Hindi Newsलाइफस्टाइल न्यूज़हेल्थWorld Sickle Cell Day 2024 know what is sickle cell anemia disease symptoms causes and treatment in hindi

World Sickle Cell Day 2024:क्या है सिकल सेल डिसऑर्डर? ये हैं लक्षण और बचाव के उपाय

Sickle Cell Anemia: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मानें तो हर साल करीब 3 लाख से अधिक बच्चे हीमोग्लोबिन रोग के गंभीर रूपों के साथ पैदा होते हैं, जिसमें थैलेसीमिया और सिकल सेल बीमारी शामिल है।

World Sickle Cell Day 2024
Manju Mamgain लाइव हिन्दुस्तानWed, 19 June 2024 08:35 AM
हमें फॉलो करें

Sickle Cell Anemia: हर साल दुनियाभर में 19 जून को वर्ल्ड सिकल सेल डे मनाया जाता है। विश्व सिकल सेल दिवस मनाने के पीछे का उद्धेश्य इस जेनेटिक ब्लड डिसऑर्डर के प्रति लोगों में जागरूकता बढ़ाना है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की मानें तो हर साल करीब 3 लाख से अधिक बच्चे हीमोग्लोबिन रोग के गंभीर रूपों के साथ पैदा होते हैं, जिसमें थैलेसीमिया और सिकल सेल बीमारी शामिल है।

क्या है सिकल सेल डिसऑर्डर?

सिकल सेल एक जेनेटिक ब्लड डिसऑर्डर है, जो रेड ब्लड सेल्स को प्रभावित करता है। बता दें,स्वस्थ रेड ब्लड सेल्स गोल और लचीली होते हैं,जो शरीर के सभी हिस्सों तक ऑक्सीजन को पहुंचाने में मदद करते हैं। जबकि सिकल सेल रोग के दौरान ये रेड ब्लड सेल्स क्रिसेंट शेप के आकार के और कठोर हो जाते हैं। सिकल सेल डिसऑर्डर एक ऐसी स्थिति है, जिसमें रेड ब्लड सेल की कमी होने की वजह से शरीर के हर हिस्से में ऑक्सीजन ठीक तरह से नहीं पहुंच पाता है। जिससे व्यक्ति को दर्द, थकान, संक्रमण के साथ कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

सिकल सेल डिसऑर्डर के लक्षण-

-सिकल सेल रोग का सबसे आम लक्षण है, हड्डियों, मांसपेशियों,पेट या पीठ में अचानक तेज दर्द महसूस होना।

-लोगों को अकसर थकान और कमजोरी महसूस होना।

-सिकल सेल रोग रेड ब्लड सेल्स को नष्ट कर देता है, जिससे एनीमिया रोग होता है। इससे पीड़ित व्यक्ति को त्वचा में पीलापन, सांस लेने में तकलीफ और चक्कर आने की समस्या हो सकती है।

-सिकल सेल रोग वाले लोगों में संक्रमण का खतरा ज्यादा बना रहता है।

- हाथों और पैरों में सूजन

- प्यूबर्टी या प्रौढ़ता आने में देरी

सिकल सेल डिसऑर्डर के उपाय-

सिकल सेल रोग एक जेनेटिक बीमारी होने की वजह से पूरी तरह से ठीक नहीं की जा सकती है। इस बीमारी की गिरफ्त में आने वाले बच्चे को जन्म के तुरंत बाद वैक्सीन दी जाती है। परिवार में सिकल सेल रोग का इतिहास होने पर आप जेनेटिक टेस्ट करवा सकते हैं। इसके अलावा इस बीमारी के इलाज में एंटीबायोटिक्स, इंट्रावीनस फ्लूइड, नियमित रूप से खून चढ़ाना और कई बार सर्जरी की भी जरूरत पड़ती है। इस बीमारी की उचित देखरेख की जाए तो सिकल सेल रोग को मैनेज किया जा सकता है।

लेटेस्ट   Hindi News,   बॉलीवुड न्यूज,  बिजनेस न्यूज,  टेक ,  ऑटो,  करियर ,और   राशिफल, पढ़ने के लिए Live Hindustan App डाउनलोड करें।

ऐप पर पढ़ें