फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News लाइफस्टाइल हेल्थटीवी एक्ट्रेस को हुई गले में गांठ, जानें कब हो जाता है इससे आवाज जाने का खतरा और क्या है इलाज

टीवी एक्ट्रेस को हुई गले में गांठ, जानें कब हो जाता है इससे आवाज जाने का खतरा और क्या है इलाज

Swelling In Voice Cords: गले में सूजन और दर्द होने पर इसे हल्के में ना लें। कई बार ये समस्या वॉइस बॉक्स में सूजन की वजह से होती है। जिसमे आवाज बदलने और पूरी तरह से आवाज चले जाने का खतरा रहता है।

टीवी एक्ट्रेस को हुई गले में गांठ, जानें कब हो जाता है इससे आवाज जाने का खतरा और क्या है इलाज
Aparajitaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSun, 26 Mar 2023 01:59 PM
ऐप पर पढ़ें

ये रिश्ता क्या कहलाता है में काम कर चुकीं टीवी एक्ट्रेस लता सबरवाल ने इंस्टाग्राम पर फैंस को अपने हेल्थ की अपडेट दी है। जिसमे उन्होंने बताया है कि उनके गले में सूजन हो गई थी। जिसके बाद वो डॉक्टर से मिली। डॉक्टर ने उनके वॉयस बॉक्स में गांठें बताई हैं। जिसके बाद उन्हें करीब एक हफ्ते तक ना बोलने की सलाह दी गई है। वॉयस बॉक्स में गांठों से आवाज बदलने या आवाज चले जाने का खतरा रहता है। वॉयस बॉक्स में होने वाली गांठ काफी साधारण लगती हैं। लेकिन इनसे आवाज जाने का खतरा रहता है। चलिए जानें आखिर क्यों वॉयस बॉक्स में गांठ बन जाती हैं और क्या है इसका निदान।

वॉयस बॉक्स में गांठें क्यों बन जाती हैं
वॉयस बॉक्स में गांठों को लेरिन्जाइटिस कहते हैं। इसमे वॉइस बॉक्स के अंदर सूजन हो जाती है। वॉइस बॉक्स में सूजन का कारण बहुत ज्यादा बोलना या फिर इंफेक्शन होता है। स्वर यंत्र या वॉइस बॉक्स के अंदर स्वर तंत्रियां होती है जिसने खुलने और बंद होने से वाइब्रेशन होता है और इंसान की आवाज निकलती है। जब इन स्वर तंत्रियों में सूजन आ जाती है, जिसकी वजह इंसान की आवाज बदल जाती है। 

क्या है वॉइस बॉक्स में सूजन के कारण
वॉइस बॉक्स में सूजन का कारण श्वसन तंत्र में इंफेक्शन, साधारण सर्दी-जुकाम, जरूरत से ज्यादा बोलने, गाने या चिल्लाना है। कई बार प्रदूषण, प्रदूषित हवा, स्मोकिंग का धुआं भी सूजन का कारण होता है। 

क्या है लक्षण
जब वॉइस बॉक्स में सूजन हो जाती है तो आवाज बैठ जाती है या फिर बोलते-बोलते आवाज बंद होने लगती है।
-गले में दर्द, खाना निगलने में दर्द, गले में खराश, गला सूखना, गर्दन में सूजन जैसी दिक्कत देखने को मिलती हैं।
-अगर लेरिन्जाइटिस किसी इंफेक्शन की वजह से होता है तो इंसान को बुखार आना शुरू हो जाता है। वहीं लिम्फ नोड्स में सूजन भी इसके लक्षण हो सकते हैं। 

क्या हैं उपाय
आमतौर पर गले में सूजन और वॉइस बॉक्स में सूजन होने पर आवाज को आराम देने की सलाह दी जाती है। जिससे कि सूजन कम हो सकते। वहीं घरेलू इलाज के जरिए इन ठीक करने की कोशिश की जाती है। हालांकि अगर गले में सूजन के लक्षण तीन हफ्ते तक दिखें तो डॉक्टर से सलाह लेकर दवाएं कराना चाहिए।

लेरिन्जाइटिस से बचाव
-शराब और कैफीन को कम मात्रा में पिएं।
-स्मोकिंग से दूर रहें और धूम्रपान वाली जगह पर ना जाएं। किसी दूसरे के धूम्रपान करने और धुएं के संपंर्क में आने पर भी गले में सूजन आ जाती हैं।
-गले में कफ बनने या खराश होने पर बहुत जोर लगाकर उसे साफ ना करें। इससे स्वर तंत्रियों में असामान्य सा कंपन होता है और सूजन बढ़ जाती है।
-पानी ढेर सारा पिएं। इससे गले में जमा बलगम पतला होकर आसानी से बाहर निकल सकेगा।
-खाने में फाइबर वाले अनाज. फल, सब्जियों को खाएं। विटामिन ए, ई और सी बलगम की झिल्ली को बनाए रखने में मदद करते हैं। ये झिल्ली गले को हेल्दी रखती है। 
-सांसों से होने वाले किसी भी तरह के इंफेक्शन से खुद को बचाकर रखें। 

इन घरेलू नुस्खों को आजमाएं
-गले की खराश को दूर करने के लिए खास तरह की गोलियों को चूस सकते हैं। 
-गर्म पानी में नमक या बेकिंग सोडा डालकर गरारे करें।
-तरल पदार्थ ज्यादा से ज्यादा पिएं।
-पानी ढेर सारा पिएं, ये बलगम निकालने में मदद करते हैं।
-बहुत ज्यादा जोर से चिल्लाने या बोलने से बचें।
-हवा में नमी वाली जगह पर सांस लें।
-गले को राहत देने के लिए भाप भी ली जा सकती हैं।