फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ लाइफस्टाइल हेल्थक्या है बच्चों में ब्रुक्सिज्म की समस्या? सोते समय इस खास वजह से किटकिटाते हैं बच्चे दांत

क्या है बच्चों में ब्रुक्सिज्म की समस्या? सोते समय इस खास वजह से किटकिटाते हैं बच्चे दांत

Bruxism In Kids: आपका बच्चा भी अगर रात को सोते समय अपने दांत बजाता या किटकिटाता है तो इस समस्या को अनदेखा न करें। बच्चे की यह आदत उसकी मेंटल हेल्थ से जुड़ी हो सकती है। जी हां, बच्चे की रात को दांत किट

क्या है बच्चों में ब्रुक्सिज्म की समस्या? सोते समय इस खास वजह से किटकिटाते हैं बच्चे दांत
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 03 Dec 2022 04:46 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

What Is Bruxism In Kids: आपका बच्चा भी अगर रात को सोते समय अपने दांत बजाता या किटकिटाता है तो इस समस्या को अनदेखा न करें। बच्चे की यह आदत उसकी मेंटल हेल्थ से जुड़ी हो सकती है। जी हां, बच्चे की रात को दांत किटकिटाने की आदत ब्रुक्सिज्म की समस्या कहलाती है। आइए जानते हैं आखिर क्या है ब्रुक्सिज्म के पीछे की वजह और इससे होने वाले नुकसान के बारे में। 

बच्चों के दांत किटकिटाने की वजह-
ब्रुक्सिज्म की समस्या आमतौर पर तनाव या चिंता के कारण होती है। ब्रुक्सिज्म की समस्या आमतौर पर रात को सोने के दौरान होती है, जब व्यक्ति अवचेतन में होता है। पहले यह समझा जाता था कि बच्चे का पाचन ठीक न होने के कारण ऐसा होता है मगर शोध में पाया गया कि इस समस्या का कारण बच्चे का पाचन नहीं बल्कि तनाव है।

दांत किटकिटाने से होने वाले नुकसान-
-दांत पीसने से दांत कमजोर हो जाते हैं उनपर मौजूद पर्त इनेमल नष्ट हो जाती है, जिससे बच्चों को दांतों संबंधी कई समस्याएं हो जाती हैं। 
-बच्चों में दांतों की सेंसिटिविटी यानी झनझनाहट की समस्या आम है। 
-दांतों के कमजोर होने के कारण दांत जल्दी टूटते हैं और संक्रमण से भी जल्दी प्रभावित होते हैं।
-दांत किटकिटाने से दांतों में दर्द की समस्या हो सकती है।
-लगातार दांत पीसने से दांतों का शेप बिगड़ जाता है।
-नसों में तनाव की वजह से मुंह, जबड़ों और सिर में दर्द की समस्या हो सकती है।

दांत किटकिटाने से कैसे करें बचाव-
बच्चा रात को सोते समय दांत किटकिटाता है, तो इसके पीछे तनाव एक बड़ी वजह हो सकती है। ऐसे बच्चों की गतिविधियों पर ध्यान दें। 
-बच्चे से बात करें और उनके गुस्सा, दर्द या कोई खीझ के पीछे की वजह जानने की कोशिश करें। 
-समस्या अगर लगातार बनी हुई रहती है तो डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।