Only Child: बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए उन्हें अच्छी और स्वस्थ परवरिश देने की जरूरत होती है। हालांकि इस काम में कोई भी पेरेंट्स अपनी तरफ से कोई कमी नहीं रखते हैं। लेकिन बात जब इकलौते बच्चे की परवरिश की आती है तो अभिभावकों की जिम्मेदारी थोड़ी ज्यादा बढ़ जाती है। अगर आप भी इस बात से परेशान हैं कि आप अपने इकलौते बच्चे की परवरिश किस तरह करें ताकि वो भविष्य में गलत संगति में पड़कर बिगड़ ना जाए और ना ही अपने से बड़ों के साथ बद्तमीजी करे तो शुरू से ही इन गलतियों को करने से बचें। 

बच्चों पर अपनी इच्छाएं ना थोपें-
अक्सर यह देखा जाता है कि अभिभावक अपने अधूरे सपने अपने बच्चों से पूरा करने की उम्मीद रखते हैं। अगर आप भी ऐसी गलती करते हैं तो ऐसा न करें। बच्चे पर कभी भी अपनी इच्छाओं को पूरा करने का दबाव ना बनाएं। आपके ऐसा करने से बच्चा तनाव में आ सकता है। जिससे उसकी मानसिक और शारीरिक सेहत पर भी बुरा असर पड़ने लगता है। 

फैसले लेने का अधिकार न देना-
कई बार पेरेंट्स अपने बच्चों को नासमझ और गैर जिम्मेदार समझकर उनके जीवन से जुड़े हर फैसले खुद लेने लगते हैं। अगर आप भी ऐसा करते हैं तो अनजाने में आप अपने बच्चे का आत्मविश्वास कमजोर बना रहे हैं। बच्चे को अपने कुछ फैसले जैसे उसकी पसंद के खिलौनों से लेकर शिक्षा से जुड़ा कोई फैसला खुद लेने दें। अपने हर गलत निर्णय से सबक लेकर वो भविष्य में सही फैसला लेना सीखेंगे। लेकिन आप अगर उनके हर फैसले खुद लेंगे तो वह जीवन में अपने फैसलों को लेकर हमेशा कंफ्यूज रहेंगे।

ओवर प्रोटेक्टिव ना बनें-
परिवार के इकलौते बच्चे को माता पिता जरूरत से ज्यादा सुरक्षा देते हैं। वह बच्चे के हर काम में दखल देकर उसका बचाव करने की कोशिश में लगे रहते हैं। जिससे बच्चे का आत्मविश्वास कम होने के साथ वो खुलकर अपनी बात दूसरों के आगे नहीं रख पाता है। 

सलाह-
-अपने इकलौते बच्चे को प्यार और स्नेह दें, लेकिन उसे बिगाड़ें नहीं।
-बच्चे को सही और गलत के बीच अंतर समझने में मदद करें।
-बच्चे को आजादी देते हुए उसे उसकी जिम्मेदारियों का भी अहसास करवाएं। 
-अकेले बच्चे को दोस्त बनाने और सामाजिक गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करें।
-बच्चे की उपलब्धियों की सराहना करते हुए गलतियों से सीखने में मदद करें।
-अकेले बच्चे को दोस्तों के साथ टीम खेलों में शामिल होकर खेलने के लिए प्रोत्साहित करें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें