Hindi Newsलाइफस्टाइल न्यूज़पेरेंट्स गाइडeasy methods to teach maths to kids and make it more interesting and understanding for kids

Parenting Tips: मैथ्स देखकर दूर भागता है आपका बच्चा तो इस तरह से पढ़ाएं, कुछ ही दिनों में लेने लगेगा इंटरेस्ट

  • कुछ बच्चे बाकी सब्जेक्ट में तो ठीक होते हैं लेकिन मैथ्स को देखकर भागने लगते हैं। अगर आपका बच्चा भी गणित में कमजोर है तो आपको उसके पढ़ने के तरीके को बदलना होगा। आज हम आपको कुछ टिप्स बताएंगे जिनकी मदद से आपका बच्चा कुछ ही दिनों में मैथ्स देखकर भागेगा नहीं बल्कि उसे इंटरेस्ट के साथ पढ़ने लगेगा।

Anmol Chauhan लाइव हिन्दुस्तानMon, 24 June 2024 11:05 AM
हमें फॉलो करें

कुछ बच्चे हर सब्जेक्ट में अच्छे होते हैं लेकिन मैथ्स का नाम सुनते ही उनके पसीने छूटने लगते हैं। बहुत छोटी उम्र से ही कुछ बच्चों का दिमाग मैथ्स में नहीं लगता। उन्हें गणित के सवालों को देखकर ही डर लगने लगता है। अगर आपका बच्चा भी इन्हीं में से एक है तो आपको उसे मैथ्स पढ़ाने के तरीके में बदलाव करने की जरूरत है। ध्यान रखें यह एक ऐसा सब्जेक्ट है जिसकी नींव अगर मजबूत नहीं हुई तो आगे चलकर काफी मुश्किल होने वाली है। इसलिए अगर आपका बच्चा अभी छोटी क्लास में है तो अभी से उसके साथ मिलकर मैथ्स पर काम करना शुरू कर दीजिए। आज हम आपको आसान से तरीके बताने वाले हैं जिनकी मदद से आप अपने बच्चों को आसानी से मैथ्स सिखा सकते हैं।

मैथ्स को सिर्फ सब्जेक्ट की तरह ना देखें, डेली रूटीन में भी शामिल करें

बच्चों को सिर्फ किताबों वाली मैथ्स ना पढ़ाएं बल्कि उनके डेली रूटीन में भी इसे शामिल करें। उदाहरण के लिए आप उन्हें पैसे गिनने के लिए दे सकते हैं। बच्चों को अपने साथ बाजार लेकर जाएं वहां उनसे हिसाब, सामान का नाप–तोल, उसकी गिनती करना आदि चीजें करवाएं। इससे बच्चे को धीरे–धीरे मैथ्स में इंटरेस्ट आने लगेगा साथ ही उसकी कैलक्यूलेशन और सामाजिक ज्ञान भी बेहतर होगा।

तरह–तरह की चीजों का सहारा लें

बच्चे को मैथ्स पढ़ाने के लिए सिर्फ किताब कॉपियों का इस्तेमाल ना करें। आप पढ़ाई को इंटरेस्टिंग बनाने के लिए तरह–तरह की चीजों का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर बच्चा ज्यादा छोटा है तो उसे अबेकस की मदद से जोड़–घटाव करना सीखा सकते हैं। इसके साथ ही आप कुछ विडियोज की भी मदद ले सकते हैं जो आसानी से किसी भी हार्ड कॉन्सेप्ट को समझा दें। आप अपने बच्चे की क्लास के हिसाब से अलग–अलग वर्कशीट और कुछ बोर्ड गेम्स का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

नींव होगी मजबूत तभी बनेगी बात

अगर बच्चे को मैथ्स से डर लग रहा है तो इसका एक कारण यह भी हो सकता है कि उसकी नींव मजबूत नहीं है। कभी भी बच्चे को मैथ्स पढ़ाने बैठें तो एक बार उससे बुनियादी कॉन्सेप्ट पर बात जरूर कर लें। अगर उसे वो कॉन्सेप्ट ना पता हो तो उसे एकदम शुरू से पढ़ाएं। याद रखें मैथ्स में किसी भी तरह का शॉर्टकट लेना समझदारी नहीं है। जब तक बच्चे की फाउंडेशन अच्छी नहीं होगी तब तक वो कहीं ना कहीं मात खा ही जाएगा।

छोटे–छोटे गोल और डेली रिवीजन है जरूरी

मैथ्स का बोझ एक पहाड़ की तरह अपने बच्चे पर ना डालें। हो सकता है कि उसे अभी काफी चीजें समझना बाकी हो और वह धीरे–धीरे सीख रहा हो। लेकिन उसपर किसी भी तरह का दबाव ना बनाएं। ऐसा करने से वह और ज्यादा मैथ्स से दूर भागेगा। रोज बच्चे के साथ मिलकर छोटे–छोटे गोल सेट करें। उनमें किसी कॉन्सेप्ट को समझना और उसकी प्रैक्टिस करना शामिल हो। इसके साथ ही उसके डेली रिवीजन पर भी ध्यान दें। अगर डेली रिवीजन नहीं होगा तो बच्चा उन कॉन्सेप्ट को भूल भी सकता है।

लेटेस्ट   Hindi News,  लोकसभा चुनाव 2024,  बॉलीवुड न्यूज,  बिजनेस न्यूज,  टेक,  ऑटो,  करियर ,और   राशिफल, पढ़ने के लिए Live Hindustan App डाउनलोड करें।

ऐप पर पढ़ें