Hindi Newsलाइफस्टाइल न्यूज़पेरेंट्स गाइडnew born massage full guide which oil to use kaise karein bachvhe ki maalish

बच्चे की मालिश करते वक्त न करें ये गलतियां, जानें कब और कैसे दें मसाज

Kids Massage: बच्चे के शरीर की अच्छी ग्रोथ के लिए मालिश बेहद जरूरी है। यह मां और बच्चे के बीच बॉन्ड भी स्ट्रॉन्ग करती है। अगर आप नहीं समझ पा रहे कि बच्चे की मसाज कबसे शुरू करें तो यहां जान सकते हैं।

new born massage full guide
Kajal Sharma लाइव हिंदुस्तान, नई दिल्लीMon, 9 Oct 2023 04:47 PM
हमें फॉलो करें

बच्चे जन्म के बाद बेहद सेंसिटिव होते हैं। उन्हें हर चीज में एक्सट्रा ध्यान की जरूरत होती है। उनका शरीर भी नाजुक होता है और इसे मजबूत बनाने के लिए बड़े बुजुर्ग मालिश की सलाह देते हैं। मालिश सिर्फ बच्चों को स्ट्रॉन्ग ही नहीं बनाती बल्कि मां के साथ बॉन्डिंग स्ट्रॉन्ग करने का तरीका भी होता है। बच्चे गर्भ से बाहर आते हैं तो टच के जरिये ही मां के प्यार को समझते हैं। मसाज मां और बच्चे दोनों का साथ समय बिताने का बेहतरीन माध्यम भी है। यह एक्सपीरियंस और अच्छा बने इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। जैसे ऑयल का चुनाव, कबसे मसाज शुरू करें कितने दिन तक करें वगैरह। 
 
कबसे शुरू करें बच्चे की मालिश
कई बार पेरेंट्स मालिश करने में जल्दबाजी कर देते हैं। बच्चा जब इस दुनिया में आए तो उसे अडजस्ट होने का थोड़ा वक्त देना चाहिए। खासपर बच्चा प्रिमच्योर हो तो मालिश करने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। कई एक्सपर्ट्स मानते हैं कि न्यूबॉर्न की स्किन सेंसिटिव होती है। साथ ही उनकी स्किन में ज्यादा लेयर्स नहीं होतीं तो सेंसिटिव होती है। इसलिए कम से कम 2-3 हफ्ते या हो सके तो महीनेभर मालिश शुरू करें। हालांकि दिन दिन बाद हल्के हाथ से बच्चे को सहलाते रहें ताकि उसे मां के स्पर्श का अहसास होता रहे।

कौन सा तेल करें इस्तेमाल
मसाज करने के लिए कई बार पेरेंट्स के मन में सवाल होता है कि किस तेल से मालिश की जाए। बच्चे की मालिश के लिए कोई भी तेल न चुनें बल्कि वेजेटिबल ऑयल और मिनरल बेबी ऑयल सही माने जाते हैं। हालांकि इसमें भी देखना जरूरी है कि बच्चे को रैशेज तो नहीं आ रहे। भारत में कई लोग नारियल तेल से भी मसाज करते हैं। ऑलिव, सरसों और घी में ओलिक एसिड ज्यादा होता है। कुछ लोग मानते हैं कि यह बच्चों की स्किन को और ड्राई कर सकती है। अगर आप इनमें से किसी ऑइल से मसाज कर रहे हैं और साइड इफेक्ट नहीं दिख रहे तो करते रह सकते हैं। इसके अलावा महक वाले इसेंशियल ऑइल्स भी न यूज करें। 

कितने दिन करें मालिश
कुछ लोग बच्चे को सुबह और शाम दो बार मसाज देते हैं। कुछ दिन में एक बार तो कुछ दो दिन में एक बार। यह आपकी सुविधा पर निर्भर करता है। बस इतना ध्यान रखें के कमरे का तापमान न ज्यादा ठंडो हो न ज्यादा गर्म। बच्चा भूखा न हो। ऐसी जगह बैठकर मसाज करें कि बच्चा सुरक्षित रहे उसे चोट लगने का खतरा न हो। 

कितनी देर करें मसाज
आप बच्चे को 10 से 30 मिनट मसाज दे सकते हैं। सोने से पहले और नहाने के बाद मालिश करने का समय बेहतर माना जाता है। कुछ लोग नहाने के पहले भी मसाज करते हैं। अगर आप ऐसा तेल ले रहे हैं जो गाढ़ा है तो नहलाने से पहले मसाज करें। अगर हल्का और मॉइश्चर लाने वाला तेल है तो नहलाने के बाद मसाज करना ठीक है।

कैसे करें मसाज
बच्चे की मालिश हल्के हाथ से करें। जब ऊपर के हिस्से की मसाज करें तो दोनों कंधों से शुरुआत करें। कंधे से छाती की ओर हल्के स्ट्रोक्स दें। हाथों की मसाज करने के लिए कंधे से कलाई की ओर मालिश करें। पेट पर सर्कुलर मोशन में मसाज करें। अगर एंबलिकल कॉर्ड न ठीक हुई हो तो नाभि से दूर रहें। बच्चे के निप्पल्स ओर पेट पर प्रेशर न रखें। 

कब तक करें मसाज
बच्चे हों या बड़े हर किसी के लिए मसाज फायदेमंद होती है। बच्चे के बड़े होने तक आप मसाज करते रह सकते हैं। आप चाहें तो बच्चा बड़ा हो जाए तो उसे खुद भी मालिश करना सिखा दें। 
 

लेटेस्ट   Hindi News,  लोकसभा चुनाव 2024,  बॉलीवुड न्यूज,  बिजनेस न्यूज,  टेक,  ऑटो,  करियर ,और   राशिफल, पढ़ने के लिए Live Hindustan App डाउनलोड करें।

ऐप पर पढ़ें