फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News लाइफस्टाइल पेरेंट्स गाइडकितनी भी खराब हो बच्चे की हैंडराइटिंग,लिखावट सुधारने में मदद करेंगे ये टिप्स

कितनी भी खराब हो बच्चे की हैंडराइटिंग,लिखावट सुधारने में मदद करेंगे ये टिप्स

अगर आप भी अपने बच्चे की गंदी हैंडराइटिंग से परेशान हैं और उसे इन गर्मियों की छुट्टियों में सुधारना चाहते हैं तो ये पेरेंटिग टिप्स आपकी मदद कर सकते हैं। इन टिप्स को अपनाकर ना सिर्फ बच्चे की राइटिंग सुंदर होगी बल्कि लोग उसे कॉम्प्लिमेंट भी देने लगेंगे।

कितनी भी खराब हो बच्चे की हैंडराइटिंग,लिखावट सुधारने में मदद करेंगे ये टिप्स
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तानTue, 28 May 2024 04:48 PM
ऐप पर पढ़ें

Tips To Improve Kids Handwriting: कोरोनाकाल के बाद ज्यादातर पेरेंट्स की अपने बच्चों से यह शिकायत है कि उनके बच्चे लिखना नहीं चाहते हैं, जिसकी वजह से उनकी हैंडराइटिंग बहुत खराब हो गई है। खराब लिखावट के पीछे कारण चाहे जो भी हो, लेकिन बिगड़ी हैंडराइटिंग ना सिर्फ लोगों के सामने शर्मिंदा करती है बल्कि कई बार एग्जाम में कम अंक लाने का कारण भी बन जाती है। अगर आप भी अपने बच्चे की गंदी हैंडराइटिंग से परेशान हैं और उसे इन गर्मियों की छुट्टियों में सुधारना चाहते हैं तो ये पेरेंटिग टिप्स आपकी मदद कर सकते हैं। इन टिप्स को अपनाकर ना सिर्फ बच्चे की राइटिंग सुंदर होगी बल्कि लोग उसे कॉम्प्लिमेंट भी देने लगेंगे।

अच्छी हैंडराइटिंग के लिए अपनाएं ये टिप्स-

ट्रेसिंग बुक-

बच्चों को ड्राइंग करना काफी पसंद होता है। ऐसे में आप अपने बच्चे की लिखावट अच्छी करने के लिए उसे अल्फाबेट व नंबर्स वाले लेटर ट्रेसिंग बुक लाकर दे सकते हैं। बच्चों को इस ट्रेसिंग बुक से अल्फाबेट को सही तरीके से बनाने व राइटिंग में सुधार करने में मदद मिल सकती है।

क्ले-

बात अगर इंडोर गेम्स की करें तो बच्चे सबसे ज्यादा क्ले के साथ खेलना पसंद करते हैं। क्ले से खेलते हुए बच्चे कभी उसे गोल-गोल घुमाते हैं तो कभी उसे चपटा कर देते हैं। लेकिन ऐसा करते हुए बच्चे की हाथों की मांसपेशियां अच्छे से विकसित होने के साथ उसकी पेंसिल पर अच्छी ग्रिप भी बनती है।

सैंड ट्रे में लिखवाएं शब्द-

बच्चे को सैंड या सॉल्ट ट्रे की मदद से जल्दी और प्रभावी रूप से अल्फाबेट लिखना सिखाया जा सकता है। इसके लिए एक ट्रे में सैंड,नमक या चीनी भरकर रख लें। अब बच्चे को इस ट्रे पर इंडेक्स फिंगर से अल्फाबेट, नंबर्स बनाने के लिए कहें।

मैजिक बोर्ड-

बच्चे के लिए गेम्स खरीदने जाएं, तो उसकी राइटिंग को सुधारने के लिए एक मैजिक बोर्ड भी खरीद सकते हैं। बच्चे के खेलने के समय पर उनको मैजिक बोर्ड पर अल्फाबेट का अभ्यास करा सकते हैं। ऐसा करने से खेल के साथ-साथ बच्चे को अक्षरों की पहचान और सही लिखने का ज्ञान भी होगा।

मेज गेम्स-

कई बच्चों की लिखावट खराब होने के पीछे उनका पेंसिल को ठीक तरह से ना पकड़ना होता है। ऐसे में पेंसिल पकड़ने की प्रैक्टिस करवाने के लिए बच्चों को मेज गेम्स खिलाएं। मेज को सॉल्व करने के लिए बच्चे को खुद रास्ता ढूंढने दें। ऐसा करने से बच्चा न सिर्फ पेंसिल पकड़ना सिखेगा, बल्कि उसकी आंखों और अंगुलियों के बीच बेहतर नियंत्रण भी बनेगा।

ये टिप्स भी हैं फायदेमंद-

-लिखते समय कोहनी-कलाई हिले, कंधा नहीं।

-रेत,चावल या अनाज के ढेर पर उंगलियों से लिखने की प्रेक्टिस करें।

-बहुत कसकर कभी पैन या पेंसिल ना पकड़ें।

-लाइन वाले पेपर पर ही लिखें।

-अलग-अलग अक्षरों की प्रेक्टिस करें।